कोविड-19 से बेहतर एंटीबॉडी के लिए चिकित्सकों ने वैक्सीन की ‘बूस्टर’ डोज का दिया सुझाव 

बॉम्बे अस्पताल के डॉक्टरॉ ने कहा कि जिन लोगों को छह से आठ महीने पहले टीके की दोनों खुराक दी जा चुकी हैं, उनमें एंटीबॉडी की संख्या कम हो रही है.

कोविड-19 से बेहतर एंटीबॉडी के लिए चिकित्सकों ने वैक्सीन की ‘बूस्टर’ डोज का दिया सुझाव 

डॉक्टरों ने कहा कि परेशान होने की बजाय भारत में तीसरी लहर के लिए तैयार रहना चाहिए

मुंबई:

यूरोप में कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में वृद्धि के मद्देनजर महाराष्ट्र में कई डॉक्टरों ने सुझाव दिया है कि स्वास्थ्य और अग्रिम मोर्चे के कर्मियों को कोविड-19 रोधी टीके की एक बूस्टर खुराक दी जानी चाहिए. बॉम्बे अस्पताल के डॉक्टर गौतम भंसाली ने पीटीआई-भाषा से कहा कि जिन लोगों को छह से आठ महीने पहले टीके की दोनों खुराक दी जा चुकी हैं, उनमें एंटीबॉडी की संख्या कम हो रही है. जिन लोगों को टीके की दूसरी खुराक छह से आठ महीने पहले दी गई थी उनमें एंटीबॉडी की संख्या घट रही है. हमें स्वास्थ्यकर्मियों और अग्रिम मोर्चे पर काम कर रहे कर्मियों को टीके की बूस्टर खुराक देनी चाहिए क्योंकि उन्हें संक्रमण का खतरा अधिक है.

छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री ने लिखा पत्र, कोरोना वैक्सीन की बूस्टर डोज शुरू करने की मांग

भंसाली ने कहा कि जो लोग पहले से किसी रोग से पीड़ित हैं उन्हें भी यही खतरा है और उनको भी बूस्टर खुराक दी जानी चाहिए. यूरोप के देशों में कोविड-19 मामलों में वृद्धि फिर से देखी जा रही है. हमने प्रतिबंधों में ढील दे दी है इसलिए फरवरी या मार्च 2022 में संक्रमण की लहर आने की आशंका है. परेशान होने की बजाय हमें भारत में संक्रमण की तीसरी लहर के लिए तैयार रहना चाहिए. टीके से संक्रमण की तीव्रता के प्रति प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायता मिलती है यह साबित हो चुका है. अगर हम अभी बूस्टर खुराक के बारे में सोचें तो मुझे लगता है कि यह ठीक होगा. 

भारत में कोविड वैक्सीन की बूस्टर डोज की जरूरत पर अभी कोई वैज्ञानिक साक्ष्य नहीं : ICMR के डॉ. पांडा बोले


महाराष्ट्र राज्य कोविड-19 कार्यबल के एक सदस्य ने भी इसी प्रकार के विचार व्यक्त किये. उन्होंने कहा कि टीके की खुराक उपलब्ध है और हमें जीवन रक्षा के लिए उनका इस्तेमाल करना चाहिए. एक अन्य डॉक्टर ने कहा कि स्वास्थ्य क्षेत्र में काम करने वालों और सरकारी कर्मियों को टीके की तीसरी खुराक दी जानी चाहिए.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अफवाह बनाम हकीकत: देश में बूस्‍टर डोज लगनी चाहिए या नहीं? जानिए क्‍या कहते हैं एक्‍सपर्ट



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)