दिल्ली के कुख्यात ड्रग तस्कर शराफत शेख को एक साल तक हिरासत में रखने का आदेश

दिल्ली उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश की अध्यक्षता में दो अन्य न्यायाधीशों के केंद्रीय सलाहकार बोर्ड ने दिया आदेश

दिल्ली के कुख्यात ड्रग तस्कर शराफत शेख को एक साल तक हिरासत में रखने का आदेश

कुख्यात ड्रग तस्कर शराफत शेख.

खास बातें

  • शराफत शेख पांचवीं क्लास तक पढ़ा है
  • पहले गाजियाबाद में एक ढाबे पर काम करता था
  • अधिक पैसा कमाने के लिए ड्रग विक्रेताओं के संपर्क में आया
नई दिल्ली:

ड्रग तस्कर शराफत शेख को अगले एक वर्ष तक हिरासत में रखा जाएगा. दिल्ली के हजरत निजामुद्दीन का निवासी शराफत शेख अवैध मादक पदार्थों की तस्करी में लिप्त है. उसकी गतिविधियों पर तुरंत अंकुश लगाने के लिए PITNDPS Act, 1988 के तहत हाल ही में दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच की नारकोटिक्स सेल ने एक प्रस्ताव तैयार करके PITNDPS Division, केंद्र सरकार के वित्त मंत्रालय के राजस्व विभाग को भेजा था. इस पर 2 अप्रैल को निरोध आदेश (Detention Order) जारी किया गया था.

दिल्ली उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश की अध्यक्षता में दो अन्य न्यायाधीशों के केंद्रीय सलाहकार बोर्ड ने एक जून को हुई सुनवाई में निरोध आदेश को उचित ठहराते हुए पुष्टि की है. केंद्रीय सलाहकार बोर्ड ने सुनवाई के बाद शराफत शेख के निरोध आदेश को मंजूरी दे दी. इसके बाद केंद्र सरकार ने निर्देश दिया है कि शराफत शेख को निरोध आदेश की तिथि दो अप्रैल 2021 से अगले एक वर्ष की अवधि के लिए हिरासत में रखा जाएगा.

शराफत शेख ने पांचवीं क्लास तक पढ़ाई की है. वह वर्ष 1977 में दिल्ली आया था और गाजियाबाद में एक ढाबे पर काम करता था. छह महीने के बाद उसने यह नौकरी छोड़ दी और नई दिल्ली के मीना बाजार में एक दुकान पर काम करना शुरू कर दिया. वर्ष 1986 में उसे दिल्ली पुलिस ने धारा 324/325 के तहत दर्ज एक केस में गिरफ्तार किया था. तभी न्यायिक हिरासत के दौरान उसकी मुलाकात इनायत नामक ड्रग विक्रेता से हुई थी. अधिक पैसा कमाने की इच्छा पूरी करने के लिए वह ड्रग विक्रेताओं के संपर्क में आया और धीरे-धीरे दिल्ली एनसीआर में हेरोइन के शीर्ष आपूर्तिकर्ताओं में से एक बनने के लिए अपराध की सीढ़ियां चढ़ता चला गया. 

शराफत ने दिल्ली और आसपास के अन्य इलाकों में भारी मात्रा में हेरोइन बेचना शुरू कर दिया और मोटी कमाई की. पहले वह कबाड़ी का काम करता था लेकिन साल 1997 में उसने अपनी कबाड़ की दुकान बंद कर दी. इसके बाद वह नितिन जैन नाम के एक व्यक्ति की मदद से चोरी के गहने भी लेने लगा. उसका परिवार भी नशीले पदार्थों की तस्करी में लिप्त रहा है और उनके खिलाफ ड्रग्स बेचने के कई मामले दर्ज हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


वर्तमान में भी शराफत शेख एक केस में तिहाड़ जेल में बंद है. उस पर नशीले पदार्थों की तस्करी के 5 मामले हैं. इसके अलावा वह आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत दर्ज अन्य 31 मामलों में शामिल पाया गया है. उसकी अवैध गतिविधियों पर अंकुश लगाने के लिए उसे एक वर्ष के लिए हिरासत में लिया गया है.