गृह मंत्रालय ने CAA के नियमों को तैयार करने के लिए छठे विस्तार की मांग की

संसदीय कार्य पर नियमावली के अनुसार, किसी भी कानून के लिए नियम राष्ट्रपति की सहमति के छह महीने के भीतर तैयार किए जाने चाहिए या अधीनस्थ विधान, लोकसभा और राज्यसभा की समितियों से विस्तार की मांग की जानी चाहिए.

गृह मंत्रालय ने CAA के नियमों को तैयार करने के लिए छठे विस्तार की मांग की

कानून को लागू किया जाना बाकी है, क्योंकि सीएए के तहत नियम अभी बनाए जाने बाकी हैं.

नई दिल्ली:

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने छठी बार नागरिकता (संशोधन) अधिनियम (सीएए), 2019 के नियमों को तैयार करने के लिए राज्यसभा और लोकसभा में संसदीय समितियों से एक और विस्तार की मांग की है. एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने एनडीटीवी को बताया कि हमने और समय की मांग करते हुए संसदीय समितियों से संपर्क किया है. उम्मीद है, हमें विस्तार मिलेगा. दरअसल, नागरिकता संशोधन अधिनियम 11 दिसंबर, 2019 को संसद द्वारा पारित किया गया था और अगले दिन राष्ट्रपति की इसके लिए मंजूरी प्राप्त हुई थी. इसके बाद गृह मंत्रालय ने इसकी सूचना दी. हालाँकि, कानून को लागू किया जाना बाकी है, क्योंकि सीएए के तहत नियम अभी बनाए जाने बाकी हैं.

BSP सांसद कुंवर दानिश अली ने CAA, NRC क़ानून वापस लेने की मांग की

संसदीय कार्य पर नियमावली के अनुसार, किसी भी कानून के लिए नियम राष्ट्रपति की सहमति के छह महीने के भीतर तैयार किए जाने चाहिए या अधीनस्थ विधान, लोकसभा और राज्यसभा की समितियों से विस्तार की मांग की जानी चाहिए. चूंकि, गृह मंत्रालय सीएए के लागू होने के छह महीने के भीतर नियम नहीं बना सका, इसलिए उसने समितियों के लिए समय मांगा है. पहले जून 2020 में और उसके बाद चार बार समय मांगा जा चुका है. पांचवां विस्तार सोमवार को समाप्त हो गया है.

केंद्र सरकार पहले ही स्पष्ट कर चुकी है कि सीएए के पात्र लाभार्थियों को भारतीय नागरिकता कानून के तहत नियम अधिसूचित होने के बाद ही दी जाएगी. सीएए का उद्देश्य पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान के हिंदुओं, सिखों, जैनियों, बौद्धों, पारसियों और ईसाइयों जैसे उत्पीड़ित अल्पसंख्यकों को भारतीय नागरिकता प्रदान करना है.

इन समुदायों के जो लोग वहां धार्मिक उत्पीड़न का सामना कर रहे थे और 31 दिसंबर, 2014 तक भारत आए थे, उन्हें अवैध अप्रवासी नहीं माना जाएगा और उन्हें भारतीय नागरिकता नहीं दी जाएगी. संसद द्वारा सीएए पारित होने के बाद, देश के विभिन्न हिस्सों में व्यापक विरोध प्रदर्शन हुए, जिसमें पुलिस फायरिंग और संबंधित हिंसा में लगभग 100 लोगों की मौत भी हुई.

बंगाल बीजेपी के सांसदों ने पीएम मोदी से मुलाकात कर सीएए को जल्द लागू करवाने की मांग की

कई राजनीतिक दलों का आरोप है कि ऐसी आशंकाएं हैं कि सीएए, जिसके बाद राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) का देशव्यापी संकलन होगा, प्रस्तावित नागरिक रजिस्टर से बाहर किए गए गैर-मुसलमानों को लाभान्वित करेगा, जबकि मुसलमानों को अपनी नागरिकता साबित करनी होगी. केंद्र ने हालांकि संसद को सूचित किया है कि अब तक राष्ट्रीय स्तर पर एनआरसी तैयार करने का कोई निर्णय नहीं लिया गया है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


रवीश कुमार का प्राइम टाइम : नागरिकता संशोधन कानून पास कराने में तेजी...तो सरकार, नियम बनाने में ऐसी सुस्ती क्यों?