महाराष्‍ट्र, दिल्‍ली सहित 10 राज्‍यों में डबल म्‍यूटेंट मिला, कोरोना केसों में इजाफे में इसकी है भूमिका : सूत्र

सूत्रों के अनुसार, महाराष्ट्र, दिल्ली, पश्चिम बंगाल, गुजरात, कर्नाटक, मध्यप्रदेश में डबल म्यूटेंट मिला है. सब जगह पर मामले बढ़ने के पीछे म्यूटेंट की भी भूमिका है लेकिन यह नहीं कहा जा सकता की 100% राइज सिर्फ म्यूटेंट की वजह से है.

महाराष्‍ट्र, दिल्‍ली सहित 10 राज्‍यों में डबल म्‍यूटेंट मिला, कोरोना केसों में इजाफे में इसकी है भूमिका : सूत्र

देश में पिछले 24 घंटों में कोरोना के दो लाख से अधिक मामले सामने आए हैं (प्रतीकात्‍मक फोटो)

खास बातें

  • यह नहीं कहा सकते,100% राइज सिर्फ म्यूटेंट की वजह से है
  • जीनोम सीक्वेंसिंग के आधार पर मिली इसकी जानकारी
  • दिल्ली में यूके वेरिएंट और डबल म्यूटेंट भी पाया गया है
नई दिल्ली:

Covid-19 Pandemic: देश के कई राज्यों में कोरोना का डबल म्यूटेंट पाया गया है.करीब 10 राज्यों में वायरस का डबल म्यूटेंट पाया गया है. केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य और परिवार कल्‍याण मंत्रालय के सूत्रों ने यह जानकारी दी. सूत्रों के अनुसार, महाराष्ट्र, दिल्ली, पश्चिम बंगाल, गुजरात, कर्नाटक, मध्यप्रदेश में डबल म्यूटेंट मिला है. सब जगह पर मामले बढ़ने के पीछे म्यूटेंट की भी भूमिका है लेकिन यह नहीं कहा जा सकता की 100% राइज सिर्फ म्यूटेंट की वजह से है. करीब 14000 जीनोम सीक्वेंसिंग के आधार पर डबल म्यूटेंट की पुख्ता जानकारी आई है. मरने वालों और सेवेरिटी को लेकर म्युटेंट की भूमिका का एनालिसिस किया जा रहा है.दिल्ली में यूके वेरिएंट भी और डबल म्यूटेंट भी पाया गया है. 

कोरोना के आंकड़ों जितनी ही खतरनाक है संक्रमण की रफ्तार, आखिरी 10 लाख केस सिर्फ 6 दिन में

दिल्ली से मिली जुली स्थिति पंजाब में है, राज्‍य में 80% यूके वेरिएंट पाया गया है. मुंबई में डबल म्यूटेंट नहीं है महाराष्ट्र में करीब 60% है. 18-19 राज्य में यूके वेरिएंट मिला है, यह पता लगाया जा रहा है कि प्रीलिमिनरी इन्फेक्शन, री इन्फेक्शन में इनकी भूमिका है या नहीं. सिवेरिटी में भूमिका है या नही, डेथ में है या नहीं और वैक्सीन पर क्या असर होगा. 


कम संक्रमण वाले मरीज़ों के उपचार के लिए मुंबई के अस्पताल करेंगे 5-स्टार होटलों का इस्तेमाल

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


सूत्रों ने बताया कि जिन-जिन राज्यों में डबल म्यूटेंट की मौजूदगी है, उन राज्यों से इस जानकारी को साझा किया जा रहा है. तेजी से फैलाव को रोकने के लिए एक पॉलिसी डिसीजन सरकार लेती है. स्टेट सर्विलांस ऑफिसर से साझा किया जाता है. जैसे ही लैब से रिपोर्ट मिलती है IDSP को तो वो उसको स्टेट सर्विलांस ऑफिसर से शेयर करती है.स्टेट सर्विलांस ऑफिसर स्थिति के हिसाब से ग्राउंड पर एक्चुअल एक्शन प्लान करने में मदद मिलती है.जिलेवार तरीके से म्यूटेंट की जानकारी रहती है.यू के वेरिएंट देश के 70-80 जिलों में मिला है, वहीं साउथ अफ्रीकन और ब्राजीलियन वेरिएंट की मौजूदगी कम जिलों तक ही सीमित है.