Diabetes: क्या होता है टाइप 1 और टाइप 2 डायबिटीज, यहां जानें दोनों में क्या है अंतर

Diabetes Types: इंसुलिन की कमी या इंसुलिन के प्रतिरोध की वजह से आपके खून में शुगर का निर्माण होता है, इससे स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हो सकती हैं.

Diabetes: क्या होता है टाइप 1 और टाइप 2 डायबिटीज, यहां जानें दोनों में क्या है अंतर

डायबिटीज ऐसी बीमारियों में शामिल है जो जीवन भर पीछा नहीं छोड़ती. दरअसल, डायबिटीज स्थितियों का एक समूह है जहां शरीर पर्याप्त या फिर बिल्कुल ही इंसुलिन का उत्पादन नहीं कर सकता है या फिर उत्पादित इंसुलिन का ठीक से उपयोग नहीं कर पाता. जब इनमें से कुछ भी होता है, तो शरीर ब्लड में मौजूद शुगर को आपकी कोशिकाओं में नहीं पहुंचा पाता है. इससे ब्लड शुगर का लेवल हाई हो जाता है. इंसुलिन की कमी या इंसुलिन के प्रतिरोध की वजह से आपके खून में शुगर का निर्माण होता है, इससे स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हो सकती हैं. डायबिटीज प्रमुख रूप से दो तरह की होती है, इसके कारण भी अलग-अलग होते हैं, आइए इस बारे में विस्तार से जानते हैं.

 

डायबिटीज के प्रकार- Types Of Diabetes:

  • टाइप 1 डायबिटीज
  • टाइप 2 डायबिटीज
g616t11o

Dandruff Treatment: डैंड्रफ को जड़ से हटाने के लिए अचूक हैं ये 4 घरेलू चीजें, हफ्तेभर में दिखने लगेगा असर

टाइप 1 डायबिटीज

  • टाइप 1 डायबिटीज को एक ऑटोइम्यून स्थिति माना जाता है. इसका मतलब है कि आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली गलती से आपके अग्न्याशय में बीटा कोशिकाओं पर हमला करती है और उन्हें नष्ट कर देती है जो इंसुलिन का उत्पादन करती है.
  • इस तरह की डायबिटीज की वजह आनुवांशिक और पर्यावरणीय दोनों ही हो सकती है.

टाइप 2 डायबिटीज

  • टाइप 2 डायबिटीज इंसुलिन प्रतिरोध के रूप में शुरू होता है. इसका मतलब है कि आपका शरीर इंसुलिन का सही तरीके से इस्तेमाल नहीं कर सकता है. जब इंसुलिन का उत्पादन कम हो जाता है, तो ये हाई ब्लड शुगर की वजह बनता है.
  • टाइप 2 मधुमेह में बहुत हद तक जीवनशैली को जिम्मेदार माना जाता है. इसके कारण ये हो सकते हैं.
  • आनुवंशिकी
  • सुस्त जीवन शैली
  • अधिक वजन या मोटापा
  • अन्य स्वास्थ्य कारक और पर्यावरणीय कारण भी हो सकते हैं.

Health Tips: टैटू बनवाने के बाद आखिर क्यों नहीं करना चाहिए ब्लड डोनेट, जानें किन बीमारियों का हो सकता है खतरा

जोखिम कारक-

  • फैमिली हिस्ट्री: टाइप 1 डायबिटीज वाले माता-पिता या भाई-बहन होने पर इसके विकसित होने का अधिक जोखिम होता है.
  • उम्र: टाइप 1 डायबिटीज किसी भी उम्र में सामने आ सकता है, लेकिन यह बच्चों और किशोरों में सबसे आम है.

टाइप 2 मधुमेह जोखिम कारक

  • प्रीडायबिटीज है, या थोड़ा ऊंचा रक्त शर्करा का स्तर है
  • अधिक वजन या मोटापा है
  • पेट की चर्बी बहुत है
  • सप्ताह में 3 बार से कम शारीरिक रूप से सक्रिय हैं
  • 45 वर्ष से अधिक आयु के हैं
  • 9 पाउंड से अधिक वजन वाले बच्चे को जन्म दिया है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.