International Coffee Day: क्या कैफीन के सेवन से हार्ट फेलियर और कैंसर होता है? जानें Caffeine से जुड़े मिथ्स और फैक्ट्स

International Coffee Day: यहां हम आपको कैफीन के बारे में 6 सबसे आम मिथ्स के बारे में बता रहे हैं जिन पर आपको विश्वास करना बंद कर देना चाहिए.

International Coffee Day: क्या कैफीन के सेवन से हार्ट फेलियर और कैंसर होता है? जानें Caffeine से जुड़े मिथ्स और फैक्ट्स

International Coffee Day 2021: यहां कैफीन के बारे में 6 सबसे आम मिथ्स के बारे में बता रहे हैं

खास बातें

  • कैफीन वाली ड्रिंक को एनर्जी ड्रिंक ड्रिंक के रूप में लेबल किया जाता है.
  • Coffee Day: कई लोगों में कैफीन का सेवन करने से अनिद्रा भी हो सकती है.
  • यहां हम आपको कैफीन के बारे में 6 सबसे आम मिथ्स के बारे में बता रहे हैं.

International Coffee Day 2021: कैफीन एक प्राकृतिक रूप से पाया जाने वाला पदार्थ है जो दुनिया भर में 63 से अधिक पौधों की प्रजातियों के पत्तों, बीजों और फलों में पाया जाता है. चाय, कॉफी और कुछ शीतल पेय जैसे कैफीन प्रोडक्ट का लोग नियमित रूप से आनंद लेते हैं. कैफीन वाली ड्रिंक को एनर्जी ड्रिंक ड्रिंक के रूप में लेबल किया जाता है. कैफीन अस्थायी रूप से थकान को कम करने के लिए एक उत्तेजक के रूप में कार्य करता है, जिससे अतिसंवेदनशील लोगों में अनिद्रा भी हो सकती है. कैफीन को हल्के मूत्रवर्धक के रूप में कार्य करने के लिए दिखाया गया है. कैफीन पर कई व्यापक अध्ययनों के बावजूद इसके बारे में कई भ्रांतियां हैं. यहां हम आपको कैफीन के बारे में 6 सबसे आम मिथ्स के बारे में बता रहे हैं जिन पर आपको विश्वास करना बंद कर देना चाहिए.

मिथ: कैफीन के प्रभाव नशे की लत है

फैक्ट: आपने अक्सर लोगों को यह कहते सुना होगा कि वे कैफीन के आदी हैं. विशेषज्ञों के अनुसार कैफीन व्यसनी नहीं है. जब कैफीन का सेवन अचानक बंद कर दिया जाता है, तो कुछ लोगों को सिरदर्द, थकान और उनींदापन का अनुभव हो सकता है. ये लक्षण आमतौर पर अधिकतम एक दिन तक रहते हैं और कैफीन का सेवन धीरे-धीरे कम करके आसानी से मैनेज किया जा सकता है.

मिथ: कैफीन से दिल की विफलता का खतरा बढ़ जाता है

फैक्ट: कई बड़े पैमाने के अध्ययनों से पता चला है कि कैफीन के सेवन से हृदय रोग का खतरा नहीं बढ़ता है और कोलेस्ट्रॉल या दिल की धड़कन पर कोई नकारात्मक प्रभाव नहीं पड़ता है. ब्लड प्रेशर में मामूली रिकवरी को उन लोगों में कैफीन की खपत से जोड़ा गया है जो इसके प्रति संवेदनशील हैं. हाई ब्लड प्रेशर से पीड़ित लोगों को अपने कैफीन सेवन के बारे में अपने चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए.

मिथ: कैफीन कैंसर का कारण बन सकता है

फैक्ट: इस बात को साबित करने के लिए पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण हैं कि कैफीन से कैंसर का खतरा नहीं बढ़ता है. नॉर्वे और हवाई में 20,000 से अधिक लोगों सहित बड़े पैमाने पर किए गए दो अध्ययनों में नियमित कॉफी की खपत/चाय के सेवन और कैंसर के जोखिम के बीच कोई संबंध नहीं पाया गया.

मिथ: कैफीन ऑस्टियोपोरोसिस के खतरे को बढ़ा सकता है

फैक्ट: ऐसे अध्ययन हैं जो बताते हैं कि कैफीन का सेवन मूत्र में कैल्शियम की कमी को बढ़ा सकता है. हालांकि, कोई भी नुकसान न्यूनतम पाया गया है और सीमित मात्रा में कैफीन होने से कैल्शियम संतुलन या अस्थि घनत्व प्रभावित नहीं होता है. अधिक से अधिक अध्ययनों ने पुष्टि की है कि कैफीन का सेवन ऑस्टियोपोरोसिस के लिए जोखिम कारक नहीं है.

मिथ: गर्भधारण करने की कोशिश कर रही महिलाओं और गर्भवती महिलाओं को कैफीन का सेवन नहीं करना चाहिए

फैक्ट: अध्ययनों ने प्रजनन कारकों पर कैफीन युक्त पेय पदार्थों के प्रभावों को करीब से देखा है. अध्ययनों से पता चलता है कि एक गर्भवती महिला और उसके अजन्मे बच्चे के लिए मध्यम कैफीन का सेवन सुरक्षित है. कैफीन के सेवन और गर्भ धारण करने की क्षमता के बीच कोई संबंध खोजने के लिए कोई ठोस सबूत नहीं है.

मिथ: कैफीन बच्चों के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है

फैक्ट: बच्चों के शरीर में वयस्कों की तरह ही कैफीन को प्रोसेस्ड करने की क्षमता होती है. अध्ययनों से पता चला है कि कम मात्रा में सेवन करने पर कैफीन वाली ड्रिंक का बच्चों के ध्यान या हाई ब्लड प्रेशर पर कोई पता लगाने योग्य प्रभाव नहीं पड़ता है. हालांकि संवेदनशील बच्चों में, कैफीन की उच्च खुराक चिड़चिड़ापन, उत्तेजना या चिंता जैसे अस्थायी प्रभाव पैदा कर सकती है.

कब्ज से तुरंत राहत! कभी नहीं होगी कब्ज अगर खाएंगे ये | कब्ज का रामबाण इलाज

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.