लॉकडाउन में बेजुबानों का सहारा बनी ये टीम, 7 महीने से जानवरों को खिला रही खाना

टीम के सदस्य सरदार मंजीत सिंह कहते हैं कि लॉकडाउन की वजह से जीव-जन्तुओं को खाना नहीं मिलता था, इस वजह से वह हाइपर हो जाते थे.

खास बातें

  • लॉकडाउन में बेजुबान भोजन को तरसे
  • आगे आई ग्रेटर नोएडा की एक टीम
  • 7 महीने से बेजुबानों को खिला रही खाना
ग्रेटर नोएडा:

ऐसा नज़ारा शायद आपने कम ही देखा हो. गाड़ी आते ही बंदर और कुत्ते उसकी ओर लपक पड़ते हैं. लोग उतरकर बंदर को प्रेम से केला देते हैं, कुत्ते को दूध पिलाते हैं, गाय को चारा खिलाते हैं. तालाब में बतख और मछली को ब्रेड का टुकड़ा देते हैं. ये सभी किसी के पालतू जानवर नहीं हैं. लॉकडाउन (Covid 19 Lockdown) में सब कुछ बंद हो गया तो इनके भूखे मरने की नौबत आ गई थी. ग्रेटर नोएडा (Greater Noida) की एक टीम ने इस काम का बीड़ा उठाया है. टीम के सदस्य सरदार मंजीत सिंह कहते हैं कि लॉकडाउन की वजह से जीव-जन्तुओं को खाना नहीं मिलता था, इस वजह से वह हाइपर हो जाते थे. बच्चों को काट खाने दौड़ते थे, पर अब ऐसा नहीं है. अब खाकर ये शांत पड़े रहते हैं.

इनके मुताबिक, जब तक वह इन जानवरों को खाना नहीं खिलाते हैं, तब तक उनकी दिनचर्या शुरू नहीं होती है. ऐसे बेज़ुबानों की मदद के लिए ग्रेटर नोएडा की एक्टिव सिटिजन टीम के लोग सामने आए हैं. पिछले साल लॉकडाउन का अनुभव इस बार और काम आया. तब भी इन बेज़ुबानों की ऐसी ही मदद की गई थी. नतीजा जानवर भी किसी तरह का डर छोड़ खाने के लिए ऐसे आने लगे जैसे कब से जानते हों.

g9sqg2jo

इस टीम के हरिंदर भाटी ने बताया कि पहले तो हमें भी इनसे डर लगता था, अब तो लगता है कि ये दोस्त बन गए हैं. प्यार से बंदर को अब केला खिला पाते हैं. कोई छीना-झपटी नहीं करता है. दरअसल लॉकडाउन के दौरान जब इन बेजुबानों को भूखा देखा तो इनका मन विचलित हो गया. तभी से इस मिशन की शुरुआत हुई. पिछले सात महीने से यह काम जारी है और आगे भी जारी रहेगा.

ग्रेटर नोएडा के गांव मेवला गोपालगढ़ पहुंची डॉक्‍टरों की टीम, घर-घर जाकर किया कोरोना टेस्‍ट


इतना ही नहीं, तालाबों की मछलियों और बतखों का भी खयाल रखा गया है. यह सब बिना किसी सरकारी मदद के किया जा रहा है. समाजसेवी मनोज गर्ग कहते हैं कि हम लोग खुद पैसा जमा करके इनको खिलाते हैं. न कोई सरकार मदद करती है और न ही वे लोग किसी राजनैतिक दल से जुड़े हैं. वहीं इस अभियान से जुड़े रहिसुद्दीन सिद्दकी कहते हैं कि उनके हिसाब से इन बेजुबानों की सेवा ही सबसे बड़ा धर्म है, इसलिए वो रोजाना गाय और बंदरों को खाना खिलाते हैं. इस काम में समाज के हर वर्ग के लोग इस आपदा में ऐसे ही निस्वार्थ भाव से सामने आएं. ये मिसाल है कि जब सिस्टम चरमरा जाते हैं तो उसे संभालने के लिए जनता के बीच से इसी तरह हीरो निकलते हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: बनारस में कोरोना के कारण पीड़ित हुए परिवारों को भोजन पहुंचा रही संस्था