Guru Purnima 2022: इस बार की गुरु पूर्णिमा क्यों है खास, जानें मुख्य वजह और महत्व

Guru Purnima 2022: इस बार की गुरु पूर्णिमा बेहद खास मानी जा रही है. ज्योतिष के अनुसार गुरु पूर्णिमा के दिन कई राज योग बन रहे हैं.

Guru Purnima 2022: इस बार की गुरु पूर्णिमा क्यों है खास, जानें मुख्य वजह और महत्व

Guru Purnima 2022: इस बार गुरु पूर्णिमा खास योगों के 13 जुलाई को मनाई जाएगी.

खास बातें

  • इस बार की गुरु पूर्णिमा है खास.
  • गुरु पूर्णिमा पर बन रहे हैं कई राज योग.
  • 13 जुलाई को मनाई जाएगी गुरु पूर्णिमा.

Guru Purnima 2022: गुरु की पूजा और उनका आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए 13 जुलाई को गुरु पूर्णिमा का पर्व मनाया जाएगा. पैराणिक मान्यता है कि आषाढ़ मास की पूर्णिमा के दिन वेदों के रचयिता महर्षि देव व्यास (Ved Vyas) का जन्म हुआ था. इसलिए गुरु पूर्णिमा के दिन व्यास जयंती (Vyas Jayanti 2022) भी मनाई जाती है. गुरु को भगवान से भी बढ़कर माना जाता है. वैसे तो गुरुदेव का आशीर्वाद प्रत्येक दिन प्राप्त किया जा सकता है, लेकिन गुरु पूर्णिमा के दिन गुरु का आशीर्वाद प्राप्त करने से जीवन सुखमय बना रहता है. इस बार की गुरु पूर्णिमा (Guru Purnima) कई मायनों में खास है. आइए जानते हैं आखिर इस बार की गुरु पूर्णिमा (Guru Purnima 2022) पर कौन-कौन से खास संयोग बन रहे हैं. 


 

इस बार की गुरु पूर्णिमा है बेहद खास | Guru Purnima 2022 is Special

इस साल गुरु पूर्णिमा 13 जुलाई को पड़ने वाली है. यह कई मायनों में खास माना जा रहा है. ज्योतिष शास्त्र (Astrology) के अनुसार, इस दिन कई राज योग (Raj Yog on Guru Purnima) बन रहे हैं. दरअसल इस दिन शश, हंस, भद्र और रुचक नामक 4 राज योग का निर्माण हो रहा है. इसके साथ ही इस दिन बुध ग्रह भी अनुकूल स्थिति में रहेंगे. जिसके बुधादित्य योग का निर्माण होगा. इसके अवाला शुक्र ग्रह मित्र ग्रहों के साथ बैठे हैं. जिसे बेहद शुभ माना जा रहा है. इस बार गुरु पूर्णिमा के दिन कई शुभ योग बनने के कारण इसका महत्व और भी बढ़ गया है. इस दौरान लिए जाने वाले गुरु मंत्र और दीक्षा से जीवन सफल हो सकता है. 

इस दिन मनाई जाएगी Guru Purnima, यह है तिथि, पूजा विधि और शुभ मुहूर्त

गुरु पूर्णिमा का महत्व | Guru Purnima 2022 Importance

गुरु पूर्णिमा (Guru Purnima 2022) के दिन गुरु-पूजा का विधान है. इस दिन शिष्य अपने गुरु का पूजन कर उनका आशीर्वाद प्राप्त करते हैं. जिससे शारीरिक और मानसिक परेशानियों से मुक्ति मिलती है. हिंदू धर्म में गुरु का स्थान भगवान से भी बढ़कर होता है. कहा जाता है कि बिना गुरु के आशीर्वाद से देवताओं के आशीर्वाद भी निष्फल हो जाते हैं. इसलिए गुरु पूर्णिमा के दिन गुरु का वंदन कर उनका आशीर्वाद प्राप्त किया जाता है.  

घर की इस दिशा में कभी ना लगाएं तुलसी, नहीं तो झेलनी पड़ सकती है मां लक्ष्मी की नाराजगी

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. एनडीटीवी इसकी पुष्टि नहीं करता है.)

सन टैनिंग को इन घरेलू नुस्खों से भगाएं दूर​

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com