सीमा विवाद पर बोले राजनाथ सिंह- कोरोना काल में चीन का रवैया उसकी नीयत दिखाता है

Eastern Ladakh Clash: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने कहा, 'हाल ही में हुए भारत-चीन विवाद से आप सभी परिचित हैं. कोविड जैसे संकट के समय में चीन का यह रवैया उस देश की नीयत को दिखाता है.'

सीमा विवाद पर बोले राजनाथ सिंह- कोरोना काल में चीन का रवैया उसकी नीयत दिखाता है

India-China Border Clash: राजनाथ सिंह ने IAF के कार्यक्रम में शिरकत की. (फाइल फोटो)

खास बातें

  • चीन पर बरसे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह
  • भारत-चीन सीमा विवाद का किया जिक्र
  • IAF के कार्यक्रम में पहुंचे थे राजनाथ सिंह
हैदराबाद:

देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने आज हैदराबाद में वायुसेना (IAF) के एक कार्यक्रम में शिरकत की. यह कार्यक्रम हैदराबाद के डुंडीगल स्थित एयरफोर्स अकादमी (IAF Academy Dundigal) में कंबाइंड ग्रेजुएशन परेड से जुड़ा था. इस दौरान उन्होंने कहा, 'हमारे एयर वॉरियर्स ने जिस तरह अपना सर्वस्व दांव पर लगाकर, देश की आन, बान, शान पर कोई आंच नहीं आने दी, वह अपने आप में एक मिसाल है. 1961 के गोवा मुक्ति संग्राम से लेकर 65 के भारत-पाकिस्तान युद्ध, 71 के बांग्लादेश मुक्ति संग्राम, 84 के ऑपरेशन मेघदूत, 99 में ऑपरेशन सफेद सागर और हाल ही में बालाकोट के कुछ ऐसे अध्याय हैं, जो न केवल वायुसेना के बल्कि हमारे देश के इतिहास के गोल्डन चैप्टर्स हैं.'

राजनाथ सिंह ने आगे कहा, 'नदन सेक्टर में हाल ही में हुए भारत-चीन विवाद से आप सभी परिचित हैं. कोविड जैसे संकट के समय में चीन का यह रवैया उस देश की नीयत को दिखाता है. हमने यह दिखा दिया है कि अब यह हमारा भारत कोई कमजोर भारत नहीं है. यह एक नया भारत है जो किसी भी तरह के ट्रांसग्रेशन, एग्रेशन या सीमाओं पर किसी भी तरह के यूनिलैटरल एक्शन का माकूल और मुक्कमल जवाब देने की कूवत रखता है.'

भारतीय बलों ने पीएलए का डटकर सामना किया, वे वापस जाने को मजबूर हुए : राजनाथ सिंह

उन्होंने आगे कहा, 'हमारे द्वारा उठाए गए कदमों की प्रशंसा और समर्थन कई बड़े देशों द्वारा भी हुई है, आप सब भी इससे अवगत होंगे. हम किसी भी विवाद का समाधान, शांतिपूर्ण और बातचीत के जरिए ही निकालने में यकीन रखते हैं. दोनों देशों के बीच मिलिट्री और डिप्लोमैटिक चैनल्स के जरिए बातचीत हो रही है. मैं फिर से कहना चाहूंगा कि हम संघर्ष नहीं बल्कि शांति चाहते हैं. मगर देश के स्वाभिमान पर किसी भी तरह की चोट हम बर्दाश्त नहीं करेंगे. हम किसी भी स्थिति का मुकाबला करने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं.'

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह किसानों के साथ बातचीत की अगुवाई करेंगे: सूत्र- 10 बड़ी बातें

रक्षा मंत्री ने आगे कहा, 'इसी तरह वेस्टर्न सेक्टर में पाकिस्तान से लगती सीमाओं पर आए दिन हमारा पड़ोसी कुछ न कुछ नापाक हरकतें करते रहता है. एक नहीं बल्कि चार युद्धों में मात खाने के बाद भी पाकिस्तान आतंकवाद के जरिए एक प्रॉक्सी वॉर लड़ रहा है. अब तो भारत आतंकवादियों के खिलाफ देश के भीतर ही नहीं बल्कि सीमा पार जाकर भी प्रभावी कार्रवाई कर रहा है. बालाकोट में भारतीय वायुसेना ने आतंकवाद के खिलाफ प्रभावी कार्रवाई करके सारी दुनिया को भारतीय सेना की ताकत और आतंक के खिलाफ उसके मजबूत इरादों से परिचित करा दिया है.'


VIDEO: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने की शस्त्र पूजा

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com