विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Feb 08, 2023

तुर्की-सीरिया में भूकंप के बाद सर्दी का सितम : अब तक 9,500 मौत, हालात जान सिहर उठेंगे आप

तुर्की दुनिया के सबसे सक्रिय भूकंप क्षेत्रों में से एक है. देश का आखिरी 7.8-तीव्रता का झटका 1939 में आया था, जब पूर्वी एर्जिंकन प्रांत में 33,000 लोग मारे गए थे. 1999 में डुज़ में 7.4 तीव्रता का भूकंप आया था, जिसमें 17,000 से अधिक लोग मारे गए थे.

Read Time: 7 mins

नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, तुर्की में 5,894 लोग मारे गए और सीरिया में कम से कम 2,470 लोग मारे गए हैं...

सान्लिउर्फा:

तुर्की और सीरिया में भूकंप के कारण क्षतिग्रस्त हुईं इमारतों के नीचे दबे लोगों को बचाने की मुहिम तेज गति से चल रही है. मगर, इन इलाकों में पड़ रही कड़ाके की ठंड समस्या को और बढ़ा रही है. मिली ख़बरों के मुताबिक, भूकंप से अब तक 9,500 से अधिक लोगों के मारे जाने की सूचना है. वहीं सर्दी भी इन दोनों देशों के लोगों पर सितम ढा रही है. भूकंप के झटकों से बेघर हो चुके इन दोनों देशों के लोग ठंड से बचने के लिए सड़कों पर आग जलाकर खुद को गर्म रखने की कोशिश कर रहे हैं. हालांकि, इस त्रासदी के बीच कुछ असाधारण घटनाएं भी हुईं हैं.

मां मर गई, नवजात जीवित रहा
सीरिया में मलबे से एक नवजात बच्चा जिंदा निकाला गया. वह अपनी मां के गर्भनाल से बंधा हुआ था. मां की सोमवार के भूकंप में मृत्यु हो गई थी, मगर फिर भी वह जिंदा था. नवजात के एक रिश्तेदार खलील अल-सुवादी ने एएफपी को बताया, "जब हम खुदाई कर रहे थे तो हमें एक आवाज सुनाई दी. हमने धूल साफ की और बच्चे को गर्भनाल के साथ पाया. हमने गर्भनाल काट दिया और मेरे चचेरे भाई उसे अस्पताल ले गए. शिशु अपने परिवार का एकमात्र जीवीत सदस्य है. बाकी सदस्य जिंदायरिस के विद्रोही-कब्जे वाले शहर में मारे गए थे." तुर्की के गाज़ियांटेप और कहरामनमारस शहरों के बीच सोमवार को 7.8 तीव्रता का भूकंप आया था. इसके चलते तबाही का मंजर है. विनाश के कारण तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तैयप एर्दोगन ने मंगलवार को 10 दक्षिणपूर्वी प्रांतों में तीन महीने के आपातकाल की घोषणा की है.

'बच्चे जम रहे हैं' 
संयुक्त राज्य अमेरिका, चीन और खाड़ी राज्यों सहित दर्जनों देशों ने तुर्की और सीरिया को मदद करने का वादा किया है. इन देशों में खोजी दलों के साथ-साथ राहत सामग्री हवाई मार्ग से पहुंचनी शुरू हो गई है. फिर भी कुछ सर्वाधिक प्रभावित क्षेत्रों के लोगों ने कहा कि उन्हें लगता है कि उन्हें उनके हाल पर छोड़ दिया गया है. तुर्की के शहर कहरमनमारस में अली सगिरोग्लू ने कहा, "मैं अपने भाई को खंडहर से वापस नहीं ला सकता. मैं अपने भतीजे को वापस नहीं ला सकता. इधर-उधर देखिए. यहां कोई सरकारी अधिकारी नहीं है." उन्होंने कहा, "दो दिनों से हमने यहां आसपास सरकार को नहीं देखा है...बच्चे ठंड से ठिठुर रहे हैं. सर्दियों के तूफान ने कई सड़कों को उजाड़ करके दुख को बढ़ा दिया है. उनमें से कुछ भूकंप से क्षतिग्रस्त हो गए. लगभग अगम्य, जिसके परिणामस्वरूप ट्रैफिक जाम हो गया है."

"यह अब समय के खिलाफ दौड़"
ठंडी बारिश और हिमपात उन लोगों के लिए एक जोखिम है, जिन्हें अपने घरों से बेघर होने पर मजबूर होना पड़ा है. ज्यादातर भूकंप प्रभावित लोगों ने मस्जिदों, स्कूलों या बस आश्रयों में शरण ली है. विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख टेड्रोस अदनोम घेब्रेयसस ने कहा, "यह अब समय के खिलाफ दौड़ है." उन्होंने कहा, "हमने घायलों और सबसे कमजोर लोगों के लिए आवश्यक स्वास्थ्य देखभाल प्रदान करने के लिए आपातकालीन चिकित्सा टीमों के डब्ल्यूएचओ नेटवर्क को सक्रिय कर दिया है."

23 करोड़ हो सकते हैं प्रभावित
नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, तुर्की में 5,894 लोग मारे गए और सीरिया में कम से कम 2,470 लोग मारे गए, कुल मिलाकर अब तक 8,364 मौतें हुईं हैं. ऐसी आशंका हैं कि मरने वालों की संख्या में लगातार वृद्धि होगी. WHO के अधिकारियों का अनुमान है कि 20,000 तक की मृत्यु हो सकती है. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चेतावनी दी है कि बड़े पैमाने पर भूकंप से 23 मिलियन लोग प्रभावित हो सकते हैं और देशों से आपदा क्षेत्र में मदद करने के लिए आग्रह किया. सीरियन रेड क्रीसेंट ने पश्चिमी देशों से प्रतिबंधों को हटाने और सहायता प्रदान करने की अपील की क्योंकि राष्ट्रपति बशर अल-असद की सरकार पश्चिम में एक अछूत बनी हुई है, जो अंतरराष्ट्रीय राहत प्रयासों को जटिल बना रही है.

नंगे हाथों से तलाश रहे अपनों को
वाशिंगटन और यूरोपीय संघ ने सोमवार को कहा कि उनके द्वारा समर्थित मानवीय कार्यक्रम सीरिया में भी चल रहे हैं. संयुक्त राष्ट्र की सांस्कृतिक एजेंसी यूनेस्को ने यह भी कहा कि सीरिया और तुर्की में अपनी विश्व विरासत सूची में सूचीबद्ध दो स्थलों के क्षतिग्रस्त होने के बाद वह सहायता प्रदान करने के लिए तैयार है. यूनेस्को ने कहा कि अलेप्पो के पुराने शहर और दक्षिणपूर्वी तुर्की शहर दियारबाकिर में किले को नुकसान के अलावा, कम से कम तीन अन्य विश्व धरोहर स्थल प्रभावित हो सकते हैं. उत्तरी सीरिया का अधिकांश भूकंप प्रभावित क्षेत्र पहले ही वर्षों के युद्ध और सीरियाई और रूसी सेना द्वारा हवाई बमबारी से नष्ट हो चुका है, जिसने घरों, अस्पतालों और क्लीनिकों को नष्ट कर दिया है. उत्तरी सीरिया में भूकंप से तबाह हुए जंडेरिस शहर के निवासियों ने जीवित बचे लोगों की तलाश के लिए अपने नंगे हाथों और कुदाल का इस्तेमाल किया.

'उनकी आवाज सुनें' 
अली बट्टल ने कहा, "मेरा पूरा परिवार वहां है. मेरे बेटे, मेरी बेटी, मेरा दामाद ... उन्हें बाहर निकालने वाला कोई और नहीं है." उसका चेहरा खून से लथपथ था और सिर ऊनी शॉल में लिपटा हुआ था. उसने कहा, "मैं उनकी आवाज सुनता हूं. मुझे पता है कि वे जीवित हैं, लेकिन उन्हें बचाने वाला कोई नहीं है." सीरियाई स्वास्थ्य मंत्रालय ने अलेप्पो, लताकिया, हमा और टार्टस के प्रांतों में क्षति की सूचना दी है.  त्रासदी से पहले भी, अलेप्पो में इमारतें जीर्ण-शीर्ण बुनियादी ढांचे के कारण अक्सर ढह जाती थीं. भूकंप के बाद, कैदियों ने उत्तर-पश्चिमी सीरिया के एक जेल में बलवा कर दिया और करीब 20 भाग गए. इसमें इस्लामिक स्टेट समूह के ज्यादातर सदस्य थे.

पहले से थी चेतावनी
तुर्की दुनिया के सबसे सक्रिय भूकंप क्षेत्रों में से एक है. देश का आखिरी 7.8-तीव्रता का झटका 1939 में आया था, जब पूर्वी एर्जिंकन प्रांत में 33,000 लोग मारे गए थे. 1999 में डुज़ के तुर्की क्षेत्र में 7.4 तीव्रता का भूकंप आया था, जिसमें 17,000 से अधिक लोग मारे गए थे. विशेषज्ञों ने लंबे समय से चेतावनी दी है कि एक बड़ा भूकंप इस्तांबुल को तबाह कर सकता है, जो 16 मिलियन लोगों के मेगालोपोलिस में जर्जर घरों से भरा हुआ है.

यह भी पढ़ें-
दिल्ली में आज तेज हवा चलने की संभावना, कश्मीर, लद्दाख, हिमाचल में हो सकती है बर्फबारी
भाजपा सांसद निशिकांत दुबे ने राहुल गांधी के खिलाफ विशेषाधिकार हनन का नोटिस दिया

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
अब तक 1300 मौतें: मक्का में गर्मी से सबसे ज्यादा मिस्र के हाजी ही क्यों मर रहे? जानिए
तुर्की-सीरिया में भूकंप के बाद सर्दी का सितम : अब तक 9,500 मौत, हालात जान सिहर उठेंगे आप
अब समय आ गया कि अमेरिका में हर पद के लिए भारतवंशी चुनाव लड़े : सांसद राजा कृष्णमूर्ति
Next Article
अब समय आ गया कि अमेरिका में हर पद के लिए भारतवंशी चुनाव लड़े : सांसद राजा कृष्णमूर्ति
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;