विज्ञापन
Story ProgressBack

इस वजह से बढ़ रहे हैं युवाओं में बवासीर, फिस्टुला और फिशर के मामले, जानिए बचाव के तरीके : डॉक्टर

बवासीर और फिशर से पीड़ित लोगों को गुदा क्षेत्र के आसपास दर्द या सूजन हो सकती है. इसके चलते मल त्यागने में परेशानी होती है. उसे खुजली, जलन, मलाशय से ब्लीडिंग और बैठने में कठिनाई का सामना करना पड़ता है.

इस वजह से बढ़ रहे हैं युवाओं में बवासीर, फिस्टुला और फिशर के मामले, जानिए बचाव के तरीके : डॉक्टर
बवासीर और फिशर से पीड़ित लोगों को गुदा क्षेत्र के आसपास दर्द या सूजन हो सकती है.

डॉक्टरों का कहना है कि जंक फूड के सेवन और निष्क्रिय जीवन शैली के कारण 18 से 25 साल की आयु के युवाओं में दर्दनाक बवासीर, फिस्टुला और फिशर के मामले बढ़ रहे हैं. बवासीर और फिशर से पीड़ित लोगों को गुदा क्षेत्र के आसपास दर्द या सूजन हो सकती है. इसके चलते मल त्यागने में परेशानी होती है. उसे खुजली, जलन, मलाशय से ब्लीडिंग और बैठने में कठिनाई का सामना करना पड़ता है. फिस्टुला गुदा के पास एक असामान्य छिद्र होता है जो गुदा नलिका के अंदर से जुड़ता है. यह आमतौर पर चोट, सर्जरी, संक्रमण या गुदा ग्रंथियों की सूजन जैसे कारकों के कारण होता है. गुदा क्षेत्र में दर्द, सूजन, गुदा के आसपास की त्वचा में जलन, ब्लीडिंग और मल त्याग के दौरान असुविधा इसके प्रमुख लक्षण हैं.

यह भी पढ़ें: मोटापा और बाहर निकले पेट वालों के लिए 9 वेट लॉस हैक्स, महीनेभर में अंदर होने लगेगा पेट और गायब होगा फैट

बवासीर के कारण:

अपोलो स्पेक्ट्रा मुंबई के जनरल सर्जन लैकिन वीरा ने बताया, "बवासीर तब होती है जब गुदा के अंदर और बाहर की नसें सूज जाती हैं और बड़ी हो जाती हैं. यह स्थिति अब मोटापे, गर्भावस्था, कम फाइबर वाली डाइट, कब्ज, दस्त, भारी वस्तुओं को उठाने और मल त्याग के दौरान तनाव के कारण 25-55 साल के वयस्कों में देखी जाती है."

फिशर, गुदा या गुदा नलिका की परत में दरार के कारण ऐसा होता है. यह समस्या मल त्याग के दौरान कब्ज और अल्सरेटिव कोलाइटिस के कारण होती है.

सर्जन लैकिन वीरा ने कहा, "पिछले 2-3 महीनों में हमारे पास लगभग 50 मरीज बवासीर और फिस्टुला की शिकायत लेकर आए हैं. फिशर के मरीजों की संख्या 80 से ज्यादा है. लगभग 60 प्रतिशत पुरुष और 40 प्रतिशत महिलाएं फिस्टुला और बवासीर से पीड़ित हैं. जबकि 70 प्रतिशत महिलाएं और 30 प्रतिशत पुरुष फिशर से पीड़ित हैं."

यह भी पढ़ें: दांतों पर जमी पीली परत को हटाकर, सफेद चमकदार बनाने के लिए करें बस ये एक काम, हफ्तेभर में दिखेगा असर

लगातार बढ़ रहे हैं मामले:

डॉक्टर ने कहा, "पिछले सालों की तुलना में इन स्थितियों में कुल मिलाकर 10 प्रतिशत से ज्यादा की वृद्धि हुई है. हाल ही में जंक फूड के सेवन के कारण 18-25 आयु वर्ग के लोगों में यह बीमारी ज्यादा देखने को मिल रही है."

ज़िनोवा शाल्बी अस्पताल में लेप्रोस्कोपिक और जनरल सर्जन हेमंत पटेल ने आईएएनएस को बताया, "बवासीर, फिस्टुला और फिशर के मामले युवाओं में बढ़ रहे हैं. इनमें ज्यादातर पुरुष हैं. पिछले कुछ सालों में इन रोगियों की संख्या में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है", उन्होंने बताया कि वे प्रतिदिन ऐसी स्थिति वाले 5-6 रोगियों को देखते हैं.

यह भी पढ़ें: मिनटों में घर पर बनाएं एंटी एजिंग नाइट क्रीम, एक्सपर्ट शहनाज हुसैन से सीखें बनाने का आसान तरीका

बवासीर से बचाव के तरीके:

हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार, बैलेंस डाइट लेना, प्रतिदिन व्यायाम करना, भोजन में फाइबर से भरपूर फूड्स को शामिल कर कब्ज को रोकना, पर्याप्त पानी पीकर हाइड्रेशन बनाए रखना, धूम्रपान और शराब का सेवन छोड़ना और मल त्याग के दौरान तनाव से बचना इस स्थिति को कम करने में मदद कर सकता है, लेकिन ने कहा, "इसके बचाव के अन्य तरीकों में दवाएं, क्रीम और सिट्ज बाथ शामिल हैं. अगर स्थिति गंभीर हो जाती है, तो व्यक्ति को लेप्रोस्कोपिक सर्जरी से गुजरना होगा."

Banana Health Benefits in Hindi | केला खाने के फायदे, जान लिए तो हो जाओगे फैन

(अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.)

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
लंबा जीवन जीना है तो ये 5 आदतें अपनानी होंगी, हर दिन और जवां नजर आएंगे आप
इस वजह से बढ़ रहे हैं युवाओं में बवासीर, फिस्टुला और फिशर के मामले, जानिए बचाव के तरीके : डॉक्टर
सामंथा प्रभु ने वायरल संक्रमण के इलाज के लिए यूज किया नेबुलाइज़र, जानिए सेहत पर कैसे डालता है असर
Next Article
सामंथा प्रभु ने वायरल संक्रमण के इलाज के लिए यूज किया नेबुलाइज़र, जानिए सेहत पर कैसे डालता है असर
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;