NDTV Khabar
होम | आस्था

आस्था

  • Haj 2021: हज यात्रा पर कोरोना का साया, भारतीय हज कमेटी ने रद्द किए सभी आवेदन
    Haj 2021: हज यात्रा पर इस साल भी कोरोनावायर का साया पड़ गया है. हज कमेटी ऑफ इंडिया ने हज यात्रा 2021 के लिए आए सभी आवेदनों को रद्द करने की घोषणा कर दी है. इससे यह साफ हो गया है कि इस साल भी मुस्लिम समुदाय के लोग सबसे पवित्र और अहम मानी जाने वाली हज यात्रा पर नहीं जा सकेंगे.
  • Ganga Dussehra 2021: कब है गंगा दशहरा? जानिए पूजा विधि, शुभ मुहूर्त और इस दिन का महत्व
    Ganga Dussehra 2021 Date: हिंदू कैलेंडर के मुताबिक, हर साल ज्‍येष्‍ठ माह की शुक्‍ल पक्ष की दशमी तिथि को गंगा दशहरा मनाया जाता है. गंगा दशहरा के दिन गंगा नदी में स्‍नान करने का विशेष महत्‍व होता है. मान्‍यता है कि इसी दिन गंगा का अवतार हुआ था. माना जाता है कि इस दिन गंगा में स्‍नान करने के बाद दान-दक्षिण करने से व्यक्ति की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं और पापों का नाश होता है. इस बार गंगा दशहरा का पर्व 20 जून 2021 को मनाया जाएगा. 
  • Vinayak Chaturthi 2021: विनायक चतुर्थी पर इस विधि से करें पूजा, जानिए शुभ मुहूर्त और महत्व
    Vinayak Chaturthi 2021: हिंदू पंचांग के अनुसार, प्रत्येक माह में शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि को विनायक चतुर्थी मनाई जाती है. अमावस्‍या के बाद जो शुक्‍ल पक्ष की चतुर्थी आती है, उसे विनायक चतुर्थी कहा जाता है. वहीं पूर्णिमा के बाद आने वाली कृष्‍ण पक्ष की चतुर्थी को संकष्‍टी चतुर्थी कहते हैं. कहा जाता है कि इन दोनों दिनों पर व्रत करने और भगवान गणेश जी का स्‍मरण करने से सभी दुख दूर हो जाते हैं. यह तिथि भगवान गणेश को समर्पित होती है. इस बार विनायक चतुर्थी 14 जून को मनाई जा रही है.
  • Surya Grahan 2021: आज लगने वाला है सूर्य ग्रहण, क्या इस समय नहीं करने चाहिए ये काम? ऐसी हैं मान्यताएं
    Surya Grahan 2021 In India Beliefs: साल 2021 का पहला सूर्य ग्रहण आज 10 जून को लगने जा रहा है. 15 दिनों के भीतर आज इस साल का दूसरा ग्रहण लगने वाला है. इससे पहले 26 मई को चंद्र ग्रहण लगा था. सूर्य ग्रहण आज शनि जयंती और वट सावित्री व्रत के दिन पड़ रहा है, जिससे इस ग्रहण का धार्मिक महत्व अधिक बढ़ गया है. यह ग्रहण एक 'रिंग ऑफ फायर' या वलयाकार सूर्य ग्रहण होगा. यानी ग्रहण के समय कुछ हिस्सों में रिंग ऑफ फायर (Ring of Fire) बनती हुई नजर आएगी.
  • Surya Grahan 2021: आज लगने वाला सूर्य ग्रहण बेहद खास, आसमान में दिखेगा 'आग का छल्ला', इन जगहों पर देख सकेंगे अद्भुत नजारा
    Solar Eclipse 2021: आज 10 जून को इस साल का पहला सूर्य ग्रहण लग रहा है. सूर्य ग्रहण के दौरान चंद्रमा सूर्य के लगभग 97 प्रतिशत हिस्से को कवर करेगा. यह ग्रहण एक 'रिंग ऑफ फायर' या वलयाकार सूर्य ग्रहण होगा. यानी ग्रहण के समय कुछ हिस्सों में रिंग ऑफ फायर (Ring of Fire) बनती हुई नजर आएगी. ये नाजार बेहद अद्भुत होगा. लेकिन इसे घटना को आई ग्लास के प्रोटेक्शन के बिना आसमान में भूलकर भी देखने की कोशिश नहीं करें, क्योंकि बिना प्रोटेक्शन के इसे देखने से आंखों को नुकसान पहुंचेगा. अगर आपके पास कोई प्रोटेक्शन उपलब्ध नहीं है तो आप इसे ऑनलाइन देख सकते हैं.
  • Surya Grahan 2021: आज लगने वाला है साल का पहला सूर्य ग्रहण, दिखेगा 'Ring Of Fire' , जानें- कहां से देख सकेंगे
    Surya Grahan 2021 today in India: आज 10 जून को इस साल का पहला सूर्य ग्रहण लगने वाला है. यह ग्रहण एक 'रिंग ऑफ फायर' या वलयाकार सूर्य ग्रहण होगा. यानी ग्रहण के समय कुछ हिस्सों में रिंग ऑफ फायर (Ring of Fire) बनती हुई नजर आएगी. सूर्य ग्रहण के दौरान चंद्रमा सूर्य के लगभग 97 प्रतिशत हिस्से को कवर करेगा. हालांकि, भारत में यह सूर्य ग्रहण न के बराबर ही सिर्फ कुछ हिस्सों में दिखेगा. बता दें कि इस साल का यह दूसरा ग्रहण है. इससे पहले 26 मई को चंद्र ग्रहण लगा था और 15 दिन के भीतर आज सूर्य ग्रहण लगने जा रहा है.
  • Surya Grahan 2021: आज लगने वाला है सूर्य ग्रहण, जानें- भारत में कब और कहां दिखाई देगा
    Surya Grahan 2021: 10 जून को होने जा रहा इस साल का पहला सूर्य ग्रहण भारत में केवल अरुणाचल प्रदेश और लद्दाख के कुछ हिस्सों में ही सूर्यास्त से कुछ समय पहले दिखाई देगा. यह वलयाकार सूर्य ग्रहण होगा और यह खगोलीय घटना तब होती है जब सूर्य, चंद्रमा और पृथ्वी एक सीधी रेखा में आ जाते हैं.
  • Shani Jayanti 2021: शनि जयंती आज, इस विधि से करें पूजा, जानिए महत्व और पूजा की सामग्री
    Shani Jayanti 2021: हिन्‍दू पंचांग के अनुसार, शनि जयंती ज्‍येष्‍ठ माह की अमावस्‍या और वट सावित्री व्रत के दिन मनाई जाती है. आज 10 जून को शनि जयंती मनाई जा रही है. भगवान शनि देव के जन्‍मदिवस को शनि जयंती के रूप में मनाया जाता है. शनि जयंती को शनि अमावस्‍या के नाम से भी जाना जाता है. शनि जयंती और वट सावित्री व्रत दोनों एक ही दिन होते हैं. हिन्‍दू धर्म में इसका खास महत्‍व है. इस दिन शनि देव की पूरे विधि-विधान से खास पूजा- अर्चना की जाती है. मान्यता है कि इस दिन शनिदेव की उपासना करने से शनिजनित दोषों को कम किया जा सकता है.
  • Vat Savitri Vrat 2021: वट सावित्री व्रत पर इस विधि से करें पूजा, जानिए शुभ मुहूर्त, महत्व और पूजा की सामग्री
    Vat Savitri Vrat 2021:  वट सावित्री व्रत ज्येष्ठ मास की अमावस्या तिथि को रखा जाता है.  हिन्‍दू धर्म में सुहागिनों के लिए वट सावित्री व्रत का विशेष महत्व होता है. मान्‍यता है कि इस व्रत के प्रभाव से पति की उम्र लंबी होती है और वैवाहिक जीवन में सुख-शांति आती है. शादीशुदा महिलाएं इस दिन बरगद के पेड़ की पूजा करती हैं, परिक्रमा करती हैं और कलावा बांधती हैं.  वट सावित्री व्रत के दिन ही शनि जयंती भी मनाई जाती है. इस साल वट सावित्री व्रत 10 जून दिन गुरूवार को है.
  • उत्तराखंड: कोरोना के चलते कैंचीधाम में नीम करोली बाबा मंदिर अनिश्चितकाल के लिए किया गया बंद
    कोविड- 19 महामारी के चलते कैंचीधाम में स्थित प्रसिद्ध नीम करोली बाबा मंदिर के दरवाजे अनिश्चितकाल के लिए बंद कर दिए गए हैं. मंदिर समिति और जिला प्रशासन ने कोरोना के खतरे के मद्देनजर यहां 15 जून को होने वाले मेले में जुटने वाली भीड़ से बचने के लिए मंदिर को बंद करने का संयुक्त रूप से निर्णय किया.
  • Surya Grahan 2021: 10 जून को लगेगा सूर्य ग्रहण, दिखेगा 'Ring Of Fire', जानिए कब,कहां और कैसे देख सकेंगे
    Surya Grahan 2021: इस साल का दूसरा ग्रहण और पहला सूर्य ग्रहण 10 जून को लगने जा रहा है. यह ग्रहण एक 'रिंग ऑफ फायर' या वलयाकार सूर्य ग्रहण होगा. यानी ग्रहण के समय कुछ हिस्सों में रिंग ऑफ फायर (Ring of Fire) बनती हुई नजर आएगी. सूर्य ग्रहण के दौरान चंद्रमा सूर्य के लगभग 97 प्रतिशत हिस्से को कवर करेगा. भारत में यह सूर्य ग्रहण दिखाई नहीं देगा. बता दें कि इस साल का यह दूसरा ग्रहण है. 
  • Chardham Yatra: चारधाम यात्रा को चरणबद्ध तरीके से खोलने पर विचार कर रही उत्तराखंड सरकार
    उत्तराखंड सरकार कोविड-19 का प्रकोप कम होने तथा कोरोना कर्फ्यू के समाप्त होने के बाद चारधाम यात्रा को चरणबद्ध तरीके से खोलने पर विचार कर रही है. कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर के कारण पर्यटन उद्योग को हो रही समस्याओं पर चर्चा के लिए मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत से मुलाकात करने के बाद पर्यटन और संस्कृति मंत्री सतपाल महाराज ने बृहस्पतिवार को कहा कि यद्यपि इस संबंध में अभी अंतिम रूप से निर्णय नहीं हुआ है, लेकिन आने वाले हफ्तों में महामारी का प्रकोप अगर कम होता है तो चारधाम यात्रा को चरणबद्ध तरीके से खोलने के बारे में योजना बनाई जा रही है.
  • Solar Eclipse 2021: इस दिन लगेगा साल का पहला सूर्य ग्रहण, जानिए कहां दिखाई देगा
    Surya Grahan 2021 Date: साल 2021 का पहला सूर्य ग्रहण 10 जून को लगने वाला है. ये ग्रहण ज्येष्ठ मास की अमावस्या तिथि को लगेगा. इसी दिन वट सावित्री व्रत और शनि जयंती भी है. इसलिए इस ग्रहण का धार्मिक महत्व काफी बढ़ गया है. सूर्य ग्रहण के दौरान चंद्रमा सूर्य के लगभग 97 प्रतिशत हिस्से को कवर करेगा. यह सूर्य ग्रहण आंशिक सूर्य ग्रहण होगा. भारत में यह सूर्य ग्रहण दिखाई नहीं देगा. बता दें कि इस साल का यह दूसरा ग्रहण है. इससे पहले 26 मई को चंद्र ग्रहण लगा था और 15 दिन के भीतर 10 जून को सूर्य ग्रहण लगने जा रहा है.
  • Vrat & Festivals in June 2021: अपरा एकादशी से सूर्य ग्रहण तक, जून में पड़ेंगे ये व्रत- त्योहार
    Vrat & Festival in June 2021: जून के महीने की शुरुआत हो गई है. हिंदू धर्म के अनुसार, ये महीना पावन और शुभ माना जाता है. वहीं, हर महीने की तरह इस महीने में भी कई अहम व्रत- त्योहार पड़ने वाले हैं. इस माह में वट सावित्री व्रत, अपरा एकादशी जैसे कई व्रत और त्योहार पड़ रहे हैं. इसके अलावा इस महीने में साल का पहला सूर्य ग्रहण भी पड़ रहा है. आइए आपको बताते हैं कि जून 2021 के महीने में किस दिन मनाया जाएगा कौन सा महत्वपूर्ण त्योहार.
  • Apara Ekadashi 2021 Date: कब है अपरा एकादशी? इस दिन व्रत करने का होता है खास महत्व, जानिए शुभ मुहूर्त
    Apara Ekadashi 2021: हिन्‍दू पंचांग के अनुसार ज्‍येष्‍ठ मास कृष्‍ण पक्ष की एकादशी को अपरा एकादशी कहा जाता है. अपरा एकादशी को अचला एकादशी भी कहते हैं. अपरा एकादशी का हिन्‍दू धर्म में विशेष महत्‍व है.  मान्यता है कि जो भक्त विधि पूर्वक अपरा एकादशी का व्रत करते हैं उनके सभी कष्‍ट दूर हो जाते हैं और उसे सुख, समृद्धि और सौभाग्‍य की प्राप्‍ति होती है. इस बार यह एकादशी 6 जून को है. 
  • Ekdant Sankashti Chaturthi 2021: इस दिन है एकदंत संकष्टी चतुर्थी व्रत, ये है तिथि और शुभ मुहूर्त
    एकदंत संकष्टी चतुर्थी 2021 शनिवार, 29 मई, 2021 को मनाई जाएगी। हिंदू भक्त संकष्टी चतुर्थी के दिन भगवान गणेश का आशीर्वाद लेने के लिए उनकी पूजा करते हैं. कुछ भक्त एक दिवसीय गणेश संकष्टी चतुर्थी व्रत भी रखते हैं और अगली सुबह अपना उपवास खोलते हैं.
  • Chandra Grahan 2021: साल का पहला चंद्र ग्रहण आज, जानिए भारत में कब और कैसे दिखेगा
    Lunar Eclipse 2021: आज बुद्ध पूर्णिमा के दिन 26 मई को साल का पहला चंद्र ग्रहण लग रहा है. आज वैशाख पूर्णिमा भी है, जिसकी वजह से इस ग्रहण का महत्व अधिक बढ़ गया है. आज लगने वाला ग्रहण पूर्ण चंद्र ग्रहण है. ग्रहण के दौरान चंद्रमा पृथ्वी की अंधेरी छाया से होकर गुजरेगा. लेकिन भारत में यह एक उपछाया चंद्र ग्रहण के रूप में ही दिखाई देगा.  यह चंद्र ग्रहण 21 जनवरी 2019 के बाद से पहला पूर्ण चंद्र ग्रहण होगा. रिपोर्ट्स के अनुसार, आज दिखने वाला चंद्रमा इस साल दिखने वाला सबसे बड़ा चांद होगा.
  • Chandra Grahan 2021: लग गया है साल का पहला चंद्र ग्रहण, जानिए कब तक रहेगा असर और इससे जुड़ी मान्यताएं
    Lunar Eclipse 2021: साल 2021 का सबसे पहला चंद्र ग्रहण आज 26 मई के दिन लगा है. यह एक पूर्ण चंद्र ग्रहण है.  21 जनवरी 2019 के बाद से यह पहला पूर्ण चंद्र ग्रहण है. वहीं आज वैशाख और बुद्ध पूर्णिमा के होने से इस ग्रहण का महत्व अधिक बढ़ गया है. हालांकि, इस बार भारत में चंद्र ग्रहण उपछाया की तरह ही दिखेगा. इस वजह से सूतक काल मान्य नहीं होगा
  • Chandra Grahan: साल 2021 में कब और कितनी बार लगेंगे चंद्र और सूर्य ग्रहण? जानिए अहम बातें
    Lunar And Solar Eclipse 2021 Dates: साल का पहला चंद्र ग्रहण आज 26 मई को लगने वाला है. यह एक पूर्ण चंद्र ग्रहण है. यह चंद्र ग्रहण 21 जनवरी 2019 के बाद से पहला पूर्ण चंद्र ग्रहण होगा. ग्रहण के दौरान चंद्रमा के लाल और नारंगी रंग के दिखने के कारण पूर्ण चंद्र ग्रहण को अक्सर ब्लड मून कहा जाता है. सुपरमून शब्द का मतलब चंद्रमा का सामान्य से बड़ा दिखना होता है. रिपोर्ट्स के अनुसार, 26 मई को दिखने वाला चंद्रमा इस साल दिखने वाला सबसे बड़ा चांद होगा.
  • Chandra Grahan 2021: लगने वाला है साल का पहला चंद्र ग्रहण, जानिए कब, कहां और कैसे देख सकेंगे
    Lunar Eclipse 2021: आज 26 मई को इस साल का पहला चंद्र ग्रहण लगने वाला है. यह एक पूर्ण चंद्र ग्रहण होगा, क्योंकि चंद्रमा पृथ्वी की अंधेरी छाया से होकर गुजरेगा. लेकिन भारत में यह एक उपछाया चंद्र ग्रहण के रूप में ही दिखाई देगा. चंद्र ग्रहण के दौरान चंद्रमा के लाल और नारंगी रंग के कारण पूर्ण चंद्र ग्रहण को ब्लड मून कहा जाता है. ब्लड मून तब दिखाई देता है, जब चंद्रमा पृथ्वी की छाया में छुप जाता है और आकाश में लाल रंग की रोशनी नज़र आती है.
12345»

Advertisement

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com