अब Booster Dose के तौर पर एक और वैक्सीन Corbevax को दी सरकार ने मंजूरी, जानें कौन लगवा सकता है

Corbevax Vaccine: आधिकारिक सूत्रों ने बुधवार को यह जानकारी दी. देश में ऐसा पहली बार होने जा रहा है जब पहली और दूसरी खुराक के तौर पर दिए गए टीके से अलग कोई टीका बतौर ऐहतियाती खुराक लगाया जाएगा.

अब Booster Dose के तौर पर एक और वैक्सीन Corbevax को दी सरकार ने मंजूरी, जानें कौन लगवा सकता है

Corbevax Vaccine: ये टीका फिलहाल 12 से 14 वर्ष की आयु के बच्चों को लगाया जा रहा है.

Corbevax Booster Dose: केंद्र सरकार ने उन वयस्कों को 'कॉर्बेवैक्स' टीके की बूस्टर खुराक देने को मंजूरी दे दी है, जो कोविशील्ड या कोवैक्सीन टीके की दो खुराक ले चुके हैं. आधिकारिक सूत्रों ने बुधवार को यह जानकारी दी. देश में ऐसा पहली बार होने जा रहा है जब पहली और दूसरी खुराक के तौर पर दिए गए टीके से अलग कोई टीका बतौर ऐहतियाती खुराक लगाया जाएगा. सूत्रों ने 'पीटीआई-भाषा' को बताया कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने टीकाकरण राष्ट्रीय तकनीकी परामर्श समूह (एनटीएजीआई) की सिफारिशों के आधार पर यह मंजूरी दी है.

क्या है कॉग्निटिव बिहेवियरल थेरेपी, क्यों और कैसे की जाती है? जानिए फायदे और तरीका

18 वर्ष से अधिक आयु के लोग ले सकेंगे ये टीका:

सूत्रों ने बताया, ‘‘18 वर्ष से अधिक आयु के उन लोगों को ऐहतियाती खुराक के तौर पर कॉर्बेवैक्स टीका लगाने पर विचार किया गया है, जिन्हें कोवैक्सीन या कोविशील्ड टीके की दूसरी खुराक लिए हुए छह महीने या 26 सप्ताह हो चुके हैं. इस आयु वर्ग के लोगों को पहले लगे टीके से अलग ऐहतियाती खुराक दी जाएगी.''

ये टीका पहले 12 से 14 साल के बच्चों को लगाया जा रहा है था:

गौरतलब है कि भारत का पहला स्वदेशी आरबीडी प्रोटीन सबयूनिट 'कॉर्बेवैक्स' टीका फिलहाल 12 से 14 वर्ष की आयु के बच्चों को लगाया जा रहा है.

Chemotherapy से गुजर रहे मरीजों की Diet कैसी होनी चाहिए? यहां वह सब कुछ है जो आपको जानना चाहिए

कोविड-19 कार्य समूह ने 20 जुलाई को हुई बैठक में तीसरे चरण के आंकडों की समीक्षा की थी. इसमें कोविशील्ड या कोवैक्सीन की दो खुराक ले चुके 18 से 80 वर्ष आयु के लोगों को कॉर्बेवैक्स टीका तीसरी खुराक के तौर पर दिए जाने के बाद उनकी प्रतिरोधक क्षमता पर होने वाले संभावित प्रभाव का आकलन किया गया था.

सीडब्ल्यूजी ने पाया कॉर्बेवैक्स टीका को पाया रक्षात्मक:

सूत्रों ने बताया, ‘‘ आंकड़ों की पड़ताल करने के बाद सीडब्ल्यूजी ने पाया कि कोवैक्सीन या कोविशील्ड की दो खुराक लेने वालों को तीसरी खुराक के तौर पर कॉर्बेवैक्स टीका लगाया जा सकता है, जो (वायरस से लड़ने के लिए) रिमार्केबल लेवल पर एंटीबॉडी पैदा करता है और तटस्थ आंकड़ों के मुताबिक यह रक्षात्मक भी है.''

महिलाओं के लिए 5 बेस्ट वर्कआउट्स, अपर बॉडी को करते हैं टोन और फ्लेक्सिबल

गौरतलब है कि भारत के औषधि महानियंत्रक (जीसीजीआई) ने चार जून को 18 साल या इससे अधिक आयु के लोगों को तीसरी खुराक के तौर पर कॉर्बेवैक्स टीका लगाने की अनुमति दी थी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com




(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)