किरण बेदी ने पुडुचेरी में 10 साल से चुनाव न होने के प्रधानमंत्री के बयान को सही ठहराया

पुडुचेरी में दशकों बाद साल 2006 में स्थानीय निकाय चुनाव हुए थे. इसका कार्यकाल साल 2011 में ही खत्म हो चुका है.प्रधानमंत्री ने ये बात राहुल गांधी के उन आरोपों के जवाब में कही. राहुल ने कहा था कि भारत में कोई लोकतंत्र नहीं है और यह केवल कल्पना में मौजूद है.

किरण बेदी ने पुडुचेरी में 10 साल से चुनाव न होने के प्रधानमंत्री के बयान को सही ठहराया

PM Modi ने भारत में लोकतंत्र न होने के राहुल गांधी के आरोपों का जवाब दिया था.

पुडुचेरी:

पुडुचेरी (Puducherry) के लेफ्टिनेंट गवर्नर किरण बेदी (Lieutenant Governor Kiran Bedi) ने केंद्रशासित प्रदेश में एक दशक से स्थानीय निकाय चुनाव न होने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) के बयान को सही ठहराया है. बेदी ने पीएमओइंडिया को टैग करने के साथ ट्वीट किया कि यह तथ्य है कि करीब एक दशक से पुडुचेरी में स्थानीय निकाय चुनाव नहीं हुए हैं. इससे ग्रामीण इलाकों को विकास से वंचित किया जा रहा है. इससे पर्याप्त साफ-सफाई, कमजोर जल प्रबंधन की समस्या के साथ स्कूली शिक्षा पर बुरा असर पड़ा है. 


उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को जम्मू-कश्मीर के लिए आयुष्मान भारत योजना का शुभारंभ करने के साथ विपक्षी दलों पर निशाना था. उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर के केंद्रशासित प्रदेश बनने के एक साल के भीतर वहां स्थानीय निकाय चुनाव कराए गए, जबकि पुडुचेरी (Puducherry) की कांग्रेस सरकार ने एक दशक से पंचायत और नगरपालिका चुनाव नहीं कराया. प्रधानमंत्री ने कहा कि पुडुचेरी में सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद पंचायत और नगरपालिका के चुनाव नहीं हो रहे हैं. सुप्रीम कोर्ट ने 2018 में ये आदेश दिया था. लेकिन वहां की कांग्रेस सरकार इस मामले को लगातार टाल रही है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


पुडुचेरी (Puducherry) में दशकों के इंतजार के बाद साल 2006 में स्थानीय निकाय चुनाव हुए थे. इन चुनावों में जो चुने गए उनका कार्यकाल साल 2011 में ही खत्म हो चुका है.प्रधानमंत्री ने ये बात कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) के उन आरोपों के जवाब में कही. राहुल गांधीने कहा था कि भारत में कोई लोकतंत्र नहीं है और यह केवल कल्पना में मौजूद है. मोदी ने कहा कि कुछ राजनीतिक दलों की कथनी और करनी में कितना बड़ा फर्क है, लोकतंत्र के प्रति वो कितना गंभीर है इस बात का पुडुचेरी के उदाहरण से लगता है.