Yoga For Increase Height: नेचुरल तरीके से हाइट बढ़ाने की इच्छा है, तो यहां हैं आसानी से कद बढ़ाने के लिए 5 कारगर योग आसन

5 Yoga Asanas To Increase Height: कई लोग अपने कद को लेकर परेशान रहते हैं. छोटा कद न सिर्फ आपके आत्मविश्वास को कम कर सकता है बल्कि आपकी पर्सनालिटी पर भी असर डाल सकता है. ऐसे में हाइट बढ़ाने के नेचुरल तरीके तलाश रहे हैं, तो योग से बेहतर और क्या हो सकता है.

Yoga For Increase Height: नेचुरल तरीके से हाइट बढ़ाने की इच्छा है, तो यहां हैं आसानी से कद बढ़ाने के लिए 5 कारगर योग आसन

Yoga Asanas For Increase Height: योग का उपयोग लंबाई बढ़ाने के लिए भी किया जा सकता है.

खास बातें

  • योग का उपयोग आपकी लंबाई बढ़ाने के लिए भी किया जा सकता है.
  • छोटा कद आपका आत्मविश्वास कम कर सकता है.
  • योग हाइट बढ़ाने के नेचुरल तरीका हो सकता है.

Yoga Asanas For Increase Height: हमारी हाइट पर्यावरणीय परिस्थितियों और पोषण जैसे कई आनुवंशिक और गैर-आनुवांशिक कारकों पर निर्भर करती है. कई लोगों का कद छोटा ही रह जाता है. पिछले कुछ समय से लोगों में योग को लेकर काफी जागरूकता बढ़ी है. योग समग्र स्वास्थ्य के लिए चमत्कार कर सकता है, लेकिन आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि योग का उपयोग आपकी लंबाई बढ़ाने के लिए भी किया जा सकता है. अगर आप भी सोच ही रहे हैं कि हाइट कैसे बढ़ाएं? तो हम आपके लिए कुछ ऐसे ट्रिक्स और टिप्स लेकर आए हैं, जो आपकी लंबाई बढ़ाने में मदद कर सकते हैं. कई लोग अपने कद को लेकर परेशान रहते हैं. छोटा कद न सिर्फ आपके आत्मविश्वास को कम कर सकता है बल्कि आपकी पर्सनालिटी पर भी असर डाल सकता है. ऐसे में हाइट बढ़ाने के नेचुरल तरीके तलाश रहे हैं, तो योग से बेहतर और क्या हो सकता है. यहां कुछ ऐसे कारगर योग आसनों के बारे में बताया गया है जो आपकी हाइट बढ़ाने में मदद कर सकते हैं.

हाइट बढ़ाने के लिए असरदार योगासन | Effective Yoga To Increase Height

1. ताड़ासन

व्यायाम में सिर से पैर तक शरीर की सभी मांसपेशियों को खींचना शामिल है. यह बढ़ाव सभी शरीर के अंगों में आसन दबाव उत्पन्न करता है जो विकास हार्मोन के उत्पादन को सुविधाजनक बनाता है.

yogaYoga Asanas For Increase Height: ताड़ासन आपके कद को बढ़़ाने में मदद कर सकता है

- अपने पैरों, कमर और गर्दन को एक सीधी रेखा में संरेखित करें. दोनों पैरों को एक साथ रखें, हाथों की तरफ और हथेली जांघों के सामने.

.- सांस लेते हुए, अपनी दोनों बांहों को ऊपर की दिशा में एक-दूसरे के समानांतर उठाएं.

- धीरे-धीरे अपनी एड़ी उठाएं और अपने पैर की उंगलियों पर खड़े हों. जहां तक हो सके अपने शरीर को ऊपर की ओर तानें. अपने पैरों और हाथों को सीधा रखें.

2. वृक्षासन

वृक्षासन बढ़ती ऊंचाई में अद्भुत काम कर सकती है. जब पैर को मोड़कर दूसरी जांघ के ऊपर रखा जाता है, तो पूरे वजन को दूसरे पैर द्वारा वहन किया जाता है. यह आपकी मांसपेशियों को मजबूत बनाने में मदद करता है. इसके अलावा, जब गर्दन को ऊपर की ओर फ्लेक्स किया जाता है, तो पिट्यूटरी ग्रंथि (वृद्धि हार्मोन के उत्पादन के लिए जिम्मेदार) सक्रिय हो जाती है.

yoga

Yoga Asanas For Increase Height: हाइट बढ़ाने के लिए वृक्षासन को रोजाना करें

- फर्श पर एक साथ पैरों के साथ खड़े हो जाओ. हाथों को बगल में रखें और सामान्य रूप से सांस लें.

- बाएं पैर पर मजबूती से खड़े हों और दाएं पैर को अपने घुटनों पर मोड़ें. दाहिने पैर के एकमात्र हिस्से को भीतर की जांघों पर लाएं.

- बाएं पैर पर संतुलन रखें और दोनों हाथों को सिर के ऊपर उठाएं, कोहनी को मोड़ें और अपनी हथेलियों को आपस में मिलाएं.

- इस आसन को धीरे-धीरे सांस लेते हुए कुछ सेकंड तक पूरे शरीर के साथ रखें. विपरीत पैर के साथ प्रक्रिया को दोहराएं.

3. सर्वांगसन और शीर्षासन

दोनों ही पोज में गुरुत्वाकर्षण के विरुद्ध व्युत्क्रमण शामिल है. यह पिट्यूटरी ग्रंथि पर सीधे दबाव डालती है.

- अपनी हथेलियों को नीचे की ओर रखते हुए शवासन में पीठ के बल लेट जाएं.

- धीरे-धीरे अपने पैरों, नितंब और पीठ को ऊपर उठाएं ताकि आप अपने कंधों पर अधिक ऊपर आएं, पीठ को हाथों से सहारा दें.

- पैरों और रीढ़ को सीधा रखें. आपके वजन को आपके कंधों और ऊपरी बांहों पर सहारा देना चाहिए.

- अगर आपको लगे कि गर्दन में कोई खिंचाव है तो आसन से बाहर आ जाएं. 15 से 30 सेकंड तक मुद्रा में रहें.

yoga

Yoga Asanas For Increase Height: इस योगासन को धीरे-धीरे करने की कोशिश करें 

4. उस्त्रासन

इसे कैमल पोज के रूप में भी जाना जाता है, इसमें गर्दन के पीछे की ओर झुकना शामिल होता है जो मास्टर (पिट्यूटरी) ग्रंथि को ट्रिगर करता है. जो लोग रक्तचाप में उतार-चढ़ाव से पीड़ित हैं या पीठ की चोटें हैं, उन्हें इस मुद्रा से बचना चाहिए.

- वज्रासन में बैठें. अपने घुटनों के बल खड़े हों. अपनी पूंछ की हड्डी को पब की ओर खींचें, जैसे कि नाभि से खींचा जा रहा हो.

- अपनी हथेलियों को अपने पैरों पर सरकाते हुए अपनी पीठ को धनुषाकार और सीधे रखें.

- सामान्य रूप से सांस लेते हुए इस मुद्रा में कुछ सेकंड तक रहें.

- सांस छोड़ें और धीरे-धीरे शुरुआती मुद्रा में वापस आएं.

Covid-19 वैक्सीन के बाद क्यों लग रही है ठंड या बुखार? जानें टीके से पहले और बाद की सावधानियां

5. पश्चिमोत्तानासन

इस मुद्रा के साथ, पीठ जांघ की मांसपेशियों और गर्दन क्षेत्र पर दबाव डाला जाता है. स्लिप डिस्क या कटिस्नायुशूल से पीड़ित लोगों द्वारा इस विशेष आसन का अभ्यास नहीं किया जाना चाहिए.

- जमीन पर बैठें और अपने पैरों को छड़ी की तरह फैलाएं.

- सांस छोड़ते समय, आगे झुकें और अपने पैर की उंगलियों को अपने हाथ से पकड़ें.

- पीठ को सीधा रखते हुए, अपने घुटनों पर सिर को आराम देने की कोशिश करें.


- अपने घुटनों को मोड़ने से बचें और सामान्य रूप से सांस लेते रहें.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.