'Blog' - more than 1000 न्यूज़ रिजल्ट्स
  • Blogs | प्रियदर्शन |शुक्रवार जून 18, 2021 07:04 PM IST
    आख़िरी बात- कला के लिए 'एडल्ट' या बालिग होने से ज़्यादा ज़रूरी 'मैच्योर' यानी परिपक्व होना है. कई बार लगता है, बालिग होने की हड़बड़ी में ये लोग परिपक्व होना भूल गए हैं.
  • Blogs | आनंद पटेल |शुक्रवार जून 18, 2021 01:17 PM IST
    सुनामी रूपी कोरोना काल की इस दूसरी लहर में, मैंने अपने मानसिक दबाब को प्रकृति के नजदीक रखकर कैसे दूर किया? सरकार द्वारा जब पूर्ण लॉकडाउन की तिथि की घोषणा हुई, तो उस समय चारों तरफ बहुत ही भयाभय और पीड़ादायक स्थिति निर्मित हो रही थी, क्योंकि हम सक्षम होकर भी अपने लोगों की मदद नहीं कर पा रहे थे. यह सब देखकर मेरा मन भी काफी विचलित हुआ, जिसके कारण धीरे-धीरे मानसिक तनाव की स्थिति निर्मित हुई और यह हर किसी के साथ स्वाभाविक है क्योंकि इन्सान एक प्राणी है, जो मानवीय संवेदनाओं को भलीभांति महसूस कर सकता है. घर की चार-दीवारी में कैद होकर इन्सान मन ही मन कुंठित होता रहता है और परिणाम मानसिक तनाव की स्थिति निर्मित होती है.
  • Blogs | रवीश कुमार |गुरुवार जून 17, 2021 06:50 AM IST
    भारत के पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान हैं. जब भी पेट्रोल के दाम बढ़ते हैं, हाहाकार मचता है. उसके बहुत दिनों के बाद प्रधान का बयान आता है. उनके बयान का पैटर्न ऐसा होता है कि दाम बढ़ने के प्रधान कारण का पता नहीं चलता. सिर्फ इतना पता चलता है कि ये प्रधान का बयान है. कौन सा कारण प्रधान है, ये पता नहीं चल पाता है. हमने सोचा कि उनके कई बयानों से प्रधान कारणों का पता लगाया जाए ताकि आप गर्व कर सकें कि आप 100 रुपये लीटर पेट्रोल ख़रीद रहे हैं. प्रधान के बयानों की क्रोनोलोजी देखेंगे तो कारणों की प्रधानता समझने में आसानी होगी.
  • Blogs | रवीश कुमार |गुरुवार जून 17, 2021 06:51 AM IST
    भारत के पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान हैं. जब भी पेट्रोल के दाम बढ़ते हैं, हाहाकार मचता है. उसके बहुत दिनों के बाद प्रधान का बयान आता है. उनके बयान का पैटर्न ऐसा होता है कि दाम बढ़ने के प्रधान कारण का पता नहीं चलता. सिर्फ इतना पता चलता है कि ये प्रधान का बयान है. कौन सा कारण प्रधान है, ये पता नहीं चल पाता है. हमने सोचा कि उनके कई बयानों से प्रधान कारणों का पता लगाया जाए ताकि आप गर्व कर सकें कि आप 100 रुपये लीटर पेट्रोल ख़रीद रहे हैं. प्रधान के बयानों की क्रोनोलोजी देखेंगे तो कारणों की प्रधानता समझने में आसानी होगी.
  • Blogs | उमाशंकर सिंह |बुधवार जून 16, 2021 09:54 PM IST
    एक अफ़्रीकी कहावत है 'When elephants fight, it is the grass that suffers.' अर्थात जब हाथियों की लड़ाई होती है तो ख़ामियाज़ा घास को भुगतना पड़ता है. आप सोचेंगे मैं ये कहावत क्यों सुना रहा हूं. क्योंकि ये कहावत का बिहार की मौजूदा राजनीति को सीधे-सीधे परिलक्षित करती है.
  • Blogs | एनडीटीवी |बुधवार जून 16, 2021 07:28 PM IST
    चिराग पासवान (Chirag Paswan) ने कहा कि अगर हनुमान को राम से मदद मांगनी पड़ी तो काहे का राम और काहे का हनुमान. अब जहां तक सबको इसका मतलब समझ में आ रहा है कि क्या हनुमान चिराग का अपने राम से मोहभंग हो गया है.
  • Blogs | रवीश कुमार |बुधवार जून 16, 2021 06:04 AM IST
    शांतिपूर्ण तरीके से विरोध प्रदर्शन करना ग़ैर कानूनी नहीं है और न ही आतंकी कार्रवाई है. भड़काऊ भाषण और चक्का जाम करना ऐसे अपराध नहीं हैं कि Unlawful activities prevention act (UAPA) की संगीन धाराएं लगा दी जाएं. दिल्ली हाई कोर्ट के आदेश का यह सार दिल्ली पुलिस के अलावा उन लोगों के सामने आइने की तरह खड़ा है जो सिर्फ इसी बात के लिए अभियान चला रहे थे कि नागरिकता कानून के विरोधी आतंकी साज़िश कर रहे थे. दिल्ली दंगों के साज़िशकर्ता हैं. गोदी मीडिया चैनलों के स्क्रीन के आगे बैठकर आपने जिन छात्रों के बारे में ये सब कहा या सोचा आज उन्हीं के मामले में दिल्ली हाईकोर्ट ने ये टिप्पणी करते हुए करते हुए ज़मानत दे दी.
  • Blogs | प्रियदर्शन |मंगलवार जून 15, 2021 09:12 PM IST
    'ऐसा लगता है जैसे असहमति को दबाने की अपनी फ़िक्र में, राज्य के दिमाग में वह रेखा कुछ धुंधली होती जा रही है जो विरोध के संविधान प्रदत्त अधिकार और आतंकवादी गतिविधियों के बीच होती है. अगर इस मानसिकता को बल मिलता है तो यह लोकतंत्र के लिए उदास करने वाला दिन होगा.'
  • Blogs | मनोरंजन भारती |मंगलवार जून 15, 2021 05:53 PM IST
    अब बात करते हैं कि आखिर पारस ने लोजपा पर कब्जा कैसे किया तो अब यह जग जाहिर हो गया है कि इसके रणनीतिकार नीतीश कुमार हैं जो बिहार विधानसभा चुनाव में चिराग के हमले से बौखलाए हुए थे. नीतीश कुमार ने एक तरह से लोजपा तोड़ कर चिराग के साथ-साथ बीजेपी से भी बदला ले लिया. क्योंकि बिहार चुनाव के दौरान कहा जा रहा था कि चिराग बीजेपी की शह पर ये सब कर रहे हैं.
  • Blogs | मनीष कुमार |मंगलवार जून 15, 2021 02:38 PM IST
    नीतीश कुमार- जिन पर चिराग पासवान ने बिहार चुनाव के दौरान हर रैली में हमले किए-उन्होंने अपना बदला ले लिया है.हमेशा की तरह बीजेपी ने भी एक बड़ी बढ़त हासिल की है. उसके नेताओं का कहना है कि चिराग का कद छोटा होने के साथ पार्टी ने बिहार में पासवान समुदाय की 6 फीसदी आबादी को सीधे अपने पाले में लाने की कवायद तेज कर दी है. ऐसे में लंबे वक्त में पार्टी को ऐसे किसी सहयोगी की दरकार नहीं होगी, जो उस समुदाय का वोट उसके लिए जुटाए. 
और पढ़ें »
'Blog' - 52 वीडियो रिजल्ट्स
और देखें »
 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com