NDTV Khabar
होम | आस्था

आस्था

  • Eid Ul-Fitr 2021: कोरोना वायरस के दौरान कैसे घर पर मना सकते हैं ईद, जानें- ये जरूरी बातें
    यहां जानें कोरोना वायरस लॉकडाउन के बीच आप घर पर ईद-उल-फितर 2020 का आनंद कैसे ले सकते हैं.
  • Eid-ul-Fitr 2021: आज है ईद, जानें- कैसे मनाया जाता है ये पर्व
    भारत में आज ईद मनाई जा रही है. जानिए कैसे मनाया जाता है ईद का त्योहार.
  • Akshaya Tritiya 2021: कल है अक्षय तृतीया, यहां जानें 5 पारंपरिक रीति-रिवाज
    Akshaya Tritiya 2021: हिंदू शास्त्रों के अनुसार अक्षय तृतीया साल के सबसे शुभ दिनों में से एक है. संस्कृत में, अक्षय का अर्थ शाश्वत है और तृतीया का अर्थ शुक्ल पक्ष के तीसरे दिन या पूर्णिमा के चरण से है.
  • Eid-ul-Fitr 2021: ईद के दिन अपनों को ये शानदार मैसेज भेजकर कहें ईद मुबारक
    Eid Mubarak 2021 Wishes: ईद मुस्लिम समुदाय का सबसे बड़ा त्योहार है. इसे ईद-उल फित्र और मीठी ईद भी कहा जाता है. ईद का त्योहार रमजान के महीने भर के रोज़े रखने के बाद ईद का चांद दिखने पर मनाया जाता है. ईद का त्योहार भाईचारे का प्रतीक है और इस त्योहार का जश्न 3 दिनों तक चलता है. ईद के दिन लोग सुबह ईदगाह में ईद की नमाज़ अदा करते हैं और फिर एक दूसरे को गले लगाकर ईद की मुबारकबाद देते हैं और मिठाइयां बांटकर खुशियां मनाते हैं.
  • Akshaya Tritiya 2021: 14 मई को है अक्षय तृतीया, जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और महत्‍व
    Akshaya Tritiya Shubh Muhurat:  हिन्‍दू पंचांग के अनुसार, वैशाख महीने की शुक्‍ल पक्ष तृतीया को अक्षय तृतीया मनाई जाती है. हिन्‍दू धर्म में अक्षय तृतीया को अत्‍यंत पावन, मंगलकारी और कल्‍याणकारी माना जाता है.  मान्‍यता है क‍ि इस दिन जो भी काम किया जाए उसका फल कई गुना अधिक मिलता है. इस दिन जाप, यज्ञ, पितृ-तर्पण और दान-पुण्‍य करना फलदायी होता है. 
  • Eid 2021: 13 या 14? जानें-कब है ईद, नमाज़ से सेवइयों तक ऐसे मनाया जाता है खुशियों का त्योहार
    Eid 2021 Date: ईद मुसलमानों का सबसे बड़ा त्योहार है. ईद को ईद-उल फित्र भी कहते हैं. ईद का त्योहार रमज़ान के महीने में (29 या 30) रोज़े रखने के बाद मनाया जाता है. मुस्लिम समुदाय के लोग ईद के त्योहार का जश्न पूरे 3 दिनों तक मनाते हैं. ईद के दिन मुस्लिम समुदाय के लोग नए कपड़े पहनते हैं और अल्लाह का शुक्रिया अदा करते हैं. ईद के दिन की शुरुआत ईद की नमाज के साथ होती है. इसके बाद सब एक दूसरे को गले मिलकर ईद की मुबारकबाद देते हैं. एक दूसरे के घर जाते हैं और दोस्तों और रिश्तेदारों में मिठाइयां और तोहफे बांटते हैं. सभी बड़े इस दिन अपने छोटों को तोहफे के रूप में ईदी देते हैं.
  • Vaishakh Amavasya 2021: वैशाख अमावस्या आज, इस दिन स्नान-दान का होता है विशेष महत्व
    Vaishakh Amavasya: आज वैशाख अमावस्या है. इस बार वैशाख मास की अमावस्या तिथि 11 मई मंगलवार को पड़ी है. हिंदू धर्म में अमावस्या तिथि का विशेष महत्व बताया गया है. हर महीने में अमावस्या तिथि पड़ती है. वैशाख माह हिंदू कैलेंडर का दूसरा महीना होता है. हिंदू धर्म में इस महीने का विशेष महत्व है. वहीं दूसरी ओर मंगल के दिन पड़ने की वजह से वैशाख अमावस्या को भौमवती अमावस्या भी कहा जाता है.
  • Varuthini Ekadashi 2021: कब है वरूथिनी एकादशी? व्रत करते समय इन बातों का रखें ध्‍यान
    Varuthini Ekadashi 2021: वैशाख मास की कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि  को वरूथ‍िनी एकादशी कहते हैं. वरुथिनी एकादशी व्रत भगवान विष्णु को समर्पित है. वैशाख के महीने में भगवान विष्णु की पूजा करने से विशेष पुण्य मिलते हैं. वरूथिनी शब्द संस्कृत भाषा के 'वरूथिन्' से बना है, जिसका मतलब है- प्रतिरक्षक, कवच या रक्षा करने वाला. मान्‍यता है कि इस एकादशी का व्रत करने से विष्‍णु भगवान हर संकट से भक्‍तों की रक्षा करते हैं, इसलिए इसे वरूथिनी ग्यारस कहा जाता है. 
  • गुरु तेग बहादुर के 400वें प्रकाश पर्व पर पढ़ें उनके 10 अनमोल विचार, जिंदगी में आएंगे काम
    आज के दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दिल्ली के शीश गंज गुरुद्वारा साहिब माथा टेकने पहुंचे. पीएम मोदी यहां गुरुद्वारा प्रबंधन के लोगों के साथ भी मुलाकात की. आइए इस मौके पर जानते हैं, गुरुतेग बहादुर के 10 अनमोल विचार, जो हमें आज भी प्रेरणा देते हैं...
  • Vikata Sankashti Chaturthi: आज है विकट संकष्टी चतुर्थी, जानें- तिथि और शुभ मुहूर्त
    आज विकट संकष्टी चतुर्थी (Vikata Sankashti Chaturthi) है. जिसका अर्थ है संकट को हरने वाली चतुर्थी. संकष्टी चतुर्थी का व्रत भगवान गणेश को समर्पित है.
  • Hanuman Jayanti 2021: हनुमान जयंती पर इस विधि से करें पूजा, जानिए शुभ मुहूर्त और महत्व
    Hanuman Jayanti 2021 Shubh Muhurat: आज हनुमान जयंती है. हनुमान जयंती चैत्र मास के शुक्ल पक्ष पूर्णिमा को मनाई जाती है. हनुमान जी के जन्‍मोत्‍सव को देश भर में हनुमान जयंती के रूप में मनाया जाता है. हनुमान जयंती खासतौर से उत्तर भारतीय हिंदुओं का एक लोप्रिय पर्व है. हिन्‍दू धर्म में मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम के परम भक्‍त हनुमान को संकट मोचक माना गया है. मान्‍यता है कि श्री हनुमान ने शिव के 11वें अवतार के रूप में माता अंजना की कोख से जन्‍म लिया था. हिन्‍दू मान्‍यताओं में श्री हनुमान को परम बलशाली और मंगलकारी माना गया है. मान्‍यता है कि श्री हनुमान का नाम लेते ही सारे संकट दूर हो जाते हैं और भक्‍त को किसी बात का भय नहीं सताता है.
  • Mahavir Jayanti: जानें- कैसे किया जाता है महावीर जयंती का आयोजन, क्या है पर्व की खासियत
    हिंसा, पशुबलि, जात-पात का भेद-भाव जिस युग में बढ़ गया, उसी युग में भगवान महावीर (Swami Mahavir) का जन्म हुआ. उन्होंने दुनिया को सत्य, अहिंसा का पाठ पढ़ाया. महावीर ने अहिंसा को सर्वोपरि बताया और जैन धर्म के पंचशील सिद्धांत दिए. इनमें अहिंसा, सत्‍य, अपरिग्रह, अस्‍तेय और ब्रह्म्‍चर्य शामिल हैं.
  • वैष्णो देवी धर्मस्थल पर 9 दिनों के सप्त चंडी महायज्ञ का समापन, ऐसे किए गए थे इंतजाम
    नवरात्र के दौरान माता वैष्णोदेवी गुफा पर आयोजित नौ दिनों के सप्त चंडी महायज्ञ का बुधवार को रामनवमी के पावन अवसर पर समापन हो गया. श्री माता वैष्णोदेवी श्राइन बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रमेश कुमार एवं बोर्ड के अन्य कर्मियों एवं श्रद्धालुओं ने इस मौके पर वैदिक मंत्रोच्चार के बीच कराये गये धार्मिक अनुष्ठान में हिस्सा लिया.
  • कोरोना का कहर: ओडिशा की राजधानी में सभी धार्मिक स्थल जनता के लिए हुए बंद
    ओडिशा की राजधानी भुवनेश्वर में एक दिन में कोरोना वायरस संक्रमण के 581 नए मामले सामने आने के बाद स्थानीय नगर पालिका अधिकारियों ने बुधवार से सभी धार्मिक स्थलों को अगले आदेश तक बंद किए जाने की घोषणा की.
  • Ram Navami 2021: राम नवमी आज, जानिए पूजा करने का सही तरीका और शुभ मुहूर्त
    Ram Navami Puja Vidhi: हिन्‍दू पौराणिक मान्‍यताओं के अनुसार चैत्र माह की शुक्‍ल पक्ष की नवमी को राम नवमी का त्योहार मनाया जाता है. मान्‍यता है कि चैत्र माह की शुक्‍ल पक्ष की नवमी तिथि को श्री हरि विष्‍णु के अवतार श्री राम ने मनुष्‍य के रूप में जन्‍म लिया था. उनके जन्‍मोत्‍सव को दुनिया भर में राम नवमी के रूप में मनाया जाता है. भगवान राम हिंदू धर्म में पूजनीय ईश्वर हैं, जिनका वर्णन पवित्र हिंदू महाकाव्य रामायण में किया गया है. राम नवमी के अवसर पर भगवान राम की पूजा और प्रार्थना की जाती है. राम नवमी इस बार 21 अप्रैल को मनाई जा रही है.
  • Ram Navami 2021 Wishes: राम नवमी पर इन खास शुभकामना संदेश को भेजकर अपनों को दें बधाई
    Happy Ram Navami 2021 Wishes: देश भर में आज 21 अप्रैल को राम नवमी का पर्व मनाया जा रहा है. चैत्र नवरात्रि के आखिरी दिन राम नवमी मनाई जाती है. माना जाता है कि इसी दिन भगवान विष्णु ने अयोध्या के राजा दशरथ की पहली पत्नी कौशल्या की कोख से भगवान श्री राम के रूप में जन्म लिया था. इसी कारण दुर्गा के नौवें रूप की पूजा के साथ इस दिन भगवान राम की पूजा भी की जाती है. हिन्‍दू मान्‍यताओं में भगवान राम को सृष्टि के पालनहार श्री हरि विष्‍णु का सातवां अवतार माना जाता है.
  • Chaitra Navratri 2021, Day 8: महागौरी को समर्पित है अष्‍टमी का दिन, जानिए पूजा विधि और महत्व
    Chaitra Navratri 2021, Day 8: नवरात्रि के आठवें दिन को दुर्गा अष्टमी या महाअष्टमी भी कहा जाता है. इस बार चैत्र नवरात्रि की अष्टमी तिथि 20 अप्रैल 2021 के दिन यानी आज है. इस दिन मां दुर्गा के आठवें स्‍वरूप महागौरी की पूजा करने का विधान है. महागौरी की पूजा अत्‍यंत कल्‍याणकारी और मंगलकारी होती है. मान्‍यता है कि जो भक्त सच्‍चे मन से महागौरी की पूजा करते हैं को उनके सभी संचित पाप नष्‍ट हो जाते हैं और उन्हें अलौकिक शक्तियां प्राप्‍त होती हैं. 
  • Navratri Kanya Pujan 2021: अष्टमी और नवमी पर इस शुभ मुहूर्त पर करें कन्या पूजन, जानिए विधि और महत्व
    Kanya Pujan 2021 Shubh Muhurat: नवरात्रि के नौ दिनों में मां दुर्गा के अलग-अलग नौ स्‍वरूपों की भक्त आराधना करते हैं. उत्तर भारत में खासतौर पर भक्‍त मां दुर्गा की विशेष कृपा पाने के लिए इन नौ दिनों में व्रत रखते हैं. चैत्र नवरात्रि का आज आठवां दिन यानी अष्‍टमी है. नवरात्रि की अष्टमी और नवमी तिथि के दिन कन्‍या पूजन करने का व‍िशेष महत्‍व है. कुछ लोग अष्टमी के दिन कन्या पूजन करते हैं तो कुछ नवमी के दिन. वहीं, जो लोग नवरात्रि के नौ दिनों तक व्रत नहीं रख पाते हैं, वे भी अष्‍टमी या दुर्गाष्‍टमी का व्रत रखते हैं और कंजक पूजा भी करते हैं.
  • Chaitra Navratri 2021, Day 7: नवरात्रि का सातवां दिन आज, महासप्‍तमी पर इस विधि से करें मां कालरात्रि की पूजा
    Chaitra Navratri 2021, Day 7: आज नवरात्रि का सातवां दिन यानी महा सप्तमी है. नवरात्रि के सातवें दिन मां दुर्गा के सातवें स्‍वरूप कालरात्रि की पूजा की जाती है. नवरात्रि में सप्तमी तिथि का विशेष महत्व बताया गया है. मान्‍यता है कि मां कालरात्रि ही वह देवी हैं, जिन्होंने मधु कैटभ जैसे असुर का वध किया था. माना जाता है कि महा सप्‍तमी के दिन पूरे विधि-विधान से कालरात्रि की पूजा करने पर मां अपने भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण करती हैं.
  • लिंगराज मंदिर श्रद्धालुओं के लिए बंद, भगवान जगन्नाथ के दर्शन से पहले करानी होगी जांच
    ओडिशा की राजधानी भुवनेश्वर स्थित प्रसिद्ध लिंगराज मंदिर को कई सेवादारों के कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जाने के बाद रविवार को आम श्रद्धालुओं के लिए बंद कर दिया गया. भुवनेश्वर नगर निगम ने हालांकि कहा कि वह सुनिश्चित करेगा कि यह शिव मंदिर नियमित अनुष्ठानों के लिए खुला रहे और केवल सेवादारों को ही इस दौरान प्रवेश की अनुमति होगी.
12345»

Advertisement

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com