हर किसी के लिए हेल्दी नहीं है दलिया, इन 5 लोगों को गलती से भी नहीं खाना चाहिए ओट्स, जानिए क्यों

Oats Side Effects: ओट्स को हमेशा हेल्दी माना जाता है, लेकिन यह हर किसी के लिए सेहतमंद नहीं हो सकता है. यहां जानिए किन लोगों को ओट्स का सेवन करने से बचना चाहिए.

हर किसी के लिए हेल्दी नहीं है दलिया, इन 5 लोगों को गलती से भी नहीं खाना चाहिए ओट्स, जानिए क्यों

Oats Side Effects: दलिया खाना हर किसी के लिए फायदेमंद नहीं हो सकता है.

Side Effects of oats: ओट्स को अक्सर एक हेल्दी मील माना जाता है और वास्तव में वे सेहत के लिए फायदेमंद भी हैं, लेकिन आपको बता दें दलिया खाना हर किसी के लिए फायदेमंद नहीं हो सकता है. इसको डाइट में शामिल करने से पहले सभी पहलुओं को देखने की सिफारिश की जाती है. अगर आप भी बिना परखे ओट्स को हेल्दी मानकर खूब खाते हैं तो यहां हम बता रहे हैं कि किन लोगों को ओट्स का सेवन करने से बचने की जरूरत है और ओट्स को अपने मील का हिस्सा बनाने से पहले दो बार सोचना चाहिए.

किसे ओट्स का सेवन नहीं करना चाहिए? | Who should not consume oats?

1. पाचन की परेशानी वालों को

जबकि ओट्स प्राकृतिक रूप से ग्लूटेन-फ्री होते हैं, वे कुछ तरह की पाचन समस्याओं वाले लोगों के लिए अनहेल्दी साबित हो सकता है. ओट्स को अक्सर गेहूं, जौ और राई जैसे ग्लूटेन फ्री अनाज की तरह ही प्रोसेस्ड किया जाता है. यह सीलिएक रोग या गैर-सीलिएक ग्लूटेन सेंसिटिविटी वाले लोगों के लिए परेशानी पैदा कर सकता है. इसके अलावा ओट्स में हाई फाइबर कभी-कभी कुछ लोगों में सूजन और गैस सहित खराब पाचन का कारण बन सकता है.

2. ब्लड शुगर लेवल में

ओट्स एक कॉम्प्लेक्स कार्बोहाइड्रेट होने के बावजूद ब्लड शुगर लेवल में तेजी से बढ़ोत्तरी का कारण बन सकता है. खासकर जब बड़ी मात्रा में सेवन किया जाता है. यह डायबिटीज वालों के लिए चिंता का विषय हो सकता है. यह उन लोगों के लिए भी चिंता का विषय हो सकता है जो अपना वजन कंट्रोल करने की कोशिश कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें: 40 की उम्र में 20 साल के दिखने लगेंगे आप, आज से ही डाइट में शामिल करें ये 3 चीजें, झुर्रियां हो जाएंगी गायब

3. किडनी की बीमारी

ओट्स में फॉस्फोरस ज्यादा मात्रा में होता है, जो किडनी की समस्या वाले व्यक्तियों के लिए खतरनाक है. बहुत ज्यादा फास्फोरस का सेवन मिनरल इनबैलेंस को बढ़ावा दे सकता है और किडनी हेल्थ को खराब कर सकता है.

Latest and Breaking News on NDTV

Photo Credit: iStock

4. एलर्जेनिक रिएक्शन

गेहूं जैसे अन्य अनाजों से होने वाली एलर्जी की तुलना में ओट्स से होने वाली एलर्जी दुर्लभ है. कुछ लोगों को ओट्स का सेवन करने पर एलर्जिक रिएक्शन का अनुभव हो सकता है. लक्षण हल्की त्वचा की जलन से लेकर गंभीर एलर्जी तक हो सकते हैं.

ये भी पढ़ें: शिल्पा शेट्टी ने करवा चौथ व्रत पर शेयर की सरगी की थाली की तस्वीर, देखें उन्होंने क्या खाकर की व्रत की शुरूआत

किस तरह के ओट्स का सेवन करना चाहिए?

इंस्टेंट ओट्स और फ्लेवर्ड ओटमील को ज्यादा प्रोसेस्ड किया जा सकता है और इनमें शुगर की मात्रा भी ज्यादा होती है. हमेशा कम प्रोसेस्ड ओट्स को या सादे ओट्स का विकल्प चुनना और अपनी खुद की पसंद की टॉपिंग एड करना चिंता को कम करने में मदद कर सकता है.



Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

(अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.)