दक्षिण अफ्रीका ने ब्रिटिश स्वास्थ्य मंत्री के दावे को किया खारिज, कहा- UK जैसा खतरनाक स्ट्रेन नहीं

ब्रिटेन में कोरोना वायरस का नया वेरिएंट (New Coronavirus Strain) तेजी से फैल रहा है. इसे काबू करने के लिए ब्रिटेन में लॉकडाउन (Lockdown) की घोषणा की गई है.

दक्षिण अफ्रीका ने ब्रिटिश स्वास्थ्य मंत्री के दावे को किया खारिज, कहा- UK जैसा खतरनाक स्ट्रेन नहीं

ब्रिटिश अधिकारियों ने कहा था कि वायरस का नया स्ट्रेन COVID के मुख्य स्ट्रेन की तुलना में 70 प्रतिशत तेजी से फैलता है.

खास बातें

  • दक्षिण अफ्रीकी स्वास्थ्य मंत्री ने ब्रिटिश समकक्ष का दावा किया खारिज
  • कहा- दक्षिण अफ्रीका में मिला नया कोविड स्ट्रेन नहीं खतरनाक और संक्रामक
  • ब्रिटिश मंत्री ने कहा था कि SA में मिले कोविड वैरिएंट अधिक संवेदनशील
जोहानिसबर्ग:

दक्षिण अफ्रीका (South Africa) के स्वास्थ्य मंत्री ने अपने ब्रिटिश समकक्ष के उस दावे को खारिज कर दिया है कि दक्षिण अफ्रीका में कोरोनावायरस (Coronavirus) का एक नया स्वरूप है, जो ब्रिटेन में फैले नए स्ट्रेन की तुलना में उससे भी ज्यादा संक्रामक या खतरनाक है. दक्षिण अफ्रीकी स्वास्थ्य मंत्री ज़ेल्विनी मखिज़े ने गुरुवार देर रात प्रकाशित एक बयान में कहा, "वर्तमान में, ऐसे कोई सबूत नहीं मिले हैं कि 501.V2 (संस्करण) यूनाइटेड किंगडम में फैले कोविड-19 संस्करण की तुलना में अधिक संक्रामक है- जैसा कि ब्रिटिश स्वास्थ्य मंत्री द्वारा दावा किया गया है."

बयान में यह भी कहा गया है, "इस बात के भी कोई सबूत नहीं हैं कि (यह) यूके के वैरिएंट या दुनिया भर में उपजे किसी भी वैरिएंट की तुलना में अधिक गंभीर बीमारी देने वाला या मृत्यु दर बढ़ाने वाला है."

पिछले 24 घंटे में भारत में दर्ज हुए 23,067 नए COVID-19 केस, 336 की मौत

बुधवार को दक्षिण अफ्रीका से यात्रा पर प्रतिबंध की घोषणा करते हुए ब्रिटिश स्वास्थ्य मंत्री मैट हैनकॉक ने कहा था कि दक्षिण अफ्रीका में मिले कोरोनावायरस का नया वैरिएंट अधिक संवेदनशील और चिंताजनक है क्योंकि यह अधिक संक्रामक  योग्य है, और वह ब्रिटेन में उपजे नए स्ट्रेन जैसा ही  प्रतीत होता है."

मखिज़े ने कहा कि ब्रिटिश मंत्री के शब्दों में "यह धारणा बन गई है कि दक्षिण अफ्रीका का कोरोना वायरस संस्करण ब्रिटेन में दूसरी लहर के संक्रमण का एक प्रमुख कारक रहा है, जो सही नहीं है.

जायडस कैडिला ने कोविड-19 टीके के तीसरे चरण के क्लिनिकल परीक्षण के लिये सरकर से मंजूरी मांगी

उन्होंने सबूतों की ओर इशारा करते हुए कहा कि  ब्रिटिश स्ट्रेन जो दक्षिण अफ्रीकी कोरोना वायरस वैरिएंट के समान है, ब्रिटेन के दक्षिण-पूर्वी काउंटी केंट में सितंबर के शुरू में ही दिखाई दिया था, जबकि, दक्षिण अफ्रीकी वैरिएंट एक महीने बाद विकसित हो सका. उन्होंने कहा कि इस आधार पर दोनों देशों के बीच लगाया गया यात्रा प्रतिबंध दुर्भाग्यपूर्ण हैं.


बता दें कि ब्रिटिश अधिकारियों ने कहा था कि वायरस का नया स्ट्रेन COVID के मुख्य स्ट्रेन की तुलना में 70 प्रतिशत तेजी से फैलता है.

वीडियो- कोरोना वायरस के फोबिया के कारण बढ़ रहे हार्ट अटैक से मौत के मामले

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com