भारत में क्यों वेंटिलेटर की कमी से मर रहे हैं लोग?

स्वास्थ्य सचिव मार्च में 40,000 वेंटिलेटर लगाने की बात कर रहे थे तो अप्रैल में नीती आयोग के चीफ अमिताभ कांत 50,000 वेंटिलेटर के लिए उद्योग जगत से बात कर रहे थे. 6 अप्रैल 2020 को इंडियन एक्सप्रेस में अमिताभ कांत वाली खबर छपी है. 1 मई 2020 को एम्पावर्ड ग्रुप की प्रेस कांफ्रेंस होती है जिसमें कहा जाता है कि 60,884 वेंटिलेटर के लिए ऑर्डर दे दिया गया है. संसद को एक कानून बनाना चाहिए कि काम करना काम नहीं है बल्कि बात करना काम है.

आंध्र प्रदेश के तिरुपति के रुइया अस्पताल में आक्सीज़न की सप्लाई में बाधा आने से 11 मरीज़ों की मौत हो गई. तेलंगाना के भी एक दो अस्पतालों से ऐसी खबर आई है लेकिन प्रशासन ने पुष्टि नहीं की है. न जाने कहां कहां इस तरह से नरसंहार जारी है. आम तौर पर नरसंहार की खबरें बिना पुष्टि के बाहर आ जाती हैं मगर आक्सीजन की कमी से मरने वालों को प्रशासन की पुष्टि का इंतज़ार करना पड़ता है. रुइया अस्पताल की तस्वीरें इतनी भयावह हैं कि हम नहीं दिखा रहे हैं.

उधर बिहार के बक्सर और यूपी के गाज़ीपुर ज़िले के गहमर के पास गंगा में कई लाशें बहती हुई मिली हैं. इनकी संख्या 40 से लेकर 100 तक बताई जा रही है. ये सिर्फ कहीं से बहती चली आ रही लाशें नहीं हैं बल्कि एक आंकड़ा भी हैं जो मुमकिन है सरकारी रिकार्ड से गायब हो. दो राज्यों के प्रशासनों के बीच इस बात को लेकर विवाद है कि लाशें उनके यहां से नहीं बहाई गई हैं कहीं और से बहाई गई हैं. इसलिए कहता हूं कि आज के भारत में आंकड़े श्मशान में मिलते हैं, सरकार में नहीं. क्या पता कोई आर्थिक तंगी की वजह से अंतिम संस्कार न कर पाया हो. बिहार सरकार ने कहा है कि 71 लाशों को अंतिम संस्कार कर दिया गया है. यूपी सरकार को सतर्क रहना चाहिए.

यह भी मुमकिन है कि इतनी मौत हो गई हो कि जलाने की जगह और सामग्री कम पड़ गई हो और लोगों ने लाशों को बहा दिया हो. यूपी की सीमा से सटे बिहार के सारण जिले के मांझी प्रखंड में एक पुल है जिसका नाम है जयप्रभा सेतु. यहां देखा गया है कि लोग कोविड संक्रमित शवों को नदी में फेंक रहे हैं.

आए दिन एंबुलेंस से यहां शवों को लाया जाता है और फेंक दिया जाता है. स्थानीय लोगों ने कहा कि दोनों राज्यों की तरफ से लोग ऐसा कर रहे हैं. पुल के नीचे लाशों को फेंक कर भाग जाते हैं. 1918 के स्पेनिश फ्लू के समय यही हुआ था. भारत में इतने लोग मरे थे कि लाशों से नदियां भर गई थीं. 102 साल बाद हम उसी हालात में पहुंच गए हैं. क्या इन शवों को मरने वालों में गिना जा रहा है? मशहूर कवि सूर्यकांत त्रिपाठी निराला ने उस दौर को बयां करते हुए लिखा है, मैं दालमऊ में गंगा के तट पर खड़ा था. जहां तक नज़र जाती थी गंगा के पानी में इंसानी लाशें ही लाशें दिखाई देती थीं. काश इस तरह का सच कोई कवि गंगा के किनारे खड़ा होकर लिख रहा होता. इस लिए मरने वालों की संख्या का सरकारी आंकड़ा झूठा है. सांसद जनार्दन सिंह सिग्रीवाल भी कह रहे हैं कि लाशों को नदी में फेंका जा रहा है. छपरा पुलिस चेक करे.

कैसा समय है जो ज़िंदा है वो झूठ बोल रहा है और लाशें कभी श्मशान में तो कभी गंगा में बहती हुई सच बोल रही हैं. 

अमरीका की ब्राउन यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के डॉ आशीष झा का कहना है कि भारत में कोरोना से हर दिन 25 हज़ार मौतें तो हुई ही होंगी. जबकि बताया जा रहा है कि 4000 मौतें हुई हैं. डॉ आशीष झा को कई चैनलों पर बुलाया जाता है. उम्मीद है उनकी इस गणना को लेकर भी बुलाया जाएगा.

आपको याद होगा पिछले साल जब महामारी ने दस्तक दी थी तो दो बातें कही जाती थीं. टेस्टिंग, टेस्टिंग, टेस्टिंग. वेंटिलेटर वेंटिलेटर वेंटिलेटर. एक साल बाद भारत में टेस्टिंग का हाल यह है कि दिल्ली एनसीआर में अप्रैल के महीने में खुद मैंने टेस्ट के लिए बुक किया तो सैंपल लेने के लिए चार दिन बाद का समय मिला. एक दो तो पैसे लेकर आए ही नहीं. कई ऐसे मामले सामने आए कि कोविड का मरीज़ मर गया, उसके बाद रिपोर्ट आई है. बहुतों का तो टेस्ट ही नहीं हुआ. जब अप्रैल में ही टेस्टिंग नहीं हो रही थी तो मई की इस खबर का क्या किया जाए कि टेस्टिंग कम कर दी गई है. अब आते हैं वेंटिलेटर की बात पर. इस दौरान आक्सीज़न के बाद दूसरी अपील वेंटिलेटर की आई. वेंटिलेटर को लेकर जिस तरह पिछले साल दावे किए गए हैं वो बताने जा रहा हूं ताकि फ्लैश बैक में आपको पता चले कि आपको किस तरीके से बुद्धिमान बनाया जा रहा था. बुद्धू ठीक नहीं लगता है क्योंकि आज कल बुद्धिमान भी इसी ग्रेड के मिलते हैं. अब आपको पता चलेगा कि कैसे वेंटिलेटर के नाम पर इस देश में वेंटिलेटरी हो रही थी.

आप अमिताभ कांत हैं. आप नीति आयोग के चीफ हैं. आपने 25 जून 2020 को एक ट्वीट किया है. इसमें लिखा है कि भारत हर दिन 1000 वेंटिलेटर बना रहा है. जल्दी ही निर्यात करने लगेगा. फोकस निर्यात पर है ताकि प्रोपेगैंडा मास्टर इस ट्वीट को लेकर आपको बता सकें कि भारत इस स्थिति में आ गया कि वेंटिलेटर निर्यात करने लगा है. अगर आप सीरीयस हैं और हंसेंगे नहीं तो इन्हीं अमिताभ कांत का इसी साल के 8 मई का ट्वीट दिखाना चाहता है. निर्यात का गौरव गान करने वाले कांत अब आयात की तारीफ कर रहे हैं.

8 मई - भारतीय कस्टम ने ब्रिलिएंट जॉब कर दिया है, सभी वेंटिलेटर, आक्सीजन कंस्ट्रेटर, और दवाओं को मंज़ूरी दे दी है जो विदेशी मदद के रुप में भारत आए हैं. उन्होंने काफी तेजी से काम किया. सराहना करता हूं.

जो व्यक्ति पिछले साल जून में भारत में हर दिन 1000 वेंटिलेटर बनाने की बात कर रहे थे वो इस साल अप्रैल में विदेशी मदद के तौर पर आए वेंटिलेटर का स्वागत कर रहे हैं. कस्टम की मंज़ूरी मिलने की बधाई दे रहे हैं. अमिताभ कांत को बताना चाहिए कि हर दिन बनने वाला 1000 वेंटिलेटर कहां गया? उनके हिसाब तो अब तक भारत में ढाई लाख से अधिक वेंटिलेटर बन गए होंगे. सब निर्यात कर दिया? 

हिन्दू बिज़नेस लाइन की 24 मार्च की रिपोर्ट है. इंडियन काउंसिल फॉर मेडिकल रिसर्च ICMR का एक शोध पत्र है कि उस समय किए गए सबसे ख़राब अनुमान के अनुसार दिल्ली में 90 लाख लोगों को हल्के लक्षण वाला संक्रमण होगा और 4.5 लाख लोगों को वेंटिलेटर की ज़रूरत पड़ेगी.

सिर्फ दिल्ली के लिए यह अंदाज़ा था वो भी पिछले साल का. इस साल कितने लोगों को वेंटिलेटर की ज़रूरत पड़ी और कितनों को मिला और कितनों को नहीं मिला जिसके कारण वे मर गए, इसकी कोई गिनती नहीं है. do you get my point. हम फ्लैशबैक में आपको यही बताना चाहते हैं कि कैसे अलग अलग समय में आंकड़े जारी होते हैं और बाद में पता चलता है कि जितना दावा किया गया था उतना वेंटिलेटर आया ही नहीं. 22 मार्च को स्वास्थ्य सचिव लव अग्रवाल का बयान आता है कि 1200 वेंटिलेटर के ऑर्डर दिए गए हैं. पांच दिन बाद 27 मार्च को बयान आया है कि 40,000 वेंटिलेटर चाहिए.

लव अग्रवाल 27 मार्च - “हमारे एक PSU को हमने 10 हज़ार वेंटिलेटर की आपूर्ति करने के आदेश जारी किए हैं. इसके साथ ही भारत इलेक्ट्रॉनिक लिमिटेड से भी एक से दो महीने के अंतर्गत 30 हज़ार एडिशनल वेंटिलेटर ख़रीदने का अनुरोध किया गया है. जैसा कि आपको मालूम होगा कि भारत इलेक्ट्रॉनिक लिमिटेड रक्षा मंत्रालय का एक सार्वजनिक क्षेत्र का उपक्रम है. सरकार देश में वेंटिलेटर की उपलब्धता बढ़ाने के लिए सभी required कार्य कर रही है.”

स्वास्थ्य सचिव मार्च में 40,000 वेंटिलेटर लगाने की बात कर रहे थे तो अप्रैल में नीती आयोग के चीफ अमिताभ कांत 50,000 वेंटिलेटर के लिए उद्योग जगत से बात कर रहे थे. 6 अप्रैल 2020 को इंडियन एक्सप्रेस में अमिताभ कांत वाली खबर छपी है. 1 मई 2020 को एम्पावर्ड ग्रुप की प्रेस कांफ्रेंस होती है जिसमें कहा जाता है कि 60,884 वेंटिलेटर के लिए ऑर्डर दे दिया गया है. संसद को एक कानून बनाना चाहिए कि काम करना काम नहीं है बल्कि बात करना काम है. इससे देश की जो तरक्की होगी किसी और चीज़ से नहीं होगी. क्योंकि बात में कोई चालीस हज़ार वेंटिलेटर का डेटा दे रहा है तो कोई पचास हज़ार का.

4 अगस्त 2020 को लाइव मिंट की एक खबर दिखाना चाहता हूं जो दूसरी जगहों पर भी छपी है. एक प्रेस कांफ्रेस में स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण कहते हैं कि 60,000 वेंटिलेटर का आर्डर दिया गया था. 96 प्रतिशत मेक इन इंडिया का है. इसमें से 50,000 वेंटिलेटर पीएम केयर फंड से खरीदने का आर्डर हुआ है जिसके लिए 2000 करोड़ दिया गया है. राज्यों को 18,000 वेंटिलेटर की सप्लाई हो गई है.

14 अगस्त को बिज़नेस स्टैंडर्ड में खबर छपती है कि भारत इलेक्ट्रीकल लिमिटेड ने एलान किया है कि 30,000 वेंटिलेटर बनाकर दे दिए गया है.

अब 29 अप्रैल 2021 की बिज़नेस स्टैंडर्ड की रिपोर्ट देखिए. इसमें कहा जा रहा है कि 35,179 वेंटिलेटर ही खरीदा गया. लेकिन दिसंबर के अंत में पीटीआई के हवाले से खबर छपती है सरकारी अस्पतालों में 36,433 वेंटिलेटर लगाए गए हैं. 50 हज़ार के वादे के हिसाब से देखें तो कुल 13,567 वेंटिलेटर कम ही आए. 60,000 हज़ार के हिसाब से जितना आर्डर दिया गया था उससे काफ़ी कम सप्लाई है. कब नंबर गोल हो जाता है कब नंबर आधा हो जाता है पता नहीं चलता. 

थोड़े आंकड़े ज़्यादा हैं लेकिन इसी से आपको समझना है तभी आप समझ पाएंगे कि आपके अपने वेंटिलेटर की कमी से मर गए या मार दिए गए. लेकिन 9 अगस्त 2020 को बीजेपी अध्यक्ष नड्डा कहते हैं कि 50,000 वेंटिलेटर उपलब्ध है और 20,000 वेंटिलेटर पीएम केयर के तहत पाइप लाइन में है.

9 अगस्त 2020 - “उस समय वेंटिलेटर की व्यवस्था नहीं थी. आज 50,000 से ज़्यादा हमारे पास उपलब्ध है. और PM CARES के माध्यम से लगभग 20,000 और pipeline में है. कोई भी ICU बेड की कमी नहीं है. कोई भी बेड की कमी नहीं है. ये व्यवस्था आपके नेतृत्व में हुआ है.”

फ्लैशबैक बेहद डरावना है. पिछले साल महामारी शुरू होते ही यह बात सामने आने लगी कि पहले से भारत में चालीस हज़ार वेंटिलेटर हैं. अब नड्डा जी के बयान की जांच का कोई तरीका हमारे पास नहीं है कि उनके हिसाब से पचास हज़ार नए वेंटिलेटर अगस्त तक हो गए थे या पहले से जो चालीस हज़ार थे उसमें दस हज़ार जोड़े गए थे. भारत में आकंड़े श्मशान में मिलते हैं. फिर दिसबंर की ख़बर क्या झूठी थी कि सरकार ने पचास हज़ार वेंटिलेटर के आर्डर दिए थे और मिला 36,433 वेंटिलेटर.

24 सितंबर 2020 के इंडिया टुडे की रिपोर्ट कहती है कि सरकार ने जो डेटा जारी किया है उससे पता चलता है कि 60,948 वेंटिलेटर के आर्डर दिए गए थे. इसमें से अभी तक अलग अलग राज्यों के सरकारी अस्पतालों में 23,699 वेंटिलेटर ही लगा है. इस रिपोर्ट में गर्वनमेंट डेटा लिखा है, गर्वनमेंट के किस डिपार्टमेंट का डेटा है यह नहीं लिखा है.

जब कि 31 अक्तूबर को प्रधानमंत्री इकोनमिक टाइम्स को इंटरव्यू देते है और कहते हैं कि पहले की सरकारो में 15-16 हज़ार वेंटिलेटर काम करने की हालत में थे. हम हम तेजी से इसमें 50,000 वेंटिलेटर और जोड़ने जा रहे हैं. क्या प्रधानमंत्री सिर्फ पीएम केयर फंड के प्रधानमंत्री हैं? ऐसा तो हो नहीं सकता, लिहाज़ा वे भारत सरकार के आर्डर की ही बात कर रहे होंगे.

PM CARES की वेबसाइट पर लिखा है कि 2000 करोड़ रुपये 50,000 ‘Made-in India' वेंटिलेटर की सप्लाई के लिए हैं जिनको केंद्र/राज्य/UT के सरकारी अस्पतालों को दिया जाएगा. पीएम केयर फंड इतना पारदर्शी फंड है कि आप सूचना के अधिकार से भी कोई सवाल नहीं कर सकते और प्रधानमंत्री प्रेस कांफ्रेंस तो करते नहीं तो सवाल नहीं कर सकते. सात साल में एक भी प्रेस कांफ्रेंस प्रधानमंत्री ने नहीं की है. लेकिन ये पचास हज़ार आज किस हाल में हैं इसकी कोई अधिकृत जानकारी नहीं है.

अब यहां पर रुकते हैं और देखते हैं कि पिछले साल स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन वेंटिलेटर को लेकर क्या क्या बयान दे रहे हैं. वैसे इस डार्क टाइम में उनका यह सुझाव कहीं ज़्यादा सालिड है कि कोविड के तनाव से बचने के लिए थोड़ी मात्रा में डार्क चाकलेट लें. काश मंत्री जी यह भी बता पाते कि वेंटिलेटर न मिलने से अपनों के मरने के वक्त जो तनाव होता है उस समय कौन सा चाकलेट खाना चाहिए. अगर ये इतना काम का आइडिया है तो प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत गेंहूं चावल के साथ साथ डार्क चाकलेट भी दिया जाए.

फ्रांस की महारानी ने केक खाने की बात कही थी, गरीब मुल्क बट विश्व गुरु भारत के स्वास्थ्य मंत्री डार्क चाकलेट खाने की बात कर रहे हैं. इससे डार्क क्या हो सकता है. मेरा सुझाव है कि अगर डार्क चाकलेट न मिले तो आप कोई भी चॉकलेट खरीद लें और बत्ती बुझाकर कमरे में डार्क कर लें फिर उस चाकलेट को खा लें कोविड का तनाव दूर हो जाएगा. और डॉ हर्षवर्धन के ट्विटर अकाउंट पर एक फोटो टैग कर दें जैसे गजेंद्रा विद डार्क चाकलेट. खैर हम आते हैं कि पिछले साल स्वास्थ्य मंत्री वेंटिलेटर को लेकर क्या बात कर रहे थे? 

29 अप्रैल 2020 का बयान है कि कोविड के मरीज़ों का मात्र 0.33 प्रतिशत ही वेंटिलेटर पर हैं जो बताता है कि कोविड के रोकथाम और देखभाल की क्वालिटी कितनी अच्छी है.

तो क्या इस साल कोविड केयर की क्वालिटी अच्छी नहीं थी जिसके कारण लोगों को वेंटिलेटर की ज़रूरत पड़ गई और उसकी तलाश में उनके अपने मर गए. डॉ हर्षवर्धन से पूछिए but guys, please have some dark chocolate first. पिछले साल भारत में वेंटिलेटर की ज़रूरत नहीं पड़ी लेकिन ऐसा नहीं था कि भारत में कहीं भी वेंटिलेटर की ज़रूरत नहीं पड़ी थी. दुनिया के स्तर पर सबने देखा था कि इटली और न्यूयार्क में वेंटिलेटर की कमी के कारण कितने लोग मर गए थे. 0.33 प्रतिशत का आंकड़ा सुनकर लगेगा कि चिन्ता की बात नहीं लेकिन उसी समय मुंबई में सारे आईसीयू और वेंटिलेटर बेड भर गए थे.

मुंबई से हमारी सहयोगी पूर्वा चिटनिस रिपोर्ट कर रही थीं कि आईसीयू के 99 प्रतिशत बेड भरे हुए थे और वेंटिलेटर के 94 प्रतिशत बेड भरे हुए थे. 13 जून 2020 की यह रिपोर्ट है. अगर हम मुंबई में वेंटिलेटर औऱ आईसीयू की तंगी से सतर्क हुए होते तो शायद आज कई लोगों की जान बच जाती. यही नहीं लाइव मिंट की रिपोर्ट के अनुसार जून 2020 तक आते आते वेंटिलेटर पर जाने वाले मरीज़ों की संख्या 0.33 से बढ़ कर 4.16 प्रतिशत हो चुकी थी. लिहाज़ा कोई बहाना चल ही नहीं सकता कि वेंटिलेटर की तैयारी इसलिए पर्याप्त नहीं हुई कि ज़रूरत नहीं थी. अगर भारत सरकार ने वेंटिलेटर की तैयारी ठीक से की होती तो 29 अप्रैल को केंद्र सरकार के तहत आने वाले दिल्ली के लेडी हार्डिंग अस्पताल का दौरा करने के बाद हर्षवर्धन को यह नहीं कहना पड़ता कि कुछ ही दिनों में 400 से अधिक आक्सीजन बेड की सुविधा होगी और अधिकांश पर वेंटिलेटर की सुविधा होगी. वेंटिलेटर की सही संख्या उन्होंने नहीं बताई. अधिकांश कहा.

हम जानते हैं और समझते हैं कि आप बहुत ज़्यादा वेंटिलेटर नहीं लगा सकते लेकिन दक्षिण कोरिया जिसकी आबादी भारत से काफी कम है उसके पास भारत से ज्यादा वेंटिलेटर हैं. सोचिए हमारे यहां वेंटिलेटर की कितनी कमी है. पूर्व स्वास्थ्य सचिव सुजाता राव ने पिछले साल ही यह बात अपने लेख में लिखा था. वेंटिलेटर कितना हो इस पर बहस हो सकती है लेकिन एक दम से न हो, इतना कम हो कि लोग दम तोड़ दें क्या इस पर बहस होनी चाहिए? एक वेंटिलेटर कई स्टाफ की ज़रूरत होती है. इसकी जानकारी कोई नहीं देगा कि 36000 वेंटिलेटर लगाए गए तो इसे चलाने के लिए कितने स्टाफ और डाक्टर की नियुक्ति की गई?

स्क्रोल ने इसी एक मई को बिहार के अररिया ज़िले से एक रिपार्ट की है. इस ज़िले में केवल छह वेंटिलेटर हैं लेकिन उन्हें चलाने वाला कोई स्टाफ नहीं है. डिलिट, अब तो आपके अपने मर गए क्या अब भी आप मेरी बात हिन्दी में नहीं समझेंगे? आपके अपने को मारा गया है. नरसंहार हुआ है. कई ज़िलों में वेंटिलेटर नहीं है, है तो चलाने वाला नहीं है. चलता है तो एक दो चलता है.

फ्लैशबैक में देखने से पता चलता है कि काम के नाम पर कितनी बातें हुई हैं. झूठ का कोर्स रिवाइज़ करा रहा हूं. आंकड़े श्मशान में मिलते हैं. सरकार नहीं देती. अब आपको ले चलते हैं निर्यात के गेम की तरफ. शुरूआत में हमने बताया कि 25 जून 2020 को नीति आयोग के प्रमुख अमिताभ कांत ट्विट करते हैं कि भारत में हर दिन एक हज़ार वेंटिलेटर बनता है और जल्दी ही निर्यात करने लग जाएगा. जुलाई 2020 के महीने में उनकी यह इच्छा वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल पूरी कर देते हैं.

30 जुलाई 2020 की खबर है हिन्दू बिज़नेस लाइन की. पीयूष गोयल कहते हैं कि वेंटिलेटर के निर्यात से रोक हटाई जाने वाली है. मार्च 2020 में वेंटिलेटर के निर्यात पर रोक लगा दी गई थी. अगस्त 2020 के पहले हफ्ते में वेंटिलेटर के निर्यात से रोक हटाने की घोषणा होती है.

निर्यात वाली खबर से गोदी मीडिया में जोश आ जाता है, आपको बताने लगता कि भारत निर्यात करने लगा है. लेकिन गोदी मीडिया आपको बताना भूल गया कि भारत अपनी ज़रूरत के मुताबिक वेंटिलेटर लगा लिया है या नहीं. ज़ाहिर है पिछले साल मार्च से जुलाई के बीच हमारी हालत अच्छी नहीं थी फिर भी निर्यात पर रोक हटाने का एलान हो गया. अब यह कौन बताए और कैसे माने कि सही है कि कितना वेंटिलेटर एक साल में बना, कितना भारत में खरीदा गया और कितना निर्यात हुआ.

26 अक्तूबर 2020 को फाइनेंशियल एक्सप्रेस में खबर छपती है कि कोई National Supermodel of Covid-19 हुआ है जिसके मुताबिक 26 लाख एक्टिव केस होंगे तो भारत को 78,000 वेंटिलेटर की ज़रूरत होगी. 30 अप्रैल को 31 लाख एक्टिव केस थे. आपके पास जानने का कोई ज़रिया नहीं कि 30 अप्रैल को कितने वेंटिलेटर देश भर के अस्पतालों में थे और कितने काम कर रहे थे.

इस बीच इस साल फरवरी और मार्च की खबर छपने लगती हैं कि वेंटिलेटर बनाने वाली कंपनियों का माल बिक नहीं रहा है. कोई खरीदार नहीं है. इस उद्योग से जुड़ी कंपनियां घाटे में जा रही हैं.

ऐसी रिपोर्ट राजस्थान, मुंबई बंगलुरू न जाने कहां कहां से पिछले आठ दस महीने से छप रही हैं. अभी एग्वा कंपनी का एक्सप्रेस में बयान छपा है कि मारुति के साथ मिलकर दस हज़ार वेंटिलेटर बनाए थे. मगर सरकार ने 5000 वेंटिलेटर ही लिए. इस वेंटिलेटर को लेकर मुंबई और एलएनजेपी ने शिकायत की थी. छपी हुई खबर है. भारत की तीन कंपनियों के वेंटिलेटर को लेकर शिकायतें आई हैं जिन्हें पीएम केयर से फंड मिला है.


जून 2020 की मुंबई मिरर की ख़बर है. मुंबई के दो बड़े अस्पताल, जेजे अस्पताल और सेंट जॉर्ज अस्पताल ने पीएम केयर्स के तहत डोनेट किए गए 81 वेंटिलेटर वापिस कर दिए थे. सेंट जॉर्ज को 39 और जेजे को 42 वेंटिलेटर मिले थे. अस्पतालों का आरोप था कि पीएम केयर के एगवा वेंटिलेटर कोविड के मरीज़ों को दिए जाने वाले इलाज में कारगर नहीं थे. ये मरीज़ को 100% ऑक्सिजन नहीं दे रहे थे और वेंटिलेटर के बाद भी मरीज़ का ऑक्सिजन सैचुरेशन नहीं बढ़ पा रहा था. जून 2020 में ही समर्थ बंसल और अमन सेठी ने हफ़पोस्ट के लिए रिपोर्ट किया था कि दो सरकारी कमिटियों ने एगवा हेल्थकेयर के वेंटिलेटर की विश्वसनीयता और क्षमता पर सवाल उठाते हुए लिखा था कि एगवा के वेंटिलेटर को tertiary-care ICU के High-end वेंटिलेटर का विकल्प ना समझा जाए. जुलाई 2020 की एक्सप्रेस की ख़बर है. 175 वेंटिलेटर मिले PM cares के तहत. 155 Mysore-based Skanray Technologies के और 20 AgVa Healthcare के थे. अस्पताल ने कहा इनमें bipap mode नहीं है. 250 और वेंटिलेटर दिए जाएं. दिवाकर वेश ने यही कहा था कि हमारे वेंटिलेटर सरकार के नियमानुसार हैं. bipap भी है. कहा था कि अस्पताल ने ठीक से इंस्टॉल नहीं किया होगा.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


सरकार को एक सूची देनी चाहिए। कितने वेंटिलेटर पिछले एक साल में खरीदे गए. किस किस ज़िले में और कहां कहां भेजे गए. इन वेंटिलेटर को चलाने के लिए कितने लोगों को नियुक्त किया गया. इतना ही पूछ दीजिए जो व्हाट्स ग्रुप के रिश्तेदार आपको ब्लाक कर देंगे. आप मोदी जी को लेकर सवाल कैसे कर सकते हैं.