गेहूं की जगह खाएं इस ग्लूटेन फ्री, हाई फाइबर, हाई प्रोटीन और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर आटे की रोटी, तंदुरुस्त होगा शरीर, बीमारियां रहेंगी दूर | RAGI FLOUR BENEFITS

रागी के आटे में वे सभी चीजें भरपूर मात्रा में होगी है जिन्हें सेहत के लिए बहु त पोषक माना जाता है. आजकल रोटी को पौष्टिक बनाने के लिए लोग गेहूं के आटे में तरह तरह के अनाज का आटा मिलाते हैं. उनमें रागी सबसे महत्वपूर्ण है.

गेहूं की जगह खाएं इस ग्लूटेन फ्री, हाई फाइबर, हाई प्रोटीन और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर आटे की रोटी, तंदुरुस्त होगा शरीर, बीमारियां रहेंगी दूर | RAGI FLOUR BENEFITS

रागी के फायदे जानकर हैरान रह जाएंगे आप | रागी के फायदे और नुकसान | रागी कब और कैसे खाएं | रागी किन बिमारियों में खायें | रागी की तासीर |

Health benefits of Ragi flour: रागी, जिसे नाचनी (NACHNI AATA) और फाक्सटेल बाजरा के नाम से भी जाना जाता है, सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है. रागी के आटे में वे सभी चीजें भरपूर मात्रा में होगी है जिन्हें सेहत के लिए बहु त पोषक माना जाता है. आजकल रोटी को पौष्टिक बनाने के लिए लोग गेहूं के आटे (Gehun ka aata) में तरह तरह के अनाज का आटा मिलाते हैं. उनमें रागी सबसे महत्वपूर्ण है. गेहूं में रागी का आटा मिलाने से आटे की पौष्टिकता कई गुणा बढ़ जाती है.  रागी के आटे में प्रोटीन, कैल्शियम, फाइबर, काबरेहाइड्रेट से लेकर विटामिंस तक होते हैं. आइए जानते हैं रागी के आटे से सेहत को क्या क्या फायदे हो सकते हैं..

रागी से सेहत को फायदे (Health benefits of Ragi flour)

  1. हाई प्रोटीन : रागी में प्रोटीन की मात्रा बहुत ज्यादा होती है. एक कप रागी के आटे में 10.3 ग्राम प्रोटीन हो सकता है. प्रोटीन सेल्स को फिर से बनाने और उसकी मरम्मत में में भूमिका निभाता है. इसके साथ ही बॉडी में ब्लड फ्लो में मदद करता है.
  2. हाई फाइबर : रागी में फाइबर की अधिकता होती है. फाइबर वाली डाइट से पेट को लंबे समय तक भरा रहने की फीलिंग होती हैं. इससे ओवर इटिंग से बचने में मदद मिलती है और डाइजेशन सिस्टम बेहतर रहता है.
  3.  एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर : रागी में एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है, जो बॉडी को इंफेक्शन से लड़ने में मदद करता है और कई तरह की बीमारियों से बचाकर रखता है.
  4. ग्लूटेन फ्री : रागी ग्लूटेन फ्री होता है. यह वैसे लोगों के लिए बहुत अच्छा है जिन्हे ग्लूटेन से एलर्जी की शिकायत होती है. साथ ही वजन पर कंट्रोल रखने में मदद करता है.
  5. डायबिटिज पर कंट्रोल : ब्लड में शुगर लेवल पर कंट्रोल रखने के लिए गेहूं की तुलना में रागी का आटा  ज्यादा बेहतर विकल्प है.  इसमें बहुत ज्यादा मैग्नीशियम होता है जो इंसुलिन को काम करने में आने वाली बाधा को कम करने में मदद करता है.
  6. बच्चों के लिए हेल्दी डाइट : रागी के आटे में प्रोटीन, कैल्शियम, फाइबर, काबरेहाइड्रेट से लेकर विटामिंस तक  होता है इसलिए यह बच्चों के लिए सभी जरूरी पोषण से भरपूर होता और हेल्दी डाइट है.
  7. हार्ट की सेहत : रागी में मौजूद  मैग्नीशियम बॉडी के नर्व सिस्टम को काम करने में मदद करता है. यह बैड कोलेस्ट्रॉल को कम करने और गुड कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाने में भी मदद करता है.
  8. हड्डियों और दांतों की मजबूती : रागी में कैल्शियम की मात्रा बहुत अधिक होती है. बॉडी में दांतों और हड्डियों की सेहत के लिए कैल्शियम की जरूरत होती है. डाइट में रागी को शामिल करने से दांत और हड्डियां मजबूत होती हैं.
  9. स्किन के लिए फायदेमंद : रागी में मौजूद विटामिन बी3 स्किन को बहतर करने में मदद करता है. यह उम्र के असर को कम करता है और रिंकल को रोकने का काम करता है.

Living with Thalassemia: Nutrition and Diet | थैलेसीमिया रोगियों को क्या खाना चाहिए



Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

(अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.)