विज्ञापन
Story ProgressBack

बिहार के नालंदा में लगे हैं दुनिया के सबसे 'मियाजाकी' आम, दंग कर देंगे इसके दाम

मियाज़ाकी के आम पूरे जापान में मिलते हैं और इसके उत्पादन की मात्रा ओकिनावा के बाद जापान में दूसरे स्थान पर है. ये आम एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होते हैं और इनमें बीटा-कैरोटीन और फोलिक एसिड होता है.

बिहार के नालंदा में लगे हैं दुनिया के सबसे 'मियाजाकी' आम, दंग कर देंगे इसके दाम
बिहार में की जा रही है मियाजाकी आम की पैदावार
नई दिल्ली:

बिहार आम की अलग-अलग प्रजातियों के लिए जाना जाता है. चाहे बात दशहरी आम की करें या फिर लंगड़ा की या फिर चौसा और अलफॉन्सो की है, बिहार में ये तमाम प्रजातियों के आम मिलते हैं. लेकिन अगर मैं आपसे कहूं कि बिहार में ही दुनिया का सबसे महंगा आम भी मिलता है तो आप शायद ही मेरी बातों पर भरोसा कर पाएंगे लेकिन ये सच है. दरअसल, नालंदा के चंडी प्रखंड के ढकनिया गांव में मुकेश कुमार अपने कुछ रिश्तेदारों के साथ मिलकर दुनिया की सबसे महंगी प्रजाति के आम की पैदावार कर रहे हैं. मुकेश कुमार ने मियाजाकी आम को लेकर 2021 में सोशल मीडिया के माध्यम से जानकारी हासिल की थी. इसके बाद मुकेश ने जापान से इस प्रजाति के पौधे को मंगवाया था. पिछले तीन साल से इस पेड पर आम आ रहे हैं. मुकेश का दावा है कि ये आम मियाजाकी प्रजाति का ही है. आपको  बता दें कि मियाजाकी प्रजाति का आम दुनिया भर में प्रचलित है. चलिए आज हम इस आम के बारे में आपको कुछ अहम बातें बताते हैं. आखिर किन कारणों से ये आम इतना खास है...

Latest and Breaking News on NDTV

आखिर इस प्रजाति को मियाजाकी ही क्यों कहते हैं

अगर आपको इस आम के बारे में विस्तार से बताएं तो मियाजाकी आम पहले सिर्फ जापान के क्यूशू प्रान्त के मियाजाकी शहर में उगाया जाता था. यही वजह है कि इस आम का नाम मियाजाकी रखा गया था.  अगर बात इस आम के वजन की करें तो इस प्रजाति के एक आम का वजन 350 ग्राम या इससे अधिक होता है. मियाजाकी आम में चीनी की मात्रा 15 फीसदी या इससे ज्यादा होती है. यह आम भारत और दक्षिण पूर्व एशिया में लोकप्रिय आम की किस्मों की तुलना में अपने अलग रूप और रंग के लिए लोकप्रिय है. इन आमों को "एग ऑफ द सन" (जापानी में ताइयो-नो-तमागो) के नाम से भी जाना जाता है. 

Latest and Breaking News on NDTV

बेहद कीमती होता है ये आम 

अगर आपको मैं इस प्रजाति के आम की कीमत के बारे में बताऊं तो आप हैरान हो जाएंगे. इस प्रजाति के एक किलो आम की कीमत लाखों में है. अंतरराष्ट्रीय बाजार में इस प्रजाति के एक किलो आम की कीमत 2.70 लाख रुपये तक है. कई बार ऑफ सीजन में तो इसकी कीमत 3.50 लाख रुपये प्रति किलो तक भी चली जाती है. यही वजह है कि इस आम को दुनिया का सबसे महंगा आम माना जाता है.जापान में इस आम की सबसे ज्यादा पैदावार अप्रैल और अगस्त के बीच होता है. मियाज़ाकी के आम पूरे जापान में मिलते हैं और इसके उत्पादन की मात्रा ओकिनावा के बाद जापान में दूसरे स्थान पर है. ये आम एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होते हैं और इनमें बीटा-कैरोटीन और फोलिक एसिड होता है. , जो उन लोगों के लिए बहुत अच्छा है जिन्हें थकी हुई आंखों की मदद की ज़रूरत होती है, व्यापार संवर्धन केंद्र ने कहा. ये कम होती दृष्टि को रोकने में भी बेहद मददगार हैं.

मियाजाकी के स्थानीय लोगों की मानें तो मियाज़ाकी में इस आम का उत्पादन 70 के दशक के अंत और 80 के दशक की शुरुआत में शुरू हुआ था. उनके अनुसार मियाजाकी के गर्म मौसम, लंबे समय तक धूप और प्रचुर बारिश ने मियाज़ाकी में किसानों के लिए आम की खेती करना संभव बना दिया है. अब यह यहां की प्रमुख उपज है. (रिपोर्ट आलोक कुमार)

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
बांग्लादेश में भारतीयों की सुरक्षा पर ध्यान केंद्रित किये हुए है विदेश मंत्रालय: विदेश मंत्री जयशंकर
बिहार के नालंदा में लगे हैं दुनिया के सबसे 'मियाजाकी' आम, दंग कर देंगे इसके दाम
कलेक्टर के खिलाफ उत्पीड़न की शिकायत के मामले में ट्रेनी IAS पूजा खेडकर को पुलिस का नोटिस
Next Article
कलेक्टर के खिलाफ उत्पीड़न की शिकायत के मामले में ट्रेनी IAS पूजा खेडकर को पुलिस का नोटिस
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;