हर 51 मिनट में एक-दूसरे के चक्कर लगाने वाले तारों का जोड़ा खोजा गया

खगोलविदों ने सितारों के जोड़ों को केटाक्लिसमिक वेरिएबल नाम दिया, यह खोज नेचर जर्नल में प्रकाशित की गई है

हर 51 मिनट में एक-दूसरे के चक्कर लगाने वाले तारों का जोड़ा खोजा गया

प्रतीकात्मक फोटो.

सितारों की एक नई खोज सामने आई है. एमआईटी और अन्य जगहों पर खगोलविदों ने सितारों की एक जोड़ी की खोज की है, जिनका अब तक का सबसे छोटा आर्बिटियल पीरियड है. यह तारे हर 51 मिनट में एक दूसरे का चक्कर लगाते हैं. समचार एजेंसी एएनआई ने बताया कि खगोलविद इन प्रणालियों को Cataclysmic variable (प्रलयकारी चर) का नाम दिया है. इनमें एक तारा एक सफेद आर्बिट में चारों ओर परिक्रमा करता है. इसमें एक जलते हुए तारे की गर्म और घनी कोर है.

इस नए केटाक्लिसमिक वेरिएबल की खोज नेचर जर्नल में प्रकाशित की गई है. नई खोज प्रणाली की टीम ने इसे ZTF J1813+4251 को टैग किया है. यह एक प्रलयकारी चर है जिसकी अब तक की सबसे छोटी कक्षा का पता चला है. अतीत में देखी गई ऐसी अन्य प्रणालियों के विपरीत खगोलविदों ने इस केटाक्लिसमिक वेरिएबल को पकड़ा. टीम को प्रत्येक तारे के गुणों का ठीक से अध्ययन करने की अनुमति मिली है.

शोधकर्ताओं ने अनुमान लगाया है कि यह सिस्टम आज किस तरह चल रहा है और अगले सैकड़ों लाखों वर्षों में यह कैसे विकसित हो सकता है. वे निष्कर्ष निकालते हैं कि तारे वर्तमान में संक्रमण में हैं और सूर्य जैसा तारा चक्कर लगा रहा है. वह अपने अधिकांश हाइड्रोजन वातावरण को प्रचंड सफेद बौने तारे को "डोनेट" कर रहा है. सूर्य जैसा तारा अंततः अधिकतर घने, हीलियम युक्त कोर में बदल जाएगा. 70 मिलियन वर्षों में तारे एक दूसरे के और भी करीब चले जाएंगे. एक अल्ट्राशॉर्ट आर्बिट केवल 18 मिनट तक पहुंच जाएगी.

दशकों पहले एमआईटी और अन्य जगहों के शोधकर्ताओं ने भविष्यवाणी की थी कि इस तरह के प्रलयकारी चर को अल्ट्राशॉर्ट कक्षाओं में संक्रमण करना चाहिए. यह पहली बार है जब इस तरह की संक्रमण प्रणाली को सीधे देखा गया है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

एमआईटी के भौतिकी विभाग में एक पप्पलार्डो फेलो केविन बर्ज कहते हैं कि, "यह एक दुर्लभ मामला है जब हमने इन प्रणालियों में से एक को हाइड्रोजन से हीलियम अभिवृद्धि में स्विच करते हुए पकड़ा है." उन्होंने कहा कि, "लोगों ने भविष्यवाणी की थी कि इन वस्तुओं को अल्ट्राशॉर्ट कक्षाओं में संक्रमण करना चाहिए. इस पर लंबे समय तक बहस हुई थी कि क्या वे पता लगाने योग्य गुरुत्वाकर्षण तरंगों को उत्सर्जित करने के लिए पर्याप्त कम हो सकते हैं. यह खोज सुकून देने वाली है."