COVID से उभरने के बाद आपके Mood में हो सकते हैं ये बदलाव, मैनेज करने के लिए इन ट्रिक्स को अपनाएं

COVID-19 के कारण मूड में क्या बदलाव हो सकते हैं और इसे कैसे मैनेज किया जा सकता है, यहां जानें.

COVID से उभरने के बाद आपके Mood में हो सकते हैं ये बदलाव, मैनेज करने के लिए इन ट्रिक्स को अपनाएं

आप उदासी, चिंता या बार-बार घबराहट महसूस कर सकते हैं.

बहुत से लोग कोरोनावायरस (Coronavirus) के बाद अपने मूड में बदलाव का अनुभव करते हैं. अस्वस्थ रहने का असर आपके मानसिक स्वास्थ्य पर पड़ सकता है. कोरोनावायरस (COVID-19) जैसी घटना से गुजरने के बाद लो मूड का अनुभव करना असामान्य नहीं है. आप जिस चीज से गुजरे हैं और इसका आपके जीवन पर क्या प्रभाव पड़ा है और हो सकता है, उसे प्रोसेस्ड करने में कुछ समय लग सकता है. एक बड़े इलेक्ट्रॉनिक हेल्थ रिकॉर्ड अध्ययन में पाया गया कि संक्रमण के बाद 3 महीनों में रिकवर हुए लोगों में वास्तव में मनोदशा और चिंता विकारों का खतरा बढ़ गया. COVID-19 के कारण मूड में क्या बदलाव हो सकते हैं और इसे कैसे मैनेज किया जा सकता है, यहां जानें.

जब भी शरीर में दिखें ये 6 बदलाव तो समझ जाएं नसों में गंदे कोलेस्ट्रॉल की हो गई है अति

COVID क्यों मूड को क्यों प्रभावित करता है?

वुहान के आंकड़ों के अनुसार, एक तिहाई से अधिक संक्रमित रोगियों में न्यूरोलॉजिकल लक्षण विकसित होने के साथ, कोरोनावायरस मस्तिष्क पर हमला कर सकता है. हार्वर्ड मेडिकल स्कूल में मनोचिकित्सा में प्रशिक्षक डॉ स्टेफ़नी कोलियर बताते हैं कि ब्रेन इंफेक्शन के अलावा, महामारी के परिणामस्वरूप मानसिक स्वास्थ्य के परिणाम बिगड़ते हैं, अलगाव, अकेलापन, बेरोजगारी, वित्तीय तनाव और प्रियजनों की हानि के मनोवैज्ञानिक टोल के कारण मानसिक स्वास्थ्य पर असर होता है. खासकर युवा वयस्कों में ये लक्षण दिखाई देते हैं. ये सभी कारक हमारे मूड, दिमाग और मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकते हैं.

दिल की बीमारियों को कैसे कोसों दूर रखता है Almond और एक दिन में कितने बादाम खाने चाहिए? जानें फायदे

खराब मूड के लक्षण और संकेत | Signs and symptoms of bad mood

आप उदासी, चिंता या बार-बार घबराहट महसूस कर सकते हैं. क्रोध या हताशा की भावना भी आपके मूड पर लंबे कोविड के प्रभाव का संकेत हो सकती है. अन्य लक्षणों में निराशा की भावना, कम आत्मसम्मान और थकान शामिल हैं. लंबे समय तक कोविड वाले लोग भी खुद को सामान्य से अधिक चिंतित पा सकते हैं. एक लो मूड आमतौर पर कुछ दिनों या हफ्तों के बाद ठीक हो जाता है. अगर ऐसा नहीं होता है तो वह अवसाद का संकेत हो सकता है.

कैसे करें COVID डिप्रेशन की पहचान?

अगर दो हफ्ते के बाद भी नकारात्मक भावनाएं दूर नहीं होती हैं, तो आपके लिए ये चिंता की बात है. यह लंबे समय तक कोविड के कारण अवसाद का संकेत हो सकता है. जीवन से किसी भी तरह का आनंद नहीं लेना और रोजमर्रा की चीजों पर ध्यान केंद्रित करने में परेशानी होना, जैसे कि अखबार पढ़ना या टेलीविजन देखने में समस्या भी अवसाद का संकेत हो सकता है. इसका असर आपके खान-पान और नींद पर भी पड़ सकता है. आपनी भूख कम हो सकती है. या आप सामान्य से अधिक सो रहे होंगे. ऐसे में आपको अपने डॉक्टर से मिलना चाहिए.

अगर डेली करेंगे इन 3 चीजों का सेवन तो 40 में भी दिखेंगे 24 के, चेहरे से नहीं झलकेगा बुढ़ापा

लो मूड को बेहतर बनाने के तरीके (Ways to improve low mood)

सबसे पहले और सबसे महत्वपूर्ण यह सलाह दी जाती है कि आप अपना समय लें और स्वयं के प्रति दयालु रहें. ठीक होने में समय लगता है और अपने आप को आराम करने और ठीक होने देना महत्वपूर्ण है. अगर आपको अपने मूड को मैनेज करने में परेशानी हो रही है, तो ये कुछ चीजें हैं जो आपको अपने भावनात्मक और मानसिक स्वास्थ्य पर अधिक नियंत्रण महसूस करने में मदद कर सकती हैं.

लाइफस्टाइल फैक्टर मूड पर बड़ा प्रभाव डाल सकते हैं. अगर आप लंबे समय से कोविड से गुजर रहे हैं, तो अपने शराब का सेवन सीमित करें, एक बैलेंस डाइट चुनें, पर्याप्त नींद लें और कुछ व्यायाम करें.

फोन कॉल, वीडियो कॉल या टेक्स्ट मैसेजिंग के जरिए परिवार और दोस्तों से जुड़े रहें. ये आपके मूड को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है. अगर आप अपने नियमित कार्यों को फिर से शुरू करने की ताकत नहीं पाते हैं, तो छोटे कदम उठाएं. छोटी एक्टिविटी करने का प्रयास करें जो आपको आनंद और उपलब्धि की भावना दें.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.