विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Feb 09, 2023

तुर्की और सीरिया में भूकंप से 15,800 से अधिक लोगों की मौत, तुर्की के राष्ट्रपति ने माना-"बेशक, कमियां हैं"

Turkey Earthquake: सीरिया की सीमा के पास सोमवार को देश में आए भीषण भूकंप के बाद यूरोपीय संघ ने तुर्की में बचाव दलों को भेजने में तेजी दिखाई, लेकिन इसने शुरू में सीरिया को केवल न्यूनतम सहायता की पेशकश ही की.

Read Time: 24 mins
तुर्की और सीरिया में भूकंप से 15,800 से अधिक लोगों की मौत, तुर्की के राष्ट्रपति ने माना-
Syria Earthquake: तुर्की और सीरिया में भूकंप से अब तक 15,800 से अधिक लोगों की जान जा चुकी है.
अंताक्या:

तुर्की और सीरिया में भूकंप से अब तक 15,800 से अधिक लोगों की जान जा चुकी है. तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन ने बुधवार को राहत और बचाव कार्य में "कमियों" को स्वीकार किया. ऑनलाइन आलोचना बढ़ने पर एर्दोगन ने भूकंप के सबसे ज्यादा प्रभावित स्थानों में से एक का दौरा किया. भूकंप के केंद्र कहारनमारस में राहत कार्य में समस्याओं को स्वीकार करते हुए कहा, "बेशक, कमियां हैं. यह स्पष्ट तौर पर दिखाई दे रहा है. इस तरह की आपदा के लिए तैयार रहना संभव नहीं है."

Advertisement

भोजन और आश्रय पाने के लिए तुर्की में संघर्ष
भूकंप के कारण हजारों इमारतें ढह गईं हैं. अज्ञात संख्या में लोग अभी भी फंसे हुए हैं. राहत कार्यों को कड़ाके की ठंड ने भी बाधित किया है. लोग असहाय होकर मदद मांग रहे हैं, मगर मदद नहीं मिल पा रही है. तुर्की के हटे में एक किंडरगार्टन शिक्षक सेमिर कोबन ने कहा, "मेरा भतीजा, मेरी भाभी और मेरी भाभी की बहन मलबे में दबे हुए हैं. हम उन तक नहीं पहुंच सकते. हम उनसे बात करने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन वे जवाब नहीं दे रहे हैं... हम मदद का इंतजार कर रहे हैं. अब 48 घंटे हो गए हैं." उधर, बचाव दल 7.8 तीव्रता के भूकंप के तीन दिन बाद भी मलबे से जीवित बचे लोगों को मलबे से निकालने की कोशिश करता रहा. यह भूकंप इस सदी के सबसे घातक भूकंपों में से एक है. एएफपी पत्रकारों और नेटब्लॉक्स वेब मॉनिटरिंग ग्रुप के अनुसार, तुर्की मोबाइल नेटवर्क पर भी ट्विटर काम नहीं कर रहा था. भूकंप से बचे लोगों को भोजन और आश्रय पाने के लिए तुर्की में संघर्ष करना पड़ रहा है.

बच्चों को बचाया
जीवित बचे लोगों को खोजने के लिए बचावकर्ताओं के पास समय कम बचा है. भूकंप को आए 72 घंटे समय हो चुका है. आपदा विशेषज्ञों के अनुसार, इसके बाद जान बचना बेहद मुश्किल होता है. फिर भी, बुधवार को, बचावकर्ताओं ने तुर्की के हटे प्रांत में एक ढही हुई इमारत के नीचे से बच्चों को निकाला. बचावकर्ता एल्पेरेन सेतिंकाया ने कहा, "अचानक हमें आवाजें सुनाई दीं और खुदाई करने वाले को धन्यवाद... तुरंत ही हमने एक ही समय में तीन लोगों की आवाजें सुनीं." उन्होंने कहा, "हम अधिक लोगों के बचने की उम्मीद कर रहे हैं ... लोगों को यहां से जीवित निकलने की संभावना बहुत अधिक है." अधिकारियों और चिकित्सकों ने कहा कि तुर्की में 12,391 लोग मारे गए और सीरिया में कम से कम 2,992 लोग सोमवार को आए 7.8-तीव्रता के झटके से मारे गए. मरने वालों की कुल संख्या 15,383 हो गई है.

Advertisement

संख्या तेजी से बढ़ती रहेगी
विशेषज्ञों को डर है कि यह संख्या तेजी से बढ़ती रहेगी. यूरोपीय संघ ब्रुसेल्स में सीरिया और तुर्की के लिए अंतर्राष्ट्रीय सहायता जुटाने के लिए मार्च में एक डोनर सम्मेलन की योजना बना रहा है. यूरोपीय संघ की प्रमुख उर्सुला वॉन डेर लेयेन ने ट्विटर पर कहा, "हम अब एक साथ जीवन बचाने के लिए समय के खिलाफ दौड़ रहे हैं." वॉन डेर लेयेन ने कहा, "जब इस तरह की त्रासदी लोगों पर पड़ती है तो किसी को भी अकेला नहीं छोड़ा जाना चाहिए."

Advertisement

'हर पल मर रहे लोग'
क्षति के पैमाने और कुछ क्षेत्रों में आने वाली सहायता की कमी के कारण, जीवित बचे लोगों ने कहा कि वे आपदा का जवाब देने में अकेला महसूस कर रहे हैं. अपना पूरा नाम नहीं बताने वाले एक निवासी हसन ने विद्रोहियों के कब्जे वाले सीरियाई शहर जिंदयारिस में कहा, "यहां तक ​​कि जो इमारतें नहीं गिरी थीं, वे भी गंभीर रूप से क्षतिग्रस्त हो गईं थीं. प्रत्येक ढही हुई इमारत के नीचे लगभग 400-500 लोग फंसे हुए हैं, केवल 10 लोग उन्हें बाहर निकालने की कोशिश कर रहे हैं और कोई मशीनरी नहीं है." सीरिया के विद्रोहियों के कब्जे वाले इलाकों में मलबे के नीचे दबे लोगों को बचाने के प्रमुख प्रयासों में व्हाइट हेल्मेट्स ने "समय के खिलाफ दौड़" में अंतरराष्ट्रीय मदद की अपील की है.

Advertisement

राहत स्टॉक जल्द ही समाप्त हो जाएगा
युद्धग्रस्त सीरिया के उत्तर-पश्चिमी इलाकों में सरकार के नियंत्रण से बाहर रहने वाले दर्जनों इमारतों के मलबे के नीचे से जीवित बचे लोगों को बाहर निकालने के लिए व्हाइट हेल्मेट्स भूकंप के बाद से कड़ी मेहनत कर रहा है. संयुक्त राष्ट्र के एक प्रमुख अधिकारी ने उत्तर पश्चिम में विद्रोहियों के कब्जे वाले क्षेत्रों में सहायता की सुविधा के लिए आह्वान किया है. उन्होंने कहा है कि राहत स्टॉक जल्द ही समाप्त हो जाएगा. संयुक्त राष्ट्र के रेजिडेंट सीरिया समन्वयक एल-मुस्तफा बेनलामलिह ने एक साक्षात्कार में एएफपी को बताया, "राजनीति को एक तरफ रख दें और हमें अपना मानवीय कार्य करने दें."

Advertisement

सीरिया ने की यूरोपीय संघ से मदद की अपील
संकट प्रबंधन के लिए ब्लॉक के आयुक्त जानेज लेनार्सिक ने कहा कि सीरिया को सहायता का एक नाजुक मुद्दा है. दमिश्क सरकार ने यूरोपीय संघ से मदद के लिए एक आधिकारिक अनुरोध किया है. एक दशक के गृह युद्ध और सीरियाई-रूसी हवाई बमबारी ने पहले ही अस्पतालों को नष्ट कर दिया था. अर्थव्यवस्था को ध्वस्त कर दिया था और बिजली, ईंधन और पानी की कमी को बढ़ावा दिया था. लेनार्सिक ने कहा कि यूरोपीय आयोग चिकित्सा आपूर्ति और भोजन के लिए सीरिया के अनुरोध का जवाब देने के लिए यूरोपीय संघ के सदस्य देशों को "प्रोत्साहित" कर रहा है, जबकि यह सुनिश्चित करने के लिए निगरानी कर रहा है कि राष्ट्रपति बशर अल-असद की सरकार इस सहायता का फायदा न उठा पाए.

1939 के बाद सबसे बड़ी त्रासदी
संयुक्त राज्य अमेरिका, चीन और खाड़ी राज्यों सहित दर्जनों देशों ने मदद करने का संकल्प लिया है. खोज दल और साथ ही राहत सामग्री पहले ही आ चुकी है. सीरिया की सीमा के पास सोमवार को देश में आए भीषण भूकंप के बाद यूरोपीय संघ ने तुर्की में बचाव दलों को भेजने में तेजी दिखाई, लेकिन इसने शुरू में सीरिया को केवल न्यूनतम सहायता की पेशकश की क्योंकि असद की सरकार पर 2011 से यूरोपीय संघ के प्रतिबंधों के कारण प्रदर्शनकारियों पर क्रूर कार्रवाई की गई थी, जो कि गृहयुद्ध में बदल गया था. तुर्की-सीरिया सीमा दुनिया के सबसे सक्रिय भूकंप क्षेत्रों में से एक है. सोमवार का भूकंप तुर्की में 1939 के बाद से सबसे बड़ा देखा गया था. 1939 में पूर्वी एरज़िनकन प्रांत में 33,000 लोग मारे गए थे. 1999 में, 7.4 तीव्रता के भूकंप ने 17,000 से अधिक लोगों की जान ले ली थी.

यह भी पढ़ें-
"थैंक यू शशि जी" : लोकसभा में थरूर को देख PM मोदी ने कहा, BJP सांसद बोले- "हो गया कांग्रेस में बंटवारा"
"वो अब चल चुके हैं, वो अब आ रहे हैं...": PM नरेंद्र मोदी ने कसा राहुल गांधी पर तंज

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
नहीं मान रहा इजरायल, गाजा में आखिर हो क्या रहा है? अमेरिका पर किस बात का दबाव
तुर्की और सीरिया में भूकंप से 15,800 से अधिक लोगों की मौत, तुर्की के राष्ट्रपति ने माना-"बेशक, कमियां हैं"
हार्वर्ड तक पहुंचा इजरायल विरोधी प्रदर्शन, यूनिवर्सिटी में प्रदर्शनकारियों ने फहराया फिलस्तीनी झंडा, जानें 10 बातें
Next Article
हार्वर्ड तक पहुंचा इजरायल विरोधी प्रदर्शन, यूनिवर्सिटी में प्रदर्शनकारियों ने फहराया फिलस्तीनी झंडा, जानें 10 बातें
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;