सेंट्रल हॉल में आज सांसदों को संबोधित करेंगे IPU अध्यक्ष दुआरते पचेको, PM मोदी भी रहेंगे मौजूद

अंतर संसदीय संघ (IPU) के अध्यक्ष दुआरते पचेको (Duarte Pacheco) मंगलवार सुबह 9.30 बजे संसद के सेंट्रल हॉल में सांसदों को संबोधित करेंगे.

सेंट्रल हॉल में आज सांसदों को संबोधित करेंगे IPU अध्यक्ष दुआरते पचेको, PM मोदी भी रहेंगे मौजूद

भारत की संसद. (फाइल फोटो)

खास बातें

  • सांसदों को संबोधित करेंगे पचेको
  • पीएम नरेंद्र मोदी भी रहेंगे मौजूद
  • IPU के अध्यक्ष हैं दुआरते पचेको
नई दिल्ली:

अंतर संसदीय संघ (IPU) के अध्यक्ष दुआरते पचेको (Duarte Pacheco) मंगलवार सुबह 9.30 बजे संसद के सेंट्रल हॉल में सांसदों को संबोधित करेंगे. इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi), केंद्रीय मंत्री और कई सांसद भी मौजूद रहेंगे. इससे पहले सोमवार को IPU के अध्यक्ष का लोकसभा के अध्यक्ष ओम बिरला (Om Birla) ने स्वागत किया. बाद में लोकसभा अध्यक्ष ने मुलाकात के दौरान पचेको से कहा कि हर देश की अपनी संप्रभुता है. इसको मद्देनजर रखते हुए आवश्यक है कि किसी देश के अंदरुनी विषयों पर या उसकी संसद में बने कानूनों पर अन्य देशों के संसदों में चर्चा नही होनी चाहिए.

ओम बिरला ने कहा कि भारत की हजारों वर्षो से समृद्ध लोकतांत्रिक और सांस्कृतिक परंपरा रही है. गौरतलब है कि अंतर संसदीय संघ सबसे पुराना और सबसे बड़ा अंतरराष्ट्रीय संसदीय निकाय है, जिसके 179 से भी अधिक सदस्य हैं. अंतर संसदीय संघ पूरे विश्व में लोकतंत्र को बढ़ावा देने के लिए कार्य करता है. साथ ही अंतरराष्ट्रीय महत्व के मुद्दों पर विचार करता है.

संसदीय कार्यवाही के नियम लंबे समय तक स्थायी नहीं रह सकते, समय के साथ उनमें बदलाव जरूरी : हरिवंश

स्वतंत्रता के बाद से ही भारत अंतर संसदीय संघ का सक्रिय सदस्य रहा है. पहले लोकसभा के पूर्व अध्यक्ष जीएस ढिल्लों तथा राज्यसभा की तत्कालीन उपसभापति नजमा हेपतुल्ला ने भी अंतर संसदीय संघ के अध्यक्ष के रूप में कार्य किया है. भारत अंतर संसदीय संघ की विभिन्न स्थाई समितियों, मंचों और सलाहकार समूहों के सदस्य के रूप में संघ के विचार-विमर्श और चर्चाओं में सक्रिय रूप से योगदान करता रहा है.

संसद में विपक्ष ने की किसानों के मुद्दे पर तत्‍काल चर्चा की मांग, हंगामे से कई बार स्‍थगित करनी पड़ी कार्यवाही

पचेको ने कहा कि विश्व के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश के रूप में भारत दुनियाभर के लोकतांत्रिक देशों के लिए उदाहरण और प्रेरणा का स्रोत है. उन्होंने कहा कि भारत और आईपीयू दुनियाभर में लोकतांत्रिक मूल्यों को मजबूत बनाने की लिए प्रतिबद्ध हैं.

ब्रिटिश संसद में किसान आंदोलन पर हुुई चर्चा पर शशि थरूर बोले- 'सरकार का दोष नहीं है, लेकिन...'


उन्होंने आईपीयू के सदस्य देशों के बीच आपसी संवाद को बढ़ावा देने तथा सतत विकास लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए सामूहिक रूप से आगे बढ़ने पर जोर दिया. पचेको ने कहा कि भारत और पुर्तगाल दो मित्र देश नहीं बल्कि भाई हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: नंदीग्राम में बोले राकेश टिकैत- अगला टारगेट संसद पर फसल बेचने का होगा