Gut Health: अपने डायजेशन सिस्टम और पेट को हमेशा हेल्दी और बीमारियों से दूर कैसे रखें? यहां हैं 8 कारगर मंत्र

Tips For Improving Gut Health: पाचन तंत्र आपके द्वारा उपभोग किए जाने वाले भोजन को पोषक तत्वों में तोड़ने के लिए जिम्मेदार होता है. अगर आप अपने गैस्ट्रिक फिटनेस को नजरअंदाज करते हैं, तो आपका शरीर फूड्स को पचाने के साथ-साथ पोषक तत्वों को आकर्षित करने में कठिनाइयों का सामना करेगा.

Gut Health: अपने डायजेशन सिस्टम और पेट को हमेशा हेल्दी और बीमारियों से दूर कैसे रखें? यहां हैं 8 कारगर मंत्र

Tips For Healthy Digestion: पाचन तंत्र भोजन को पोषक तत्वों में तोड़ने के लिए जिम्मेदार होता है.

खास बातें

  • पाचन तंत्र भोजन को पोषक तत्वों में तोड़ने के लिए जिम्मेदार होता है.
  • हमारी डाइट आंत और अतिरिक्त पाचन शरीर के अंग पर सीधा प्रभाव डालता है.
  • यहां आपको पेट को हेल्दी रखने के लिए कुछ जरूरी टिप्स बता रहे हैं.

Best Tips For Healthy Digestion: क्या आप पेट की समस्या से परेशान हैं? क्या आप अपने पेट को हेल्दी रखना चाहते हैं? जाहिर सी बात है हर कोई अपनी पेट और डायजेशन को हेल्दी और मजबूत रखना चाहता है. हमारी डाइट आंत और अतिरिक्त पाचन शरीर के अंग पर सीधा प्रभाव डालता है. याद रखें कि आपका जीवन स्तर साथ ही साथ आपके द्वारा किए गए फूड्स का चयन आपके पाचन को प्रभावित करता है. पाचन तंत्र आपके द्वारा उपभोग किए जाने वाले भोजन को पोषक तत्वों में तोड़ने के लिए जिम्मेदार होता है. जिस अनिश्चितता से आप अपने गैस्ट्रिक फिटनेस को नजरअंदाज करते हैं, आपका शरीर संभवतः फूड्स को पचाने के साथ-साथ उन पोषक तत्वों को आकर्षित करने में कठिनाइयों का सामना करेगा. ऐसे में हम यहां आपको पेट को हेल्दी रखने के लिए कुछ जरूरी टिप्स बता रहे हैं.

क्या सर्दियों में ब्लैक कॉफी वजन घटाने के लिए सबसे बेस्ट है? जानें फायदे और किस समय करना चाहिए सेवन

पेट को हेल्दी कैसे रखें? | How To Keep Stomach Healthy?

1. हेल्दी डाइट का सेवन करें

ऐसे फूड्स का सेवन करें जो फाइबर से भरपूर हों जैसे सब्जियां, साबुत अनाज, फल या अनाज. फाइबर पाचन तंत्र पर सामग्री के तरीके को प्रेरित करता है और साथ ही मल को सही स्थिरता प्रदान करता है. आपको प्रत्येक दिन फाइबर खाना चाहिए. संभवतः उभरते हुए डायवर्टीकुलर रोग, कोलोरेक्टल कैंसर या हृदय रोग के खतरे को कम करेगा. इसके अलावा स्ट्रॉबेरी, एवोकाडो, आम और सूखे मेवे जैसे प्रून और किशमिश जैसे फल खाएं क्योंकि वे पेट को साफ रखने के साथ-साथ फिट रखने के लिए फाइबर प्रदान करते हैं.

2. प्रोबायोटिक्स का सेवन

प्रोबायोटिक्स का नियमित रूप से सेवन करना बहुत जरूरी है. उदाहरण के लिए तनाव, एंटीबायोटिक्स, नींद की कमी, बीमारी, खराब आहार और उम्र बढ़ने के चयन जैसी विशेषताएं अक्सर आपके गैस्ट्रिक पथ के सूक्ष्मजीवों की असमानता का कारण बन सकती हैं. गैस्ट्रिक पथ में "अच्छे" सूक्ष्मजीवों के संतुलन को बनाए रखने के लिए प्रोबायोटिक्स एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं.

फ्लैट टमी पाने का सपना घर पर ही हो सकता है पूरा, बस डेली करें ये 5 आसान और कारगर एक्सरसाइज

3. ढेर सारा पानी पिएं

अपने सिस्टम को मजबूत बनाए रखने के लिए आपको हर दिन पर्याप्त मात्रा में पानी पीना होगा. आपका मूत्र किस समय शुद्ध और बिना गंध वाला है तो यह इस बात का प्रतीक है कि आपको पर्याप्त पानी मिल रहा है. कुछ पोषक तत्वों को नरम करने के लिए पीने के पानी के लाभ गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल सिस्टम पर अपशिष्ट को बाहर निकालने में मदद करते हैं.

4. धूम्रपान से बचें

आपको यह जानना होगा कि धूम्रपान अन्नप्रणाली और पेट के बीच में कनेक्शन पर बल को कम कर देता है जिससे पेट के एसिड को अन्नप्रणाली या भाटा में बैकफ्लो को प्रोत्साहित किया जाता है जिसके परिणामस्वरूप पेट में दर्द और अतिरिक्त कठिनाइयां हो सकती हैं. इसी तरह धूम्रपान पेप्टिक अल्सर के साथ-साथ आंत्र की सूजन की स्थिति को भी खराब करता है, इसके अलावा कई बीमारियों के बढ़ते खतरे से संबंधित है.

5. बार-बार भोजन करें

अपने ब्लड शुगर लेवल को संतुलित बनाए रखने के लिए मेटाबॉलिज्म में तेजी लाने के साथ-साथ आपकी जीवन शक्ति को सक्रिय रखने के लिए पूरे दिन छोटे और लगातार भोजन करें. यह आपको अतृप्त महसूस करने से बचाता है, जिससे हाई फैट वाली डाइट का अधिक सेवन करने में मदद मिल सकती है जो आपके अवशोषण को बाधित करते हैं.

क्यों बहुत जरूरी है शरीर के लिए विटामिन ए? जानें इसके फायदे और कमी को दूर करने के लिए फूड्स

6. व्यायाम

भोजन को बड़ी आंत में बहुत पहले ट्रांसफर करने की अनुमति देकर एक फिट गैस्ट्रिक वातावरण बनाने के लिए नियमित कसरत करना बहुत जरूरी है, जिससे मल में जाने वाले पानी की मात्रा भी कम हो जाती है. लगातार हृदय संबंधी व्यायाम पेट की मांसपेशियों को सख्त बनाने में मदद करता है, इसके अलावा पेट की मांसपेशियों को आपके सिस्टम पर पाचन भरने को प्रेरित करके सुस्ती को कम करता है.

7. जंक फूड से बचें

जंक फूड में थोड़ा फाइबर या पोषण होता है और इसमें अक्सर बड़ी मात्रा में संतृप्त वसा, एडिटिव्स और नमक शामिल होते हैं जो शरीर और विशेष रूप से आपके पेट के लिए हानिकारक होते हैं क्योंकि यह तनावग्रस्त हो जाता है. इसलिए चिप्स, बर्गर, डोनट्स, पिज्जा आदि खाने से बचें.

ब्लूबेरी के बारे में क्या जानते हैं आप? इसके प्रकार और टॉप हेल्थ बेनिफिट्स के बारे में यहां बताया गया है

8. तनाव से निपटें

अत्यधिक तनाव या घबराहट आपके गैस्ट्रिक सिस्टम को ओवरड्राइव में जाने के लिए आधार बना सकती है क्योंकि चिंता कुछ परिस्थितियों जैसे चिड़चिड़ा आंत्र सिंड्रोम या पेप्टिक अल्सर को खराब कर सकती है.

Asanas for Lungs, Breathing Problem | 5 योगासन जो फेफड़े बनाएंगे मजबूत

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.