Anti-ageing Herbs: उम्र बढ़ने को धीमा करने में बेहद फायदेमंद हैं ये 3 आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां

Anti-ageing Herbs: हालांकि उम्र बढ़ना निश्चित है और इन परिवर्तनों से बचा नहीं जा सकता है, इन मानसिक, सामाजिक, मनोवैज्ञानिक और शारीरिक परिवर्तनों को दवा, आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों और यहां तक कि कुछ प्राकृतिक रसोई सामग्री की मदद से इनमें देरी की जा सकती है.

Anti-ageing Herbs: उम्र बढ़ने को धीमा करने में बेहद फायदेमंद हैं ये 3 आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां

Anti-ageing Herbs: सफेद बाल और झुर्रीदार त्वचा उम्र बढ़ने के सबसे आम लक्षणों में से दो हैं.

खास बातें

  • ब्राह्मी याददाश्त बढ़ाने का भी काम करती है.
  • सफेद बाल और झुर्रीदार त्वचा उम्र बढ़ने के सबसे आम लक्षणों में से दो हैं.
  • करक्यूमिन में शक्तिशाली एंटी-एजिंग प्रभाव दिखाया गया है.

Anti-ageing Tips: सफेद बाल और झुर्रीदार त्वचा उम्र बढ़ने के सबसे आम लक्षणों में से दो हैं. जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती है, कोशिकाओं के खराब होने की प्रक्रिया को उम्र बढ़ने के रूप में जाना जाता है. उम्र बढ़ना निश्चित है और इन परिवर्तनों से कोई नहीं बच सकता है, इन मानसिक, सामाजिक, मनोवैज्ञानिक और शारीरिक परिवर्तनों को दवा, आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों और यहां तक कि कुछ प्राकृतिक रसोई सामग्री की मदद से इनमें देरी की जा सकती है. अगर आप बिना किसी साइड-इफेक्ट के बढ़ती उम्र को धीमा करना चाहते हैं, तो आप आयुर्वेद का सहारा ले सकते हैं! आयुर्वेद के अनुसार, कुछ जड़ी-बूटियां शरीर की कोशिकाओं को पुन: उत्पन्न करके उम्र बढ़ने के लक्षणों को कम कर सकती हैं. हमारी त्वचा को हेल्दी रखने में हमारी डाइट एक प्रमुख भूमिका निभाती है. एक बेजान दिखने वाली और सुस्त त्वचा को शरीर को पोषक तत्वों से भरपूर आहार देकर फिर से जीवंत किया जा सकता है.

सिर्फ अंडे और पनीर को ही नहीं इन 10 चीजों एक साथ मिलाकर खाने मिलते हैं अद्भुत फायदे

यहां 3 आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियां हैं जो उम्र बढ़ने की गति को कम करने में मदद कर सकती हैं:

1. ब्राह्मी

यह आयुर्वेदिक चमत्कार स्वास्थ्यवर्धक गुणों से भरपूर है. ऐसा माना जाता है कि यह न केवल मस्तिष्क पर ताजा प्रभाव डालता है, बल्कि याददाश्त बढ़ाने का भी काम करता है. अगर आप उम्र से संबंधित स्मृति हानि से पीड़ित हैं, तो आप इस आयुर्वेदिक उपाय पर विचार कर सकते हैं.

2. हल्दी

हल्दी एक रसोई सामग्री है जो दुनिया भर में कई व्यंजनों में व्यापक रूप से उपयोग की जाती है. हल्दी में पाया जाने वाला एक आवश्यक यौगिक करक्यूमिन में शक्तिशाली एंटी-एजिंग प्रभाव दिखाया गया है. हल्दी में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट मुक्त कणों से होनी वाली क्षति से लड़ने में मदद करते हैं.

आसानी से वजन कम करने का उपाय ढूंढ रहे हैं तो इन 3 कारगर डिटॉक्स वॉटर का सेवन करें

3. जिनसेंग

जिनसेंग में मौजूद फाइटोकेमिकल्स त्वचा के चयापचय को उत्तेजित और सक्रिय करने में मदद करते हैं. आयुर्वेद के अनुसार, वे आपको मुक्त कणों से छुटकारा पाने में भी मदद करते हैं जो त्वचा के सूरज की रोशनी और प्रदूषण के संपर्क में आने पर जमा हो जाते हैं. यह एक मल्टीविटामिन के रूप में कार्य करता है और मांसपेशियों को आवश्यक शक्ति प्रदान करता है और इस प्रकार मांसपेशियों का निर्माण करता है.

इन जड़ी बूटियों का प्रयोग किसी आयुर्वेदिक विशेषज्ञ की देखरेख में ही करना चाहिए. अगर आप अपनी डाइट में कोई बड़ा बदलाव कर रहे हैं, तो किसी विशेषज्ञ से सलाह लेने के बाद ही इसे करना सबसे अच्छा है.

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.

हेल्थ की और खबरों के लिए जुड़े रहिए

चमकदार और मुलायम बालों के लिए दही का उपयोग करने के 6 बेहतरीन तरीके

Breasts Sagging की समस्या को दूर करने के लिए 5 आसान और प्रभावी तरीके

Thyroid Diet Tips: थायराइड की समस्या से बचने के लिए एक्सपर्ट से जानें डाइट टिप्स

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


High Uric Acid: लंबे समय तक भूखा रहना शरीर में बढ़ा सकता है यूरिक एसिड लेवल, संभल जाएं बाद में होगी परेशानी