9/11 हमले की 20वीं बरसी: वह इकलौता क्रिकेटर जिसकी '9/11 Attack' में गई जान

Nezam Hafiz: वर्ल्ड ट्रेड सेंटर में हुए इस आतंकी हमले में एक क्रिकेटर ने भी अपनी जान गंवाई. वह क्रिकेटर अमेरिका के उप-कप्तान रहे नेजाम हफीज (Nezam Hafiz) थे.

9/11 हमले की 20वीं बरसी: वह इकलौता क्रिकेटर जिसकी '9/11 Attack' में गई जान

नेजाम हफीज अमेरिका की ओर से फर्स्ट क्लास क्रिकेट खेलते थे

अमेरिका में 9/11 हमले की 20वीं बरसी (9/11 Attacks Anniversary) पर आतंकी हमले में मारे गए लोगों को याद कर उन्हें भावपूर्ण श्रद्धांजलि दी जा रही है. आज से 20 साल पहले यानी 11 सितंबर 2001 को अमेरिका पर आतंकी हमला हुआ था, जिसे अबतक का सबसे भीषणतम आतंकी हमला माना जाता है जिसमें कई लोगों की जान गई थी. उस आतंकी हमले में 2,977 लोगों की जान गई थी. हमले की जिम्मेदारी अलकायदा ने ली थी. वर्ल्ड ट्रेड सेंटर में हुए इस आतंकी हमले में एक क्रिकेटर ने भी अपनी जान गंवाई. वह क्रिकेटर अमेरिका के उप-कप्तान रहे नेजाम हफीज (Nezam Hafiz) थे. हफीज वहां पर वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के टावर वन की 94वीं मंजिल पर काम किया करते थे. हफीज को अमेरिका का भावी कप्तान माना जाता था लेकिन उनकी तकदीर को कुछ और ही मंजूर था. हफीज ने अपने करियर में 6 फर्स्ट क्लास मैच खेले और लिस्ट ए में 3 मैच खेले. 

बता दें कि 11 सितंबर 2001 को वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर हुए कुख्यात हमले में मारे जाने वाले नेज़ाम अहमद हफीज दुनिया के एकमात्र क्रिकेटर हैं. 21 अप्रैल 1969 को रोज हॉल में जन्मे हफीज ने बहुत कम उम्र में ही क्रिकेट को अपना लिया था, उन्होंने लेवर्ड आइलैंड्स अंडर-19 के खिलाफ पदार्पण किया और किंग्स्टन में विंडवर्ड आइलैंड्स अंडर-19 के खिलाफ अगले मैच में 66 रन की पारी खेली थी. अपने शुरूआती क्रिकेट करियर में उन्होंने शानदार परफॉर्मेंस कर टॉप लेवल क्रिकेट में अपने भविष्य को तैयार कर लिया था.

ये भी पढ़ें 
* T20I में करियर की पहली ही गेंद पर विकेट लेने वाले गेंदबाज, केशव महाराज ने रचा इतिहास, देखें पूरी लिस्ट
* ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीतने के बाद Neeraj Chopra का दूसरा सपना भी हुआ पूरा, खुद किया खुलासा
* T20 World Cup के लिए वेस्टइंडीज टीम का ऐलान, जिस खिलाड़ी ने बनाया था चैंपियन, उसे नहीं मिली जगह
* India-England के बीच 5th टेस्ट मैच रद्द, जानें 10 खास बातें

घरेलू स्तर और क्लब स्तर पर हफीज ने लगातार अच्छे परफॉर्मेंस किए थे. यही कारण था कि साल 2001 में हफीज को कनाडा दौरे के लिए अमेरिका की टीम का उपकप्तान भी बनाया गया था. आने वाले समय में अमेरिका इंटरनेशनल क्रिकेट में कदम रखने को बिल्कुल तैयार था. साल 2004 में अमेरिका ने आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी के लिए क्वालीफाई भी किया था. लेकिन 2001 में ही हुए आतंकी हमले में हफिज की जिन्दगी का सफर खत्म हो गया था.

साल 2018 में 9/11 नेशनल मेमोरियल और म्यूजियम के फेसबुक पोस्ट (National September 11 Memorial & Museum) पर नेजाम हफीज की मां का एक बयान दर्ज है, उसमें उनकी मां ने उनके क्रिकेट करियर को लेकर कुछ बातें शेयर की है, उन्होंन कहा था, 'गुयाना में जन्मे नेज़ाम को किशोराअवस्था में ही क्रिकेट से प्यार हो गया था. 18 साल की उम्र में उसका गुयाना की राष्ट्रीय टीम में चयन हुआ. 1992 में न्यूयॉर्क शहर जाने के बाद, वह संयुक्त राज्य की राष्ट्रीय क्रिकेट टीम (USA) के लिए खेले और अंततः उप-कप्तान बने. 9/11 को नेज़ाम नॉर्थ टॉवर की 94 वीं मंजिल पर काम कर रहे थे, जहां उन्होंने मार्श एंड मैकलेनन के लिए कंप्यूटर विश्लेषक के रूप में काम किया, वह उस समय तक 32 वर्ष के थे.'


बता दें कि 9/11 नेशनल मेमोरियल और म्यूजियम में नेजाम की याद में उनके बल्ले को मेमोरियम प्रदर्शनी में देखा जा सकता है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: ICC T20 World Cup : महेंद्र सिंह धोनी होंगे टीम इंडिया के मेंटॉर, BCCI ने किया ऐलान . ​