WHO Report on Monkeypox: मंकीपॉक्स होता जा रहा खतरनाक, क्‍या जानलेवा है Monkeypox, कैसे फैलता है संक्रमण, क्‍या है इलाज, जानें लक्षण और बचाव के उपाय

कैसे फैलता है मंकीपॉक्‍स संक्रमण (How is monkey pox transmitted?): मंकीपाक्स वायरस आपकी त्वचा से, आंख, नाक या मुंह से शरीर में घुस सकता है. संक्रमित जानवर के खून से, उसके काटने से, किसी तरल पदार्थ के शरीर में जाने से, या फर को छूने से भी फैल सकता है. हां, संक्रमित जानवर का मांस खाने से भी मंकीपॉक्स होने की संभावना होती है.

WHO Report on Monkeypox: मंकीपॉक्स होता जा रहा खतरनाक, क्‍या जानलेवा है Monkeypox, कैसे फैलता है संक्रमण, क्‍या है इलाज, जानें लक्षण और बचाव के उपाय

खास बातें

  • मंकीपॉक्स के बढ़ते मामलों ने दुनियाभर को इसके लिए सचेत कर दिया है.
  • डब्ल्यूएचओ के आंकड़े के अनुसार बीते 20 दिनों में 27 देशों में फैल चुका है
  • अब तक तकरबीन 780 लोगों को अपनी चपेट में ले लिया है.

All About Monkeypox Virus: कोरोनावायरस और नोवोवायरस के साथ ही साथ इस वक्‍त खबरों में है मंकीपॉक्‍स वायरस भी. कुछ देशों में मंकीपॉक्स के बढ़ते मामलों ने दुनियाभर को इसके लिए सचेत कर दिया है. डब्ल्यूएचओ के आंकड़े के अनुसार बीते 20 दिनों में 27 देशों में फैल चुका है. और अब तक तकरबीन 780 लोगों को अपनी चपेट में ले लिया है. सबसे बड़ी और चिंता की बात तो बन रही है वह यह है कि इस वायरस से अब लोगो की मौत भी होने लगी है. रिपोर्ट के अनुसार कांगो में इस साल मंकीपॉक्स से नौ लोगों की मौत हुई, तो नाइजीरिया भी एक मौत का मामला देखा गया. 

How Dangerous Is Monkeypox? कुल मिलाकर यह वायरस इस वक्‍त चिंता का विषय बना हुआ है. हालांकि अभी तक भारत में इसके मामले देखने को नहीं मिले. लेकिन फिर भी देश सरहद पार से आने वाले हर नागरिक की निगरानी कर रहा है. इस बीच यह समझ लेना भी जरूरी है कि मंकीपॉक्स क्‍या है, इसके लक्षण कैसे होते हैं, इसका इलाज और बचाव कैसे किया जा सकता है. तो चलिए जानते हैं. 

मंकीपॉक्स: कारण, लक्षण इलाज और बचाव (Monkeypox: Causes, Symptoms, Treatment and Prevention)

मंकीपॉक्‍स क्‍या है, क्‍या यह नया वायरस है? (What is Monkeypox)

नहीं, मंकीपाक्स एकदम नया वायरस नहीं है. यह चेचक वायरस परिवार का ही एक वायरस है. जो त्‍वचा को प्रभावित करता है. पहली बार मंकीपॉक्‍स 1958 में एक शोध के लिए गए बंदरों में देखा गया था. वहीं इंसान में पहली बार इस वायरस की पुष्‍टि साल 1970 में हुई थी. इस वायरस के दो मुख्य स्ट्रेन हैं पश्चिम अफ्रीकी और मध्य अफ्रीकी. 

Monkeypox: क्या चेचक की तरह है मंकीपॉक्स? यहां इस खतरनाक वायरस के बारे में वह सब कुछ है जो आपको जानना चाहिए

कैसे फैलता है मंकीपॉक्‍स संक्रमण (How is Monkeypox transmitted?)

मंकीपाक्स वायरस आपकी त्वचा से, आंख, नाक या मुंह से शरीर में घुस सकता है. संक्रमित जानवर के खून से, उसके काटने से, किसी तरल पदार्थ के शरीर में जाने से, या फर को छूने से भी फैल सकता है. हां, संक्रमित जानवर का मांस खाने से भी मंकीपॉक्स होने की संभावना होती है.

कैसे पहचानें मंकीपॉक्स वायरस को, क्‍या हैं इसके लक्षण (What are the signs and symptoms of monkeypox?) 

मंकीपॉक्स संक्रमण के लक्षणों की बात करें तो इसके लक्षणों में 
- बुखार, 
- सिरदर्द, 
- सूजन, 
- पीठ दर्द, 
- मांसपेशियों में दर्द 
- सुस्ती 
- खुजली वाले दाने होते हैं 

कैसे पता चले की मंकीपॉक्‍स संक्रमण हुआ है और यह कितने दिनों तक शरीर में रहता है 

मंकीपॉक्‍स वायरस का संक्रमण आमतौर पर चेहरे से शुरू होता है. इसके बाद यह धीरे-धीरे पूरे शरीर पर फैल सकता है. संक्रमण आमतौर पर 14 से 21 दिन तक रहता है. 

दुनियाभर में फैल रहे हैं ये 5 वायरस, कोरोना, Monkeypox, Norovirus समेत ये वायरस हैं इस वक्‍त बन हुए हैं बेहद खतरनाक

क्या है मंकीपॉक्स वायरस का इलाज? (Monkeypox Treatment) 

मंकीपॉक्स वायरस के लिए कोई इलाज मौजूद नहीं है. वहीं चेचक का टीका मंकीपाक्स को रोकने में काफी हद तक सफल साबित हुआ है.

कितना खतरनाक है मंकीपॉक्स क्‍या मंकीपॉक्स से मौत हो सकती है? (How Dangerous Is Monkeypox?)

हालांकि, मंकीपाक्स से मौत के कम ही मामले सामने आए हैं, लेकिन फिर भी यह ज्‍यादा गंभीर मामलों में मौत का कारण बन सकता है. सबसे बड़ी और चिंता की बात तो बन रही है वह यह है कि इस वायरस से अब लोगो की मौत भी होने लगी है. रिपोर्ट के अनुसार कांगो में इस साल मंकीपॉक्स से नौ लोगों की मौत हुई, तो नाइजीरिया भी एक मौत का मामला देखा गया. आमतौर पर संक्रमण वाले ज्‍यादातर केस लाइट यानी हल्के होते हैं.

 Norovirus in Kerala: केरल के 2 स्टूडेंट्स में मिला नोरोवायरस का इंफेक्शन, दस्त, उल्टी और पेट दर्द होने पर कराया था टेस्ट, कैसे हैं नोरोवायरस के लक्षण

क्‍या बरतें सावधानी 

- केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने अंतरराष्ट्रीय यात्रियों को मंगलवार को अफ्रीकी जंगली जंतुओं का मांस खाने या पकाने, या अफ्रीका के जंगली जानवरों से बने क्रीम, लोशन और पाउडर जैसे उत्पादों का उपयोग करने से दूर रहने का परामर्श दिया था. 

- मंत्रालय ने इसके अलावा, त्वचा पर घाव वाले या गुप्तांगों में घाव वाले बीमार लोगों के नजदीक जाने से बचने का भी परामर्श दिया था. 

- इसने बीमार लोगों द्वारा इस्तेमाल किये गये कपड़े, बिस्तर या स्वास्थ्य संस्थानों में उपयोग की गई सामग्री या संक्रमित जंतुओं के संपर्क में आये लोगों से दूर रहने की सलाह दी है.

- परामर्श में कहा गया है कि उन्हें सतर्क रहना चाहिए खासतौर पर उन देशों से आने वालों को जहां मंकीपॉक्स के मामले सामने आये हैं.

Low-Lying Placenta, Placenta Previa: क्या है लॉ लाइंग प्लेसेंटा,क्‍या करें अगर बच्‍चे की नाल हो नीचे

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.