Shardiya Navratri 2021: नवरात्रि उपवास में बनाएं राजगिरे से ये 5 स्वादिष्ट व्यंजन

Shardiya Navratri 2021: व्रत के मौके पर साबूदाने की खिचड़ी और साबूदाने का वड़ा खाने में काफी हैवी हो जाता है इसलिए आज हम आपको बता रहें है आयरन और फाइबर से भरपूर राजगिरे के आटे की 5 फलाहारी रेसिपी जो आपके उपवास में रखेगी आपकी हेल्थ और टेस्ट दोनों का ख्याल.

Shardiya Navratri 2021: नवरात्रि उपवास में बनाएं राजगिरे से ये 5 स्वादिष्ट व्यंजन

Navratri 2021: व्रत में राजगिरे की इन रेसिपीज़ को करें ट्राई

Navratri Special 2021:  नवरात्रि का श्रद्धालु साल भर बेसब्री से इंतजार करते हैं. मां दुर्गा को प्रसन्न करने के लिए भक्त 9 दिन पूरे भक्ति भाव से व्रत रखते हैं. मां दुर्गा के भक्त पूरे विधि विधान से पूजा करते हैं. इन 9 दिनों तक देशभर में उत्सव जैसा माहौल रहता है, ऐसे में जो लोग 9 दिन का उपवास रखने वालों के सामने एक और परेशानी आती है वो ये की आखिर फलाहार में क्या खाएं, जो खाने में ज्यादा हैवी भी न हो और ऑयली भी न हो. व्रत के मौके पर साबूदाने की खिचड़ी और साबूदाने का वड़ा खाने में काफी हैवी हो जाता है इसलिए आज हम आपको बता रहें है आयरन और फाइबर से भरपूर राजगिरे के आटे की 5 फलाहारी रेसिपी जो आपके उपवास में रखेगी आपकी हेल्थ और टेस्ट दोनों का ख्याल.

राजगिरे के आटे के 5 स्वादिष्ट व्यंजनः

1. राजगिरे के आटे की पूरीः

नवरात्रि के व्रत में दिन भर के उपवास के बाद शरीर में एनर्जी कम होने लगती है, ऐसे में फलाहार के वक्त आप राजगिरे के आटे की पूरी खा सकते हैं. ये खाने में स्वादिष्ट होने के साथ साथ आपको एनर्जी भी देगा. इसे बनाने के लिए राजगिरे के आटे में उबले हुए आलू मिलाकर उसकी गरमा गर्म पूरी बनाएं और आलू की सब्ज़ी या लौकी की सब्ज़ी के साथ खाएं. व्रत रखने वाले राजगिरे के आटे की पूरी या पराठा खाना बहुत पसंद करते हैं.

c8fhnero

नवरात्रि के व्रत में दिन भर के उपवास के बाद शरीर में एनर्जी कम होने लगती है. 

2. राजगिरे के आटे का हलवाः

व्रत में कई लोग सेंधा नमक नहीं खाते हैं. ज्यादातर लोग उपवास में मीठी चीजें खाना पसंद करते हैं. ऐसे में राजगिरे के आटे का हलवा आपके व्रत और स्वाद दोनों का ख्याल रखता है. राजगिरे का आटा, घी, शक्कर और दूध मिलाकर इस हलवे को बनाया जाता है. राजगिरे का आटा ग्लूटेन फ्री होता है जिसके चलते वो लोग भी इस हलवे को फलाहार में शामिल कर सकते हैं जिन्हें ग्लूटेन से एलर्जी है. तो अगर फलाहार की लिस्ट बना रहे हैं तो इस स्वीट हलवे को अपनी लिस्ट में कर सकते हैं. 

3. राजगिरे का डोसाः

अगर आप व्रत कर रहे हैं और कुछ कुरकुरा और क्रिस्पी खाने का मन कर रहा है तो आप राजगिरी के आटे का फलाहारी डोसा बना कर खा सकते हैं. राजगिरे का डोसा जितना खाने में टेस्टी है उतना ही हल्का भी है. फलाहार में हमेशा साबूदाने के व्यंजन खाकर लोग बोर हो जाते हैं, ऐसे में ये एक नई और स्वादिष्ट रेसिपी है. राजगिरे का डोसा बनाने के लिए साबूदाने को रात में गला दें, सुबह उसमें दही मिलाकर मिक्सर ग्राइंडर में पीसें और फिर राजगिरे का आटा मिलाकर घोल तैयार कर लें. इसके बाद गरम तवे पर क्रिस्पी डोसा बनाएं. बस कुछ ही मिनटों में आपका गरमा-गरम फलाहारी डोसा बनकर तैयार है. इसे आप आलू के साथ या फिर किसी चटनी के साथ सर्व कर सकते हैं.

4. राजगिरा पनीर पराठाः

नवरात्रि के व्रत में पूरे 9 दिन अगर आप कुछ नई रेसिपीज़ ट्राई करना चाहते हैं तो पनीर पराठा बेस्ट ऑप्शन है. ज्यादातर व्रत में लोग सिंघाड़े के या फिर कुट्टू के आटे का पराठा खाते हैं , ऐसे में कुछ नया ट्राई करते हुए आप इस बार राजगिरे के आटे का पराठा खाएं वो भी पनीर की फिलिंग के साथ. यकीन मानिए व्रत में भी आप अपनी उंगलियां चाटते रह जाएंगे. इसे बनाने के लिए कद्दूकस पनीर में हरी मिर्च, हरी धनिया, नींबू का रस और नमक मिलाकर मिश्रण तैयार करें और फिर उसे राजगिरे के आटे में भरकर पराठे की तरह से सेकें. इसे किसी भी चटनी के साथ या सब्जी के साथ खा सकते हैं.

5. राजगिरे का लड्डूः

राजगिरे के लड्डू को लोग बड़े चाव से खाते हैं. इसका नाम सुनते ही मुंह में पानी आ जाता है. राजगिरे को रामदाना भी कहते हैं, इसलिए बाजार में ये रामदाने के लड्डू के नाम से भी फेमस है. राजगिरा फाइबर और आयरन से भरपूर होता है जिसे डाइजेशन के लिए अच्छा माना जाता है. ठंड में राजगिरा के लड्डू काफी फायदेमंद होता है. ये खाने में बहुत हल्का और टेस्टी लड्डू है, यही वजह है कि व्रत में इसे लोग बड़े चाव से खाते हैं. घर पर राजगिरे के आटे में गुड़, ड्राई फ्रूट्स और घी मिलाकर राजगिरे का लड्डू आधे घंटे में बनाया जा सकता है.

डॉक्‍टरों ने कहा था Count Your Days,अब कैंसर को हरा खुशियां गिन रहा है अमित


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.