विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Sep 30, 2022

Navratri 2022: व्रत के दौरान कब्ज और एसिडिटी हो तो क्या करें? इन 5 तरीकों से करें पेट का इलाज

Constipation And Acidity: इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए कुछ टिप्स हैं जिन्हें आपको ध्यान में रखना चाहिए ताकि आप त्योहारों के मौसम का खुलकर आनंद उठा सकें. पाचन संबंधी किसी भी समस्या से बचने के सरल तरीके जानने के लिए पढ़ें.

Read Time: 4 mins
Navratri 2022: व्रत के दौरान कब्ज और एसिडिटी हो तो क्या करें? इन 5 तरीकों से करें पेट का इलाज
Navratri 2022: नौ दिन शरीर को डिटॉक्सीफाई करने के लिए एक सही समय है.

How To Treat Constipation: नवरात्रि का अर्थ है उत्सव और उल्लास के साथ-साथ नौ शुभ दिनों का उपवास. डाइट रिस्ट्रिक्शन के कारण कई फूड्स का सेवन नहीं किया जाता है और बहुत से लोग इस वजह से कब्ज से पीड़ित हो जाते हैं. जो लोग उपवास करते हैं वे आमतौर पर केवल ग्लूटेन-फ्री आटे के सीमित सेवन के साथ फल, नट्स और जूस का सेवन करते हैं. भले ही ये नौ दिन शरीर को डिटॉक्सीफाई करने के लिए एक सही समय है, लेकिन बहुत से लोग इस दौरान गंभीर कब्ज, एसिडिटी और अन्य गैस्ट्रिक समस्याओं से पीड़ित हो जाते हैं. इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए कुछ टिप्स हैं जिन्हें आपको ध्यान में रखना चाहिए ताकि आप त्योहारों के मौसम का खुलकर आनंद उठा सकें. पाचन संबंधी किसी भी समस्या से बचने के सरल तरीके जानने के लिए पढ़ें.

नवरात्रि में कब्ज और एसिडिटी को दूर रखने के उपाय | Remedies To Keep Constipation And Acidity Away During Navratri

1) खूब पानी पिएं

जब आप उपवास कर रहे होते हैं, तो शरीर को हाइड्रेट करने के लिए ढेर सारा पानी पीना जरूरी होता है. साथ ही सभी अंगों के सुचारू कामकाज के लिए इसे तरल चीजों से रिचार्ज करना होता है. रोजाना तीन से चार लीटर पानी पीने की सलाह दी जाती है जो आसान पाचन में मदद करता है और कब्ज और सूजन को रोकता है.

Vitamin B12 Deficiency: शरीर के ये 5 अंग देते हैं विटामिन बी12 की कमी का संकेत, लक्षण दिखने पर खाएं ये फूड्स

2) प्रोबायोटिक्स खाएं

ऐसे फूड्स का सेवन करें जो न केवल पौष्टिक हों बल्कि ऊर्जा और शक्ति प्राप्त करने और अंगों को अच्छी तरह से काम करने में भी मदद करें. प्रोबायोटिक्स आंत के सुचारू कामकाज के लिए जरूरी हैं जो मेटाबॉलिज्म को हाई रखता है. गैस्ट्रिक स्वास्थ्य में वृद्धि के लिए नवरात्रि का उपवास करते समय दिन में दो बार दही से भरा कटोरा लें.

3) बहुत सारे फाइबर का सेवन करें

फल, नट्स, समक चावल और ओट्स जैसे फूड्स फाइबर से भरे होते हैं. पोषक तत्व भोजन के आसान और सुचारू पाचन में मदद करते हैं. यह गैस्ट्रिक सिस्टम को नियंत्रित करता है और आंत को स्वस्थ और मजबूत रखता है.

Vulvar cancer शरीर के किस हिस्से में होता है? जानिए क्या है वुल्वर कैंसर और इसके लक्षण

4) बहुत अधिक कॉफी या चाय से बचें

जब आप उपवास कर रहे हों, तो बहुत अधिक चाय या कॉफी पीने से बचें जो कैफीन से भरी हो. यह शरीर को डिहाइड्रेट करता है और अंगों पर दबाव डालता है. यह पाचन समस्याओं और एसिडिटी का भी कारण बनता है.

5) किशमिश का पानी पिएं

नौ दिनों के उपवास के दौरान उस पानी का सेवन जरूर करें जिसमें किशमिश रात भर भिगोई हुई हो. ये सूखे मेवे शरीर को एंटी-ऑक्सीडेंट प्रदान करने में मदद करते हैं जो संक्रमण को दूर रखने में मदद करते हैं और आंत के स्वास्थ्य और पाचन को बढ़ावा देते हैं.

हाई कोलेस्ट्रॉल को रिवर्स करने 6 नेचुरल तरीके, इन आसान उपायों से पिघल जाएगा नसों में जमा फैट

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Premarital Medical Test: जन्म कुंडली नहीं शादी से पहले मिलाएं मेडिकल कुंडली, जानिए क्यों जरूरी है ये 10 प्रीमैरिटल मेडिकल टेस्ट?
Navratri 2022: व्रत के दौरान कब्ज और एसिडिटी हो तो क्या करें? इन 5 तरीकों से करें पेट का इलाज
Father's Day 2024: जानिए कब मनाया जाता फादर्स डे, कैसे हुई इस विशेष दिन की शुरुआत, क्या है महत्व
Next Article
Father's Day 2024: जानिए कब मनाया जाता फादर्स डे, कैसे हुई इस विशेष दिन की शुरुआत, क्या है महत्व
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;