Vasudeva Dwadashi 2021: आज है वासुदेव द्वादशी, ये है महत्व, जानें- कैसे करें पूजा-अर्चना

आज वासुदेव द्वादशी है जो आषाढ़ माह में, देवशयनी एकादशी के अगले दिन मनाई जाती है. इस दिन, देवी महालक्ष्मी के साथ भगवान विष्णु के रूप में कृष्ण की पूजा की जाती है. वासुदेव द्वादशी को वामन द्वादशी के रूप में भी मनाया जाता है.

Vasudeva Dwadashi 2021: आज है वासुदेव द्वादशी, ये है महत्व, जानें- कैसे करें पूजा-अर्चना

Vasudeva Dwadashi 2021: आज है वासुदेव द्वादशी, ये है महत्व, जानें- कैसे करें पूजा-अर्चना

नई दिल्ली:

Vasudeva Dwadashi 2021: हिंदू कैलेंडर के अनुसार जुलाई का महीना कई महत्वपूर्ण दिनों से मिलकर बनता है. यह महीना पारिवारिक मामलों में समृद्धि के लिए  पवित्र महीना माना जाता है. वहीं इसी महीने में वासुदेव द्वादशी भी आती है. बता दें, इस साल वासुदेव द्वादशी आज है. ये आषाढ़ माह में, देवशयनी एकादशी के अगले दिन मनाई जाती है. इस दिन, देवी महालक्ष्मी के साथ भगवान विष्णु के रूप में कृष्ण की पूजा की जाती है. वासुदेव द्वादशी को वामन द्वादशी के रूप में भी मनाया जाता है.

ये है वासुदेव द्वादशी का इतिहास

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, देव ऋषि नारद ने भगवान कृष्ण के माता-पिता से इस दिन सख्त उपवास रखने को कहा था. व्रत का पालन करने के बाद, वासुदेव और देवकी को कृष्ण नाम के एक बच्चे का आशीर्वाद मिला. चातुर्मास व्रत की शुरुआत वासुदेव द्वादशी उत्सव से भी होती है.

ये है वासुदेव द्वादशी का महत्व

यह दिन भगवान कृष्ण की पूजा के लिए महत्वपूर्ण है, चूंकि यह चातुर्मास (चार पवित्र मानसून महीने) की शुरुआत का प्रतीक है. कई लाभ और आत्मा की मुक्ति के लिए भक्त अगले चार महीनों तक कठोर तपस्या करते हैं. इस दिन ब्राह्मणों को दान देना शुभ माना जाता है.

इस करें पूजा-अर्चना

वासुदेव द्वादशी के अवसर पर भक्त मंदिर जाते हैं और भगवान कृष्ण को समर्पित भजनों का जाप करते हैं. वे गुड़, गेहूं की चपाती और हरी घास जैसे भोजन देते हैं. गायों को दूध पिलाना वासुदेव द्वादशी व्रत का एक महत्वपूर्ण पहलू है.

ये है रिवाज

- सबसे पहले भक्त सुबह उठकर स्नान करते हैं और साफ- सुधरे कपड़े पहनते हैं.  


- आज वह  उपवास रखते हैं और मंदिर जाते हैं.


- वे भगवान विष्णु के सामने अगरबत्ती और फूल चढ़ाते हैं.


- वे विष्णु सहस्रनाम और भगवान विष्णु के अन्य मंत्रों का जाप करते हैं.


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com