NDTV Khabar
होम | फैक्‍ट फाइल

फैक्‍ट फाइल

  • अभी टला नहीं है कोरोना का खतरा, COVID नियमों में हीलाहवाली पर बिहार के CM ने लोगों को चेताया; 10 बातें
    देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) की दूसरी लहर सुस्त पड़ती दिख रही है. मई महीने के शुरुआत में जहां रोजाना करीब 4 लाख मामले सामने आ रहे थे अब इनकी संख्या घटकर एक लाख के नीचे आ गई है. साथ ही कोविड-19 से होने वाली मौतों की संख्या में भी गिरावट दर्ज की जा रही है. हालांकि, खतरा अब भी टला नहीं है. कई जगहों पर लोगों ने कोविड प्रोटोकॉल का सही से पालन नहीं करने की खबरें सामने आ रही हैं. दिल्ली, महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश समेत अन्य राज्यों में कोरोना का ग्राफ नीचे आ रहा है. इसके मद्देनजर राज्यों ने कोरोना कर्फ्यू और लॉकडाउन जैसी पाबंदियों में धीरे-धीरे ढील देने शुरू किया है.  
  • पीएम मोदी बोले- राज्यों को पता चल गया कि वैक्सीन पाने में कितनी कठिनाई, जानिए संबोधन की 10 बड़ी बातें
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार शाम को राष्ट्र के नाम संबोधन दिया. पीएम मोदी ने इस संबोधन में खासकर राज्यों के केंद्र की वैक्सीनेशन नीति को लेकर की गई आलोचना पर खुलकर अपनी बात रखी. पीएम मोदी ने कहा कि राज्यों ने ही कहा था कि उन्हें वैक्सीन खरीद और टीकाकरण करने का अधिकार दिया और युवाओं को भी वैक्सीन लगाई जाए. लेकिन उन्हें इस अभियान की अड़चन और कठिनाइयों का अहसास अब हो गया है.
  • लक्षद्वीप में विरोध की बयार: घर से लेकर समुद्र के भीतर तक प्रदर्शन कर रहे हैं लोग, 10 बातें
    अरब सागर में स्थित लक्षद्वीप में प्रशासक प्रफुल्ल पटेल के हालिया कदमों और प्रशासनिक सुधारों का स्थानीय लोग पिछले कुछ दिन से विरोध जारी है, इसी कड़ी में आज 12 घंटों की भूख हड़ताल की जा रही है. विरोध प्रदर्शन के तहत लोग अपने घरों के बाहर पोस्टर और बैनर चिपका रहे हैं, जो जिस स्थिति में विरोध दर्ज करा सकता है वह ऐसा करता हुआ दिखाई दे रहा है. जहां कुछ लोग घरों पर अपना विरोध प्रदर्शन चारपाई पर लेटकर दर्ज करा रहे हैं तो कुल लोग समुद्र के किनारे हाथों में बैनर और पोस्टर लिए बैठे हैं. वहीं कुछ लोग समुद्र के भीतर भी विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं अपने कदमों को सही बताते हुए प्रफुल्ल पटेल का मानना है कि उनके इन फैसलों से लक्षद्वीप भी मालदीव की तरह एक प्रमुख पर्यटक स्थल बनेगा. इस द्वीप को पर्यटकों को आकर्षक करने के अनुरुप ही विकसित किया जा रहा है. लेकिन इसके विरोध में स्थानीय लोग अपने घरों और दुकानों के बाहर विरोध दर्ज करा रहे हैं.
  • कोरोना की दूसरी लहर सुस्त पड़ने के बाद UNLOCK की राह पर देश, जानें किस राज्य में ढील, कहां पाबंदियां
    देश में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के कुछ सुस्त पड़ने के बाद आज से कई राज्यों में लॉकडाउन में रियायतें दी गई हैं. जून में कई राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों ने लॉकडाउन में ढील देना शुरू किया है, जहां मध्य अप्रैल में कोविड की दूसरी लहर के बाद सबसे पहले लॉकडाउन पाबंदियां लगाये जाने लगी थी. हालांकि, केंद्र ने आगाह किया है कि अनलॉक की प्रक्रिया धीमी हो और कोविड प्रोटोकॉल का सख्ती से पालव कराना जरूरी होगा. नीति आयोग के सदस्य (हेल्थ) वी के पॉल ने पिछले सप्ताह कहा था कि प्रमुख लोगों द्वारा पेश किये गये संभावित तस्वीरों के बारे में जो भी हमें जानकारी मिली है, उसके हिसाब से कोविड संक्रमण के मामलों में गिरावट आएगी और जून बहुत बेहतर होगा लेकिन चिंता है कि जब हम खोलेंगे तब हमारा आचरण कैसा हो क्योंकि वायरस कहीं गया नहीं है.’’ दिल्ली में जहां आज से बाजार और मॉल, ऑड-ईवन के आधार पर खुल रहे हैं तो वहीं दिल्ली मेट्रो 50 फीसदी क्षमता के साथ चलने लगी हैं. महाराष्ट्र में भी 18 जिलों में छूट दी गई है, उत्तर प्रदेश में भी 71 जिलों में कोरोना कर्फ्यू पूरी तरह से हटा दिया गया है. तो चलिए जान लेते हैं कि देश में कहां कहां आज से पाबंदियां को हटाया जा रहा है.
  • कहां से आया कोरोनावायरस और क्या है इसकी जांच में भारत का लिंक? 10 बड़ी बातें
    दुनियाभर के 180 से ज्यादा देशों ने COVID-19 के खौफ को महसूस किया है. अभी तक 17 करोड़ से ज्यादा लोग इस महामारी की चपेट में आ चुके हैं और 37 लाख से ज्यादा मरीजों की मौत हो चुकी है. वायरस से बचाव के लिए तमाम देशों में टीकाकरण अभियान चल रहा है. जैसा कि साल 2019 में कोरोनावायरस (Coronavirus) की उत्पत्ति को लेकर सामने आया था कि यह चीन के वुहान से फैला था. किसी ने कहा कि यह जानवर से इंसानों में फैला और किसी ने कहा कि यह वुहान की लैब से फैलाया गया. साजिश से जुड़ी इन खबरों के एक साल के बीच आखिर हम यहां कैसे पहुंचे?
  • ब्रिटेन में घातक बना डेल्‍टा वेरिएंट, ज्‍यादा लोग अस्‍पताल में हो रहे भर्ती, 10 बातें
    कोविड-19 का डेल्‍टा वेरिएंट, जो सबसे पहले भारत में पाया गया था, ब्रिटेन में भी कहर बनकर सामने आया है. देश के वैज्ञानिकों का कहना है कि इस वेरिएंट के कारण देश की अस्‍पतालों में पहले की तुलना में अधिक लोगों को अस्‍पताल पहुंचना पड़ सकता है.
  • Monetary Policy: RBI ने GDP अनुमान में की कटौती, इन सेक्टरों के लिए इकॉनमी में डाला जाएगा पैसा
    केंद्रीय रिजर्व बैंक की मॉनेटरी पॉलिसी कमिटी ने शुक्रवार को नई मौद्रिक नीति का ऐलान कर दिया. नरम मौद्रिक नीति बनाए रखने का भरोसा देते हुए रिजर्व बैंक ने शुक्रवार को अपनी नीतिगत दर रेपो को चार प्रतिशत के मौजूदा स्तर पर बनाए रखा है. वहीं, कोरोना की दूसरी लहर से प्रभावित हुई अर्थव्यवस्था की गति को देखते आरबीआई ने जीडीपी ग्रोथ के अनुमान को भी घटा दिया है. हेल्थ सेक्टर के लिए पहले लिक्विडिटी फैसिलिटी दी गई थी. इसी लाइन में इस बार टूरिज्म और होटल-रेस्टोरेंट सेक्टर को भी फंड की उपलब्धता के लिए लिक्टिडिटी डालने की घोषणा की गई है. 
  • किराये के मकान के लिए 2 माह का एडवांस देना होगा,60 दिन में निपटेंगे विवाद, जानिए नए कानून की 10 बड़ी बातें
    केंद्र सरकार ने मॉडल टेनेंसी ऐक्ट यानी आदर्श किराया कानून (Model Tenancy Act) को मंजूरी दे दी है. इस कानून के बाद देश में किराये पर मकान या व्यावसायिक संपत्ति लेना आसान होगा. साथ ही किरायेदारी (Rental Property) से जुड़े कानूनी विवाद भी कम हो जाएंगे. जानिए नए कानून की क्या बारीकियां हैं, जो मकान मालिक (Landlords), प्रापर्टी डीलर (Property Dealer), बिल्डर या किरायेदार को जानना जरूरी हैं. माना जा रहा है कि इस नए कानून से देश भर में खाली पड़े एक करोड़ के करीब घरों को किराये पर देने का रास्ता साफ होगा. इससे महानगरों (Rental Market) में सस्ते किराये के मकानों के लिए भटक रहे लोगों को आसानी होगी. साथ ही कानूनी विवाद या कब्जे के डर से मकान किरायेदारों (Tenants) को न देने की हिचक खत्म होगी.
  • ''मूक दर्शक बनकर नहीं रह सकते'' : वैक्‍सीन पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश की 5 खास बातें
    केंद्र सरकार की 18 से 44 वर्ष के लोगों के लिए पेड वैक्‍सीनेशन की पॉलिसी मनमानीपूर्ण और अतार्किक है. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने केंद्र सरकार (Central Government) की नीति पर कठिन सवाल उठाते हुए यह बात कही है. SC ने केंद्र को निर्देश दिया कि वह कोविड-19 टीकाकरण नीति पर अपनी सोच दर्शाने वाले प्रासंगिक दस्तावेज, फाइल नोटिंग रिकॉर्ड पर रखे.यह भी कहा गया है कि कोविड-19 के समस्त टीकों की खरीद का ब्योरा देते हुए वह पूरे आंकड़े पेश करे.
  • CBSE-ICSE 12वीं क्लास के एग्जाम रद्द,लेकिन मूल्यांकन प्रक्रिया, राज्यों की बोर्ड परीक्षा समेत कई सवालों का जवाब बाकी
    CBSE-ICSE 12th class Board exam canceled :सोशल मीडिया से लेकर तमाम मंचों पर छात्र, अभिभावक, शिक्षक या कोचिंग संस्थानों की ओर से सवाल किए जा रहे हैं. अगर इंटरनेट एसेसमेंट के लिए नया फार्मूला तय होता है तो क्या सभी पक्ष उस पर सहमत होंगे. छात्रों का कहना है कि अभी उनका तनाव खत्म नहीं हुआ है. सीबीएसई का एसेसमेंट फार्मूला सामने आने के बाद ही पता चलेगा कि उन्हें फायदा होगा या नुकसान.
  • कोरोना: इन राज्यों में बढ़ा लॉकडाउन, आज से धीरे-धीरे अनलॉक होगी दिल्ली, UP में पाबंदियों में कुछ राहत; 10 बातें
    देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) के नए मामले की रफ्तार भले की कम हो गई है, लेकिन खतरा अब भी पूरी तरह से टला नहीं है. कोरोना के नए मामले में तो घटे हैं, लेकिन मृतकों की संख्या अब भी चिंता का विषय है. ऐसे में कई राज्यों ने लॉकडाउन और कोरोना कर्फ्यू बढ़ा दिया है जबकि कुछ राज्यों ने पाबंदियों में ढील देना शुरू किया है. महाराष्ट्र, हरियाणा, ओडिशा समेत अन्य राज्यों ने लॉकडाउन बढ़ाने का फैसला किया है. वहीं दिल्ली, उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों ने पाबंदियों में ढील देना शुरू किया है. कोरोना की तीसरी लहर आने का भी अंदेशा जताया जा रहा है. जिसे लेकर राज्यों में तैयारियां शुरू कर दी हैं.  
  • Lockdown Last Date : दिल्ली के बाद UP समेत ये राज्य 1 जून से दे सकते हैं लॉकडाउन में छूट,जानिए अपने राज्य का हाल...
    दिल्ली और उत्तर प्रदेश समेत 10 से ज्यादा राज्यों में लॉकडाउन (Delhi Lockdown News) का एक माह से ज्यादा वक्त हो गया है. दिल्ली ने पहले ही 1 जून से निर्माण और फैक्ट्री गतिविधियां शुरू होंगी. यूपी (UP Lockdown News) समेत कई राज्यों ने संकेत दिया है कि वो 1 जून से लॉकडाउन में छूट दे सकते हैं. जबकि पंजाब (Punjab Lockdown News), राजस्थान (Rajasthan Corona News) समेत कई राज्यों ने जून के पहले हफ्ते के आगे कोरोना से जुड़ी पाबंदियां बढ़ा दी हैं. ऐसे में अगर आप भी जून में किसी यात्रा का प्लान बना रहे हैं तो जान लीजिए कि आपके राज्य में पाबंदियां बढ़ेंगी या ढील मिलेगी.
  • चक्रवाती तूफान यास का असर, बिहार और झारखंड में तेज हवाएं और बारिश, 10 बातें
    Cyclone Yaas Updates: चक्रवाती तूफान ‘यास’ के बुधवार को देश के पूर्वी तटों से टकराने के बाद भारी बारिश हुई. बुधवार रात 'यास' 75 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार की हवाओं और भारी बारिश के साथ झारखंड की सीमा में पहुंच गया. चक्रवात के दौरान 145 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तूफानी हवाएं चलने से कई मकान क्षतिग्रस्त हो गये, खेतों में पानी भर गया. इस चक्रवात ने बंगाल और ओडिशा में जमकर तबाही मचाई. ज्यादातर इलातों में लगातार बारिश के कारण बाढ़ जैसे हालात हो गए हैं. अब बिहार और झारखंड में भी मुसीबते बढ़ती हुई दिखाई दे रही हैं. प्राप्त जानकारी के अनुसार यास ने पश्चिम बंगाल में जहां तीन लाख घरों को नुकसान पहुंचाया है तो वहीं ओडिशा में कई इलाकों में बाढ़ जैसे हालात हो गए हैं. चक्रवात के कारण ओडिशा, पश्चिम बंगाल ओर झारखंड में 21 लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया. अपराह्र में तटों से टकराने के बाद तूफान कमजोर पड़ गया था. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि ‘ताउते’ के बाद एक सप्ताह के भीतर देश के तटों से टकराने वाला ‘यास’ दूसरा चक्रवाती तूफान है.
  • कमजोर पड़ा चक्रवाती तूफान 'यास', बंगाल में 3 लाख घर क्षतिग्रस्त, 10 बड़ी बातें
    उत्तर ओडिशा (Odisha) और पड़ोसी पश्चिम बंगाल (West Bengal) में 130-145 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाओं के साथ समुद्र तटों से टकराने के बाद बुधवार की अपराह्र भीषण चक्रवाती तूफान ‘यास’ (Yaas Cyclone) कमजोर पड़ गया है. तूफान के कारण इन दो पूर्वी राज्यों में निचले इलाकों में पानी भर गया. अधिकारियों ने यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि चक्रवात ओडिशा के भद्रक जिले में धामरा के उत्तर और बहनागा ब्लॉक के निकट बालासोर से 50 किलोमीटर दूर तट पर लगभग सुबह 9 बजे टकराया. उन्होंने बताया कि चक्रवात के पहुंचने की प्रक्रिया अपराह्र एक बजकर 30 मिनट पर पूरी हुई.
  • कमजोर पड़ी कोरोना की दूसरी लहर? नए केस घटे, सिर्फ मई में अब तक करीब 1 लाख मौतें; 10 बातें
    देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) के नए मामलों में लगातार कमी देखी जा रही है. मई की शुरुआत में जहां कोविड-19 के नए मामले चार लाख से ऊपर आ रहे थे, अब दो लाख के आसपास आ गए हैं. हालांकि, कोरोना से जान गंवाने वाले लोगों की संख्या अब भी चिंता का विषय बनी हुई है. पिछले 24 घंटों में साढ़े तीन हजार से ज्यादा मरीजों की मौत हुई है. दूसरी ओर, महामारी के खिलाफ देश में चल रहे वैक्सीनेशन अभियान के मोर्चे पर भी समस्या देखने को मिल रही है. दिल्ली समेत कई राज्यों ने वैक्सीन की कमी का मुद्दा उठाया है. 
  • Cyclone Yaas: चक्रवात यास आज उत्तर ओडिशा में देगा दस्तक, कोलकाता एयरपोर्ट से बंद रहेंगी उड़ानें
    चक्रवात यास (Cyclone Yaas) कल दोपहर ओडिशा (Odisha) तट पर धामरा बंदरगाह और बालासोर के बीच 185 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से दस्तक दे सकता है. इसके बंगाल (West Bengal) से भी गुजरने की उम्मीद है. दोनों राज्य हाई अलर्ट पर हैं. चक्रवात की गंभीरता को देखते हुए कोलकाता एयरपोर्ट से सभी उड़ानों को निलंबित कर दिया गया है. कोलकाता एयरपोर्ट की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक एयरपोर्ट से 26 मई की सुबह 8.30 बजे से शाम 7.45 बजे तक सभी उड़ानें निलंबित रहेंगी. आइये आपको बताते हैं इस चक्रवात से जुड़ी 10 बड़ी बातें..
  • वैक्सीन पर SII के दावे से सवालों के घेरे में सरकार? ब्लैक फंगस से लड़ने के लिए देश ने कसी कमर, 10 बातें
    देश में कोरोनावायरस (Coronavirus) से बचाव के लिए टीकाकरण अभियान (Vaccination Drive in India) जारी है. कई राज्यों में टीके की किल्लत की खबरें भी सामने आ रही हैं. इस बीच सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) के एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर सुरेश जाधव की तरफ से पहली बार इसको लेकर बयान आया है. वहीं दूसरी तरफ ब्लैक फंगस के बढ़ते खतरे के बीच इसकी दवाई की किल्लत नई चुनौती बनकर उभरी है. जिसके चलते शुक्रवार को सरकार ने पांच नए फर्मों को इन दवाओं के प्रोडक्शन के लिए आपात लाइसेंस जारी किया है. साथ ही जो फर्म ये दवाएं बना रहे हैं उन्हें प्रोडक्शन बढ़ाने की अनुमति भी दी गई है. इसके अलावा इधर डीआरडीओ ने कोरोना से लड़ने के लिए एंटीबॉडी डिटेक्शन किट तैयार किया है. इसे दिल्ली के वैनगार्ड डायग्नॉस्टिक्स के सहयोग से विकसित किया गया है. DIPCOVAN किट के ज़रिए ये पता लगाया जा सकता है कि इंसान के शरीर में कोरोना से लड़ने के लिए ज़रूरी एंटीबॉडी या प्लाज़्मा है या नहीं. इस किट को 1000 से ज़्यादा मरीज़ों पर टेस्ट किया जाएगा.
  • Cyclone Tauktae: कमजोर पड़ा चक्रवात 'ताउते', गुजरात में तीन, महाराष्ट्र में 6 लोगों की मौत, 10 बातें
    गुजरात में दो दशक के सबसे भयंकर तूफान चक्रवात ताउते (Cyclone Tauktae) ने सोमवार रात को दस्तक दी. दक्षिण पश्चिम राज्यों में चक्रवाती तूफान ताउते कहर बनकर टूटा है. इस दौरान 190 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलीं.  जिससे गुजरात में लैंडफॉल हुआ, बिजली आपूर्ति चरमरा गई, कई पेड़ उखड गए और कई घरों को भीषण नुकसान पहुंचा. मौसम विभाग ने अपने एक ट्वीट में कहा कि चक्रवात कमजोर हो रहा है. 
  • Cyclone Tauktae:विकराल बन चुका तूफान ताउते कुछ ही घंटों में पहुंचेगा गुजरात, कर्नाटक में 6 मरे
    Cyclone Tauktae: केरल, कर्नाटक और गोवा के तटीय इलाकों में रविवार को तबाही मचाने के बाद चक्रवात ‘ताउते’ उत्तर में गुजरात की ओर बढ़ रहा है. इस बीच महाराष्ट्र के तटीय इलाकों में तेज हवाओं के साथ ही हल्की बारिश हुई और समुद्र में ऊंची लहरें उठीं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने सोमवार को चक्रवाती तूफान ‘‘ताउते'' के कारण महाराष्ट्र (Maharashtra) में उत्पन्न स्थिति के मद्देनजर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) से चर्चा की और ताजा स्थिति की जानकारी ली.कर्नाटक (Karnataka) में चक्रवात ताउते की वजह से प्रभावित तटीय और मलनाड जिले में अब तक छह लोगों की मौत हो गई. बयान में बताया गया कि 547 लोगों को अब तक उनके संबंधित स्थानों से निकाला गया है और चक्रवात से लोगों को बचाने के लिए यहां खोले गए 13 राहत शिविरों में 290 लोग शरण लिए हुए हैं.
  • तूफान तौकते:गुजरात और महाराष्ट्र में कोरोना मरीज सुरक्षित स्थान पर भेजे गए,कर्नाटक-केरल में नुकसान
    Cyclone ​​Tauktae: गुजरात के तटीय इलाकों की ओर बढ़ रहा चक्रवाती तूफान ‘तौकते’ (CycloneTauktae) ने रौद्र रूप धारण कर लिया है. गुजरात और महाराष्ट्र के तटीय इलाकों में तमाम अस्पतालों से कोरोना के मरीजों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया है. भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने रविवार को ये चेतावनी जारी की है. आईएमडी के अनुसार, तौकते तूफान के 17 (मई) की शाम तक गुजरात तट पर पहुंचने की संभावना है. यह 18 मई को तड़के पोरबंदर और भावनगर जिले में महुवा के बीच से गुजरात के तट को पार करेगा. गुजरात और दमन एवं दीव के लिए भी येलो अलर्ट जारी किया गया है. तौकते के कारण कर्नाटक में तमाम घर और नावें के साथ 271 बिजली के खंभे गिर गए. साथ ही एक व्यक्ति की मौत हो गई. केरल में भारी बारिश से अलपुझा समेत कई जिलों में घरों में पानी घुस गया.
12345»

Advertisement

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com