Air Pollution: वायु प्रदूषण की वजह से होते हैं ये 4 सबसे हानिकारक रोग, फेफड़े और दिल पर करता है अटैक

Air Pollution And Diseases: हवा को सुरक्षित और प्रदूषण मुक्त रखने के लिए कई लोग घर में एयर प्यूरीफायर का भी इस्तेमाल करते हैं. इसके साथ ही कुछ नेचुरल उपाय भी आजमाए जा सकते हैं. यहां इनडोर वायु प्रदूषण के कारण होने वाली बीमारियों के बारे में बताया है.

Air Pollution: वायु प्रदूषण की वजह से होते हैं ये 4 सबसे हानिकारक रोग, फेफड़े और दिल पर करता है अटैक

Air Pollution And Disease: वायु प्रदूषण एक बड़ी समस्या है जिसका सामना पूरी दुनिया कर रही है.

खास बातें

  • वायु प्रदूषण एक बड़ी समस्या है जिसका सामना पूरी दुनिया कर रही है.
  • वायु प्रदूषण के कारण निमोनिया हो सकता है.
  • यहां वायु प्रदूषण के कारण होने वाली बीमारियों के बारे में बताया है.

Diseases Caused by Air Pollution: वायु प्रदूषण एक बड़ी समस्या है जिसका सामना पूरी दुनिया कर रही है. सिर्फ बाहरी ही नहीं, बल्कि घर के अंदर का वायु प्रदूषण कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं को जन्म देता है. घर के अंदर की हवा भी खराब हो सकती है. हाल के वर्षों में भारत में वायु प्रदूषण कई प्रकार की स्वास्थ्य समस्याओं के प्रमुख कारण के रूप में उभरा है. पालतू जानवर, खाना पकाने का धुआं, घरेलू फर्नीचर और इलेक्ट्रॉनिक उपकरण जिन्हें हानिरहित माना जाता है, इनडोर प्रदूषण के प्रमुख स्रोत हैं. जहरीले कण नासिका मार्ग से आपके श्वसन तंत्र में प्रवेश करते हैं और श्वसन संबंधी समस्याओं का कारण बनते हैं. इससे घर के अंदर की हवा को सुरक्षित और प्रदूषण मुक्त रखने के लिए कई लोग घर में एयर प्यूरीफायर का भी इस्तेमाल करते हैं. इसके साथ ही कुछ नेचुरल उपाय भी आजमाए जा सकते हैं. यहां वायु प्रदूषण के कारण होने वाली बीमारियों के बारे में बताया है.

सर्दियों में आपकी त्वचा और बालों के लिए चमत्कार कर सकता है ये देसी जूस, दो चम्मच डेली पिएं

वायु प्रदूषण से होने वाले रोगों की लिस्ट | List Of Diseases Caused By Air Pollution

वायु प्रदूषण से बचना मुश्किल है और यह फेफड़े, हृदय और मस्तिष्क से संबंधित कई गंभीर बीमारियों का प्रमुख कारण है. जानें इनडोर और आउटडोर वायु प्रदूषण के कारण होने वाली टॉप 4 स्वास्थ्य समस्याओं के बारे में...

1. निमोनिया

निमोनिया के कारण एक या दोनों फेफड़ों में वायुकोष में सूजन आ जाती है. हवा की थैली मवाद या तरल पदार्थ से भर जाती है जिससे खांसी, बुखार, ठंड लगना और सांस लेने में कठिनाई होती है. इनडोर वायु प्रदूषण के संपर्क में आने से बचपन में निमोनिया होने का खतरा दोगुना हो जाता है. वास्तव में, निमोनिया से होने वाली मौतों में से लगभग 45%, 5 साल से कम उम्र के बच्चों में होती हैं. इनडोर वायु प्रदूषण भी वयस्कों में तीव्र कम श्वसन समस्याओं के जोखिम को बढ़ाता है.

Winter Skin Care Routine: सर्दियों में दमकती जवां त्वचा पाने के लिए 4 सबसे आसान और प्रभावी तरीके

2. क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (COPD)

इनडोर वायु प्रदूषण क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (COPD) की स्थिति को भी बढ़ा देता है, जो फेफड़ों की एक सूजन संबंधी बीमारी है. सीओपीडी फेफड़ों में हवा के प्रवाह को रोकता है और आपकी सांस लेने में भी बाधा डालता है. उच्च स्तर के धुएं, सुगंधित उत्पादों और पेंट के संपर्क में आने से सीओपीडी बढ़ जाता है. डब्ल्यूएचओ के अनुसार, सीओपीडी वयस्कों में लगभग 25% मौतों का कारण बनता है.

3. फेफड़े का कैंसर

धूम्रपान के अलावा इनडोर वायु प्रदूषकों के संपर्क में आने से भी फेफड़ों के कैंसर का खतरा बढ़ जाता है. इनडोर वायु में मौजूद कार्सिनोजेन एजेंट, पीएम 2.5 फेफड़ों के कैंसर से निकटता से जुड़े हुए हैं. डब्ल्यूएचओ की एक रिपोर्ट के अनुसार वास्तव में वायु प्रदूषण वयस्कों में लगभग 17% अकाल मृत्यु का कारण बनता है, जो लोग कम या बिना वेंटिलेशन वाले भीड़-भाड़ वाले इलाकों में रहते हैं या काम करते हैं, उनमें फेफड़ों के कैंसर का खतरा अधिक होता है.

सर्दियों की सबसे पौष्टिक और हेल्दी ड्रिंक है चुकंदर का जूस, रोजाना पिएं मिलेंगे ये 5 अद्भुत फायदे

4. हृदय संबंधी समस्याएं

इनडोर वायु प्रदूषण के संपर्क में आने से हृदय रोगों का खतरा बढ़ जाता है. पीएम 2.5 जैसे प्रदूषकों के लंबे समय तक संपर्क में रहने से कोरोनरी धमनी में कैल्शियम का निर्माण बढ़ जाता है, जिससे सूजन बढ़ जाती है. प्रदूषक आपके रक्त वाहिकाओं के समय से पहले बूढ़ा होने का कारण बनते हैं, जिससे दिल का दौरा और स्ट्रोक की संभावना बढ़ जाती है.

मां-बाप की इस कमी से होता है बच्चे को थैलेसीमिया

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.

हेल्थ की और खबरों के लिए जुड़े रहिए

रात को सोने से पहले इन 5 फूड्स का सेवन पड़ सकता है भारी, आज से ही करें परहेज

सर्दी-खांसी के सामान्य लक्षण महसूस हो रहे हैं, तो जुकाम शुरू होने से पहले इसे रोकने के उपाय

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

       

स्किन पर बढ़े हुए पोर्स को कम करने के लिए एक्सपर्ट के बताए इन टिप्स को अपनाएं