राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की रैली के लिए हजारों समर्थक वाशिंगटन में जुटे

ट्रम्प का स्थानीय समयानुसार सुबह 11 बजे रैली को संबोधित करने का कार्यक्रम है. यह रैली ठीक उसी समय होगी जब कांग्रेस के संयुक्त सत्र में राष्ट्रपति निर्वाचन मंडल के मतों की गिनती होगी और 3 नवंबर को हुए राष्ट्रपति चुनाव के नतीजों को सत्यापित किया जाएगा.

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की रैली के लिए हजारों समर्थक वाशिंगटन में जुटे

रिपब्लिक पार्टी के प्रत्याशी रहे डोनाल्ड ट्रम्प ने अबतक चुनाव नतीजों को स्वीकार नहीं किया है. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव (US Presidential Election) में कथित धांधली के खिलाफ वाशिंगटन (Washington) में आयोजित रैली में शामिल होने के लिए हजारों की संख्या में मौजूदा राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (President Donald Trump) के समर्थक जुटे. इस रैली को ट्रम्प बुधवार को संबोधित करने वाले हैं. ट्रम्प ने मंगलवार को ट्वीट किया, ‘‘वाशिंगटन उन लोगों से भर गया है जो नहीं चाहते है कि चरमपंथी वाम डेमोक्रेट चुनाव में जीत का हरण कर सके. हमारे देश ने बहुत सहा अब वे और नहीं सहन करेंगे. हम आपको यहां ओवल ऑफिस (अमेरिकी राष्ट्रपति का कार्यालय) से सुनेंगे (प्यार करेंगे). एक बार फिर अमेरिका को महान बनाएंगे.''

ट्रम्प का स्थानीय समयानुसार सुबह 11 बजे रैली को संबोधित करने का कार्यक्रम है. यह रैली ठीक उसी समय होगी जब कांग्रेस के संयुक्त सत्र में राष्ट्रपति निर्वाचन मंडल के मतों की गिनती होगी और 3 नवंबर को हुए राष्ट्रपति चुनाव के नतीजों को सत्यापित किया जाएगा. रिपब्लिक पार्टी के प्रत्याशी रहे ट्रम्प ने अबतक चुनाव नतीजों को स्वीकार नहीं किया है और अपने गैर प्रमाणित दावे को दोहराया है कि राष्ट्रपति चुनाव में धांधली की गई है. उन्होंने अमेरिकी अदालतों में चुनाव को लेकर करीब एक दर्जन वाद दाखिल किए लेकिन असफल रहे.

ट्रंप सरकार की शुल्क नीतियों से प्रभावित हुआ भारत-अमेरिका व्यापार संबंध: अमेरिकी कांग्रेस की रिपोर्ट

वहीं, दूसरी ओर डेमोक्रेटिक पार्टी के प्रत्याशी जो बाइडन जो चुनाव में जीते हैं 20 जनवरी को देश के 46वें राष्ट्रपति के तौर पर शपथ लेने की तैयारी कर रहे हैं. हजारों की संख्या में ट्रम्प समर्थक वाशिंगटन के पुराने इलाके में जमा हैं, उनके हाथों में पोस्टर-बैनर है जिनपर लिखा है ‘ चोरी बंद करो' और ‘ट्रम्प मेरे राष्ट्रपति हैं.''

अमेरिकी मीडिया ने रिपब्लिकन एवं डेमोक्रेटिक समर्थकों के बीच हिंसक झड़प की आशंका जताई है. वाशिंगटन पोस्ट ने अपनी खबर में लिखा, ‘‘ कुछ अधिकारियों को आशंका है कि अगर विरोध, हिंसक संघर्ष में तब्दील होता है तो ट्रम्प कानून व्यवस्था को बनाए रखने और अपने कथित 7.4 करोड़ समर्थकों की रक्षा करने के लिए फसाद विरोधी अधिनियम लागू कर सकते हैं.'' व्हाइट हाउस ने मंगलवार देर रात बयान जारी कर कहा कि एंटीफा (वामपंथी) कार्यकर्ता नृशंसता से कानून का पालन करने वाले दोस्तों, पड़ोसियों, कारोबारियों पर हमला कर रहे हैं और ऐतिहासिक चिह्नों को नष्ट कर रहे हैं जिन्हें समुदायों ने दशकों में बनाया है.

रिपोर्ट : भारत पर प्रतिबंध लगा सकता है अमेरिका, रूस से अरबों डॉलर के मिसाइल डिफेंस सिस्टम S-400 के सौदे को लेकर नाराजगी

व्हाइट हाउस ने कहा, ‘‘अमेरिका में हिंसा एवं अराजकता का कोई स्थान नहीं है और इसे घरेलू आतंकवाद ही कहा जा सकता है.'' बयान में कहा गया, ‘‘आज राष्ट्रपति डोनाल्ड जे ट्रम्प ने आशयपत्र पर हस्ताक्षर किए हैं जो सुनिश्चित करेगा कि संघीय अधिकारी वामपंथी (एंटीफा) कार्यकर्ताओं की गतिविधियों का आकलन संघीय कानूनों संदर्भ में करे जो आतंकवादी संगठनों के साथ लोगों को जुड़ने से रोकता है और आपराधिक गतिविधियों की मंशा पर रोकथाम लगाता है.''

Video: जो बाइडन ने इस तरह बदला राष्ट्रपति चुनाव का रुख


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com




(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)