Dengue Fever: जानें, डेंगू बुखार में क्या खाएं और किन चीजों से रखें परहेज

डेंगू के लक्षण नजर आते ही तुरंत डाक्टर से संपर्क करना चाहिए ताकि यह बीमारी गंभीर रूप न ले सके. साथ ही खानपान का भी खास ख्याल रखना चाहिए, जिससे इस बीमारी से राहत पाने में मदद मिल सके. आइए जानते हैं कुछ ऐसी चीजों के बारे में जिनका सेवन डेंगू के बुखार से आराम दिला सकता है.

Dengue Fever: जानें, डेंगू बुखार में क्या खाएं और किन चीजों से रखें परहेज

डेंगू में ब्लड प्लेटलेट्स कम होना इसका मुख्य लक्षण है.

खास बातें

  • जानें, डेंगू बुखार में क्या खाएं क्या नहीं खाएं
  • डेंगू के बुखार के इलाज में पपीते के पत्ते को रामबाण माना जाता है.
  • डेंगू में तली-भुनी चीजों से परहेज करना चाहिए.

हर साल मानसून खत्म होने के बाद डेंगू बुखार के मामलों में काफी बढ़ोतरी देखी जाती है.  डेंगू एक मच्छर जनित वायरल बीमारी है जो मुख्य रूप से मादा मच्छर एडीज इजिप्टी के काटने से फैलती है. डेंगू में ब्लड प्लेटलेट्स कम होना इसके मुख्य लक्षण है. साथ ही इसमें तेज बुखार, स्किन पर दाने, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द और सिरदर्द जैसी समस्याएं भी हो सकती हैं. वहीं डेंगू का एक गंभीर रूप भी हो सकता है, जो गंभीर रक्तस्राव, ब्लड प्रेशर में गिरावट और कुछ मामलों में मृत्यु का कारण बन सकता है. यूं तो डेंगू के लक्षण नजर आते ही तुरंत डाक्टर से संपर्क करना चाहिए ताकि यह बीमारी गंभीर रूप न ले सके. साथ ही खानपान का भी खास ख्याल रखना चाहिए, जिससे इस बीमारी से राहत पाने में मदद मिल सके. आइए जानते हैं कुछ ऐसी चीजों के बारे में जिनका सेवन डेंगू के बुखार से आराम दिला सकता है. साथ ही उन खाद्य पदार्थो के बारे में भी जानेंगे, जिनका सेवन डेंगू बुखार के दौरान बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए.

डेंगू  बुखार में क्या खाएं क्या नहीं खाएं | What To Eat And What Not To Eat In Dengue Fever

सही आहार से और सही खानपान से डेंगू बुखार से राहत मिल सकती है. साथ ही शरीर में आई कमजोरी को दूर भी किया जा सकता है. आइए जानते हैं डेंगू बुखार में क्या खाना चाहिए.

papaya leaf

पपीते के पत्ते का रस

डेंगू बुखार के इलाज में पपीते के पत्ते को रामबाण माना जाता है. पपीते के पत्ते में काइमोपपैन और पपेन जैसे एंजाइम्स होते हैं, जो ब्लड प्लेटलेट काउंट बढ़ाने में मददगार माने जाते हैं. डेंगू बुखार से पीड़ित व्यक्ति को प्लेटलेट्स में सुधार लाने के लिए पपीते के पत्ते का रस पीना चाहिए.  

वेजिटेबल जूस

डेंगू मरीज का हाइड्रेट रहना बेहद जरूरी होता है. ऐसे में उन्हें अपनी डाइट में ज्यादा से ज्यादा तरल पदार्थ शामिल करना चाहिए. वेजिटेबल जूस एक अच्छा ऑप्शन हो सकता है. सब्जियां विटामिन और मिनरल्स से भरपूर होती हैं, जो आपके इम्यून सिस्टम को मजबूत करने के साथ-साथ आपको हाइड्रेट भी रख सकती है.

mpllimko

Photo Credit: iStock

नारियल पानी

नारियल पानी में एंटीऑक्सीडेंट्स, अमीनो- एसिड, एंजाइम्स, विटामिन सी जैसे कई पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो आपको हाइड्रेट रख सकता है और आपकी इम्यूनिटी को भी बढ़ा सकता है. साथ ही बुखार से आई कमजोरी को भी दूर करने में मदद कर सकता है.

अनार

अनार में फाइबर, विटामिन के, सी, बी, आयरन, पोटेशियम, जिंक और ओमेगा-6 फैटी एसिड जैसे पोषक तत्व होते हैं, जो शरीर में खून की कमी को दूर करता है. साथ ही ब्लड प्लेटलेट काउंट बढ़ाने में भी मदद कर सकता है.

हल्दी

हल्दी एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों और एंटी-बैक्टीरियल गुणों से भरपूर होता है, जो मेटाबॉलिज्म और इम्यूनिटी को बूस्ट करता है. रात में सोने पहले हल्दी वाला दूध पीना फायदेमंद हो सकता है.

kknob0so

Photo Credit: iStock

कीवी

कीवी में पोटेशियम, फाइबर, विटामिन सी, ई और फोलेट पाया जाता है.  यह शरीर के इलेक्ट्रोलाइट लेवल को संतुलित करने और  इम्यूनिटी को बढ़ाने में मददगार है.

डेंगू बुखार में क्या न खाएं

डेंगू में क्या नहीं खाना चाहिए इस बात का भी खास ख्याल रखना चाहिए ताकि डेंगू बुखार से रिकवरी में मदद मिल सके.

29vcsuao

फ्राइड फूड्स

डेंगू में तली-भुनी चीजों से परहेज करना चाहिए. इससे फैट बढ़ता है और यह आपकी इम्यूनिटी को कमजोर बना सकती है, जिससे बुखार से रिकवरी में परेशानी हो सकती है.

कैफीन और कार्बोनेटेड ड्रिंक्स

चाय, कॉफी, सोडा या सॉफ्ट ड्रिंक्स जैसे चीजों के सेवन से बचना चाहिए. इससे डिहाइड्रेशन की समस्या हो सकती है, जो डेंगू के बुखार में नुकसानदायक है.

मसालेदार भोजन

डेंगू के समय चटपटा, मसालेदार भोजन से भी दूरी बनाना चाहिए. यह एसिटीडी और पेट संबंधी परेशानी को बढ़ाकर बुखार से रिकवर करने में बाधा पैदा कर सकता है.

Vitamin-D Side Effects: खतरनाक है विटामिन डी की ओवरडोज! हो सकते हैं ये नुकसान

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.