दिल्ली: चार अस्पतालों ने ऑक्सीजन की कमी को लेकर आपात संदेश भेजा

. मयूर विहार स्थित कुकरेजा अस्पताल, तुगलकाबाद औद्योगिक क्षेत्र में स्थित बत्रा अस्पताल, पूसा रोड स्थित सर गंगाराम-कोलमेट अस्पताल तथा कालकाजी स्थित आईरीन अस्पताल ने एसओएस भेजा.

दिल्ली: चार अस्पतालों ने ऑक्सीजन की कमी को लेकर आपात संदेश भेजा

प्रतीकात्मक तस्वीर.

नई दिल्ली:

नयी दिल्ली: दिल्ली में कम से कम चार निजी अस्पतालों ने शुक्रवार को चिकित्सीय ऑक्सीजन की कमी को लेकर अधिकारियों को त्राहिमाम संदेश (एसओएस) भेजा. मयूर विहार स्थित कुकरेजा अस्पताल, तुगलकाबाद औद्योगिक क्षेत्र में स्थित बत्रा अस्पताल, पूसा रोड स्थित सर गंगाराम-कोलमेट अस्पताल तथा कालकाजी स्थित आईरीन अस्पताल ने एसओएस भेजा. सरकार के अधिकारियों ने एसओएस पर तत्काल प्रतिक्रिया देते हुए आईरीन अस्पताल और कुकरेजा अस्पताल में तीन डी-टाइप सिलेंडरों की आपूर्ति की. अधिकारियों ने कहा एक ऑक्सीजन टैंकर से बत्रा अस्पताल और कुकरेजा अस्पताल को ऑक्सीजन भेजी गई.

'आप' विधायक पर ऑक्सीजन की जमाखोरी का आरोप, दिल्ली हाईकोर्ट ने किया तलब

दिल्ली को 6 मई को 577 MT ऑक्सीजन मिली है जबकि दिल्ली की डिमांड 976 MT हैजबकि 5 मई को 730 MT मिली थी यानी 24 घंटे में 153MT की गिरावट दर्ज हुई. यह जानकारी दिल्‍ली सरकार के आप विधायक राघव चड्ढा ने दी. राघव चड्ढा ने शुक्रवार को कहा कि दिल्ली को छह मई को सिर्फ 577 मीट्रिक टन ऑक्सीजन प्राप्त हुई, जो इसकी 976 मीट्रिक टन की कुल आवश्यकता का 59 फीसदी है. दिल्ली जल बोर्ड के उपाध्यक्ष चड्ढा ने कहा कि प्राधिकारियों को बृहस्पतिवार को अस्पतालों से ऑक्सीजन की कमी को लेकर नौ SOS कॉल (त्राहिमाम संदेश) प्राप्त हुए और इन स्वास्थ्य इकाइयों को 5.1 मीट्रिक टन जीवन रक्षक गैस प्रदान की गई. 


दिल्ली में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 19832 नए मामले सामने आए, 341 मरीजों की मौत

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


राष्ट्रीय राजधानी को बुधवार को 730 मीट्रिक टन ऑक्सीजन प्राप्त हुई थी, जो अभी तक की सबसे अधिक मात्रा है. इसके चलते अस्पतालों से एसओएस कॉल में उल्लेखनीय कमी आयी थी. बुधवार को बढ़ी हुई आपूर्ति दिल्ली हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट के हस्तक्षेप के बाद मिली थी. हालांकि, एक दिन में इसमें 153 मीट्रिक टन की कमी आई, पिछले सात दिनों में दिल्ली को 976 टन की मांग के मुकाबले औसतन प्रतिदिन 498 मीट्रिक टन ऑक्सीजन प्राप्त हुई है.
 



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)