टेटे खिलाड़ी मनिका बत्रा मामले में दिल्ली हाईकोर्ट ने केंद्र सरकार को दिया यह अहम निर्देश

मनिका बत्रा की तरफ से कहा गया कि उन्होंने कैम्प में हिस्सा नही लिया इसलिए उनका नाम चयन के लिए नही भेजा जबकि उन्होंने खुद के कोच से ट्रेंनिग ली है.

टेटे खिलाड़ी मनिका बत्रा मामले में दिल्ली हाईकोर्ट ने केंद्र सरकार को दिया यह अहम निर्देश

मनिका बत्रा ओलिंपिक दल में भारतीय दल की सदस्य थीं

खास बातें

  • नंबर-1 खिलाड़ी के साथ ऐसा बर्ताव क्यों?
  • आखिर मनिका बत्रा की गलती क्या है?
  • नवसिखिया बर्ताव क्यों कर रहा टेटे फेडरेशन?
नयी दिल्ली:

दिल्ली हाईकोर्ट ने टेबल टेनिस फेडरेशन ऑफ इंडिया के उस नियम पर अंतरिम रोक लगा दी है, जिसमें अंतरराष्ट्रीय आयोजनों के लिए चुने जाने के लिए राष्ट्रीय कोचिंग शिविर में भाग लेना अनिवार्य होता है. हाईकोर्ट ने केंद्र को बत्रा द्वारा लगाए गए आरोपों की जांच करने के आदेश दिए हैं.  हाईकोर्ट ने केंद्र को चार सप्ताह की अवधि के भीतर जांच करने को कहा, जिसकी रिपोर्ट अदालत  के समक्ष रखी जाएगी. हाईकोर्ट ने कहा है कि जांच करते समय, केंद्र इस बात पर भी विचार करेगा कि क्या फेडरेशन के मामलों में किसी और जांच की आवश्यकता है. मामले की अगली सुनवाई 28 अक्टूबर को होगी. वहीं केंद्र का कहना था कि उम्मीदवारों के चयन के लिए योग्यता ही एकमात्र मानदंड होना चाहिए और शिविर में भाग लेने या न जाने से भारत अपने सर्वश्रेष्ठ एथलीट को आगे भेजने से नहीं रोकेगा.  पिछली बार दिल्ली हाई कोर्ट ने मामले की सुनवाई करते हुए कहा था कि मनिका बत्रा सर्वोच्च रैंकिंग वाली खिलाड़ी है और इनकी मांग पर खेल मंत्रालय को विचार करना चाहिए. वहीं दिल्ली हाई कोर्ट ने मामले की सुनवाई करते हुए खेल मंत्रालय को 2 दिन के अंदर हाई कोर्ट को बताने के लिए कहा था कि उन्होंने मनिका बत्रा के मामले में क्या फैसला लिया है

मनिका बत्रा की तरफ से कहा गया कि उन्होंने कैम्प में हिस्सा नही लिया इसलिए उनका नाम चयन के लिए नही भेजा जबकि उन्होंने खुद के कोच से ट्रेंनिग ली है. भारतीय टेबल टेनिस स्टार मनिका बत्रा एशियन चैंपियनशिप के लिए नहीं चुना गया. फेडरेशन के फैसले से नाराज मनिका ने दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की है. टोक्यो ओलिंपिक में मनिका नेशनल कोच के बगैर खेलने उतरी थी. इसके बाद टीटीएफआई ने उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी किया था. मनिका ने जवाब देते हुए इस बात का पुरजोर खंडन किया कि कोच की मदद लेने से इनकार करके उन्होंने खेल की साख को नुकसान पहुंचाया है

 ये भी पढ़ें 
IPL 2021: कार्तिक त्यागी ने आखिरी ओवर में पंजाब से छीनी जीत, तो ड्रेसिंग रूम में सैमसन बोले- ब्रेट ली ने बदला मैच..'- Video
Iकार्तिक त्यागी की गेंदबाजी देखकर बुमराह भी चौंके, कहा, 'क्या ओवर था', तो युवा गेंदबाज ने यूं किया रिएक्ट
IPL 2021: फेबियन एलन ने लिया बाउंड्री पर हैरतअंगेज कैच, देखकर बल्लेबाज के भी उड़ गए होश, देखें Video
Video: कार्तिक त्यागी ने आखिरी ओवर में 1 रन देकर पलट दिया गेम, सहवाग बोले- पंजाब सिर्फ खुद को दोष दे सकता है

मनिका ने आरोप लगाया कि कोच ने उन्हें मार्च में ओलिंपिक क्वालीफायर के दौरान एक मैच गंवाने के लिए कहा था और इसी वजह से टोक्यो ओलिंपिक में सिंगल्स इवेंट में उन्होंने कोच की मदद लेने से इनकार कर दिया था. .मनिका बत्रा को टोक्यो ओलिंपिक के बाद से नेशनल कैंप का हिस्सा नहीं लिया था. उन्होंने कहा था कि अपने पर्सनल कोच के साथ ट्रेनिंग कर रही है और इसी वजह से सोनीपत में आयोजित हो रहे नेशनल कैंप में हिस्सा नहीं ले सकती.


 फेडरेशन ने टोक्यो ओलिंपिक के बाद खिलाड़ियों का नेशनल कैंप में हिस्सा लेने को अनिवार्य कर दिया था. हाल ही में फेडरेशन ने एशियन चैंपियनशिप के लिए टीम का ऐलान किया था. हालांकि इस टीम में मनिका का नाम शामिल नहीं है. फेडरेशन के इस फैसले से नाराज मनिका ने दिल्ली हाई कोर्ट में अपील की है 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: ICC T20 World Cup : महेंद्र सिंह धोनी होंगे टीम इंडिया के मेंटॉर, BCCI ने किया ऐलान . ​