अरब में घुलेगी बिहार के लंगड़ा आम और शाही लीची की मिठास, इन देशों में भी भेजने की है तैयारी

शाही लीची की पहली खेप को बहरीन और कतर भेजने की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है. यह पहली बार है जब बिहार की लीची बहरीन और कतर भेजी जा रही है.

अरब में घुलेगी बिहार के लंगड़ा आम और शाही लीची की मिठास, इन देशों में भी भेजने की है तैयारी

लंगड़ा आम और शाही लीची (फोटो साभार - @Bihar Foundation)

पटना:

बिहार के रसीले और सुगंधित ‘‘लंगड़ा आम'' और जीआई टैग प्राप्त शाही लीची को मुजफ्फरपुर से जल्द ही नए विदेशी बाजार मॉरीशस, न्यूजीलैंड, बहरीन और कतर भी भेजा जाएगा. कृषि और प्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण (एपीईडीए) ने हाल ही में बिहार के लंगड़ा आम और शाही लीची को बढ़ावा देने के लिए बिहार स्थित किसान उत्पादक संगठनों (एफपीओ) के साथ मॉरीशस, न्यूजीलैंड, बहरीन, कतर, ब्रिटेन और संयुक्त अरब अमीरात के अंतरराष्ट्रीय फल निर्यातकों और आयातकों की एक ऑनलाइन बैठक आयोजित की थी.

एपीईडीए के क्षेत्रीय प्रभारी (उत्तरप्रदेश, बिहार, उत्तराखंड) सी बी सिंह ने बताया कि बिहार फल और सब्जी विकास निगम (बीएफवीडीसी) के सहयोग से एपीईडीए जल्द ही मॉरीशस, न्यूजीलैंड, बहरीन और कतर को काफी मात्रा में लंगड़ा आम और शाही लीची के साथ नमूना खेप भेजेगा. इसे भेजने के तौर-तरीकों को अंतिम रूप दिया जा रहा है.

उन्होंने कहा कि ये देश इस साल नए जुड़े हैं. पिछले साल एपीईडीए ने जीआई टैग प्राप्त भागलपुर के जरदालु आमों और शाही लीची के नमूना शिपमेंट को कई यूरोपीय और खाड़ी देशों में भेजा था.

सिंह ने कहा कि जैसे महाराष्ट्र से अल्फांसो आम, गुजरात से केसर, आंध्र प्रदेश से बनगनपल्ली और उत्तर प्रदेश से बनारसी लंगड़ा अंतरराष्ट्रीय बाजार में बेचे जाते हैं, एपीईडीए बिहार के लंगड़ा आम और शाही लीची को मॉरीशस, न्यूजीलैंड, बहरीन और कतर के विदेशी बाजारों में बढ़ावा देना चाहता है.

उन्होंने कहा कि शाही लीची की पहली खेप को बहरीन और कतर भेजने की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है. यह पहली बार है जब बिहार की लीची बहरीन और कतर भेजी जा रही है. एपीईडीए और बीएफवीडीसी लंगड़ा एवं जरदालू आमों और शाही लीची की खेपों को अंतरराष्ट्रीय बाजारों में भेजने की प्रक्रिया को अधिक किफायती बनाने पर भी काम कर रहे हैं क्योंकि तटीय राज्यों के आमों को विदेशी बाजारों में भेजने की लागत कम है. 

लंगड़ा आम मुख्य रूप से बिहार के गंगा के मैदानी इलाकों में उगाए जाते हैं. एपीईडीए केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के तहत एक शीर्ष संगठन है, जिसे भारत से कृषि उत्पादों के निर्यात के प्रचार और विकास की जिम्मेदारी सौंपी गई है. 
बीएफवीडीसी के प्रबंध निदेशक नंद किशोर ने बताया कि एपीईडीए के सहयोग से बीएफवीडीसी बिहार के लंगड़ा आम और शाही लीची की नमूना खेप को मॉरीशस, न्यूजीलैंड, बहरीन और कतर के विदेशी बाजारों में भेजने की योजना को अंतिम रूप दे रहा है.

यह भी पढ़ें -

नेताओं के परिवारों को नहीं, पार्टी कार्यकर्ताओं को मिलेगी वरीयता : MP स्थानीय निकाय चुनाव से पहले बोले जेपी नड्डा

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


'भगवान बुला रहे हैं': महाराष्‍ट्र के युवक ने सुसाइड नोट में लिखा और कर ली आत्‍महत्‍या



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)