दिल्ली में अमेरिकी नागरिकों से ठगी करने वाले दो कॉल सेंटरों का भंडाफोड़, 94 अरेस्ट

पुलिस जब वहां पहुंची तो कॉल सेंटर में बैठे लोग अमेरिका की सोशल सिक्योरिटी एडमिनिस्ट्रेशन डिपार्टमेंट के अधिकारी बन अमेरिका नागरिकों को फोन कर रहे थे और उनका सोशल सिक्योरिटी नम्बर रद्द करने की धमकी देकर उनसे पैसे की मांग कर रहे थे.

दिल्ली में अमेरिकी नागरिकों से ठगी करने वाले दो कॉल सेंटरों का भंडाफोड़, 94 अरेस्ट

दिल्ली में दो कॉल सेंटरों का भंडाफोड़

नई दिल्ली:

दिल्ली पुलिस ने दो अवैध कॉल से सेंटरों का भंडाफोड़ करते हुए 94 लोगों को गिरफ्तार किया है ,जिसमें 20 महिलाएं भी शामिल हैं. ये कॉल सेंटर कीर्ति नगर और मंगोलपुरी में चल रहे थे. इन कॉल सेंटरों के जरिये अमेरिकी नागरिकों से ठगी की जा रही थी. क्राइम ब्रांच के डीसीपी मनोज के मुताबिक- एक खुफिया जानकारी के बाद कीर्ति नगर के कॉल सेंटर में छापेमारी की गई, जो द ग्लोबल ऐरफेयर नाम की ट्रेवल एजेंसी की आड़ में चलाया जा रहा था.

पुलिस जब वहां पहुंची तो कॉल सेंटर में बैठे लोग अमेरिका की सोशल सिक्योरिटी एडमिनिस्ट्रेशन डिपार्टमेंट के अधिकारी बन अमेरिका नागरिकों को फोन कर रहे थे और उनका सोशल सिक्योरिटी नम्बर रद्द करने की धमकी देकर उनसे पैसे की मांग कर रहे थे. सभी कॉल्स विकिडायल और एक्सलाइट सॉफ्टवेयर के जरिये VOIP कॉलिंग के जरिये की जा रहीं थीं.पुलिस को देखकर कॉल सेंटर में बैठे लोग भागने लगे, लेकिन पुलिस ने सभी को गिरफ्तार कर लिया. कुल 28 लोग पकड़े गए, जिनमें तीन महिलाएं भी शामिल थीं. 


दिल्‍ली से चोरी गाड़ियों का आतंकी तो नहीं करते थे इस्‍तेमाल!, कार चोर शौकत को लेकर जांच के लिए कश्‍मीर गई पुलिस टीम

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इन लोगों में टीम लीडर 25 साल का अमित कुमार और 30 साल का चंद्राहास पटेल ,मैनेजर नरेंद्र मिश्रा और कॉल सेंट्रर का मालिक 25 साल का अमित त्यागी है. अमित ने पूछताछ में बताया कि वह मंगोलपुरी में भी इसी तरह का एक और कॉल सेंटर चला रहा है. इसके बाद क्राइम ब्रांच की टीम ने वहां भी छापा मारा. वहां से पुलिस ने कॉल सेंटर में मौजूद 68 लोगों को गिरफ्तार किया, जिसमें 17 महिलाएं हैं. एक नाबालिग को भी पकड़ा गया है. ये कॉल सेंटर टेलीवन नाम की ई कॉमर्स एजेसी की आड़ में चलाया जा रहा था. अमित त्यागी ने बताया कि विनय त्यागी उसके कॉल सेंटर में पार्टनर है,इनके पास कॉल सेंटर चलाने के लिए कोई लाइसेंस नहीं था.