संकल्प के ज़रिए बिहार के बच्चों की ज़िंदगी संवार रहे हैं नीलेश, स्कूल के लिए दिया अपना घर

कहते हैं कि ज़िंदगी तो सभी लोग जीते हैं, लेकिन कुछ लोग इस धरती पर दूसरों के लिए ही जीते हैं. इसका उदाहरण बिहार के रहने वाले नीलेश सिंह हैं. अपनी मेहनत और लगन से बिहार के छात्रों को ज़िंदगी संवार रहे हैं.

संकल्प के ज़रिए बिहार के बच्चों की ज़िंदगी संवार रहे हैं नीलेश, स्कूल के लिए दिया अपना घर

कहते हैं कि ज़िंदगी तो सभी लोग जीते हैं, लेकिन कुछ लोग इस धरती पर दूसरों के लिए ही जीते हैं. इसका उदाहरण बिहार के रहने वाले नीलेश सिंह हैं. अपनी मेहनत और लगन से बिहार के छात्रों को ज़िंदगी संवार रहे हैं. बच्चों की पढ़ाई के लिए अपनी सैलरी से हर महीने ख़र्च करते हैं. इतना ही नहीं, अपना पुश्तैनी घर को संस्थान बना दिया ताकि बच्चे बिना परेशानी के पढ़ सकें. इनका नाम है नीलेश सिंह, ये बिहार के दिनारा के रहने वाले हैं. वर्तमान में लंदन में रहते हैं. लंदन में ही लैंड रोवर नाम की एक कंपनी में काम करते हैं.

बिहार में शिक्षा की स्थिति बेहद दयनीय है. जिनके पास साधन है, वो बाहर में रहकर पढ़ाई कर लेते हैं, जिनके पास साधन नहीं है, वो उसे अपनी किस्मत मानकर आगे की पढ़ाई नहीं कर पाते हैं. मगर नीलेश जैसे लोग हैं, जो दूसरों के लिए सहारा बने हुए हैं. बिहार से शिक्षा प्राप्त कर लंदन में एक मल्टीनेशनल कंपनी में काम करना बेहद बड़ी उपलब्धि है. नीलेश चाहते हैं कि गांव के बच्चे भी बेहतरीन पढ़ाई करें और अपना करियर अच्छा बनाएं. बिहार में बच्चों को आगे बढ़ने के लिए बेहद कम मौका मिलता है, ऐसे में नीलेश ने गांव के बच्चों के बेहतरी के अपने घर को संस्थान बना दिया. इस संस्थान का नाम संकल्प फाउंडेशन है.

संकल्प फाउंडेशन के ज़रिए नीलेश बच्चों की ज़िंदगी को बेहतरीन बना रहे हैं. इस संस्था को चलाने के लिए अपनी सैलरी से पैसे देते हैं. इस नेक काम से आईआईटी के छात्र भी जुड़े हैं. वो बच्चों को गाइड करते हैं, उन्हें पढ़ने के लिए प्रोत्साहित करते हैं.

संकल्प से पढ़े हुए बच्चे आज सफ़लता के झंडे गाड़ रहे हैं. कई ऐसे बच्चे हैं, जो सरकारी संस्थाओं में एडमिशन करवा चुके हैं. वहीं कई बच्चे देश के बेहतरीन संस्थान में पढ़ाई कर रहे हैं.

निशुल्क पढ़ाई होती है

संकल्प फाउंडेशन में बच्चों को निशुल्क पढ़ाया जाता है. यहां एडमिशन लेने वाले बच्चों को सारी सुविधाएं दी जाती हैं.

संकल्प का सुपर 30

संकल्प संस्थान हर आस-पास के स्कूलों में पढ़ने वाले विद्यार्थियों की परीक्षा लेता है. इन परीक्षा के आधार पर बच्चों को छात्रवृत्ति दी जाती है. साथ ही साथ बच्चों का संस्थान में चयन होता है.

हर साल बच्चों को मिलती है छात्रवृति


संकल्प संस्थान हर साल मेधावी छात्र व छात्राओं को छात्रवृति देता है ताकि बच्चे बिना आर्थक परेशानी से अपनी पढ़ाई जारी रख सकें.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


नीलेश सिंह एक इंजीनियर हैं. वो चाहते हैं कि बच्चों को बेहतरीन शिक्षा मिले ताकि वो एक अच्छी ज़िंदगी जी सकें. इस नि स्वार्थ भावना में कई साथियों ने उनका सहयोग किया है. आज के समय में बहुत कम लोग ऐसे होते हैं, जो आम बच्चों के बारे में सोचते हैं.