नोबेल अवार्ड विजेता मलाला यूसुफजई से विवाह रचाने वाले Asser Malik का पाकिस्‍तानी क्रिकेट से है खास रिश्‍ता....

असर मलिक के LinkedInप्रोफाइल के अनुसार, उन्‍होंने अपनी स्‍कूलिंगे और उच्‍च शिक्षा पाकिस्‍तान में हासिल की है. उन्‍होंने लाहौर यूनिवर्सिटी से पढ़ाई की है.

नोबेल अवार्ड विजेता मलाला यूसुफजई से विवाह रचाने वाले  Asser Malik का पाकिस्‍तानी क्रिकेट से है खास रिश्‍ता....

मलाला ने सोशल मीडिया के जरिये अपने निकाह की जानकारी दी

प्रतिष्ठित नोबेल अवार्ड से नवाजी जा चुकीं पाकिस्‍तान की मलाला यूसुफजई (Malala Yousafzai) ने शादी कर ली है. उन्‍होंने सोशल मीडिया के जरिये इस बात की जानकारी दी. ट्वीट में मलाला ने लिखा, 'आज मेरे जीवन का अनमोल दिन है. असर और मैं जीवनभर के लिए शादी के बंधन में बंध गए हैं. हमने बर्मिघम में अपने परिवारजनों के साथ एक छोटा निकाह समारोह आयोजित किया. हमें दुआएं दें. हम एक साथ इस सफर को बिताने के लिए उत्साहित हैं.' मलाल के निकाह की खबरें सामने आते ही लोगों में उनके शौहर के बारे में जानने को लेकर उत्‍सुकता बढ़ गई. मलाला के शौहर असर मलिक (Asser Malik), पाकिस्‍तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) से जुड़े हुए हैं. वे इस समय पीसीबी के जनरल मैनेजर (हाई परफॉरमेंस) के तौर पर सेवाएं दे रहे हैं. पीसीबी को ज्‍वॉइन करने से पहले असर, प्‍लेयर मैनेजमेंट कंपनी में मैनेजिंग डायरेक्‍टर की जिम्‍मेदारी भी संभाल चुके हैं. 

मेरा सपना भारत और पाकिस्तान को ‘अच्छे दोस्त' बनते देखना है: मलाला यूसुफजई

युवा उद्यमी के तौर पर असर मलिक को स्‍पोर्ट्स इंडस्‍ट्री में काम करने का खासा तजुर्बा हासिल है. पाकिस्‍तान क्रिकेटर लीग में खेलने वाली फ्रेंचाइजी मुल्‍तान सुल्‍तान टीम के लिए असर एक डेवलपमेंट कार्यक्रम संचालित कर चुके हैं. पाकिस्‍तान के कुछ पूर्व और वर्तमान प्‍लेयर्स के साथ असर के फोटो भी सोशल मीडिया पर हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


असर मलिक के LinkedInप्रोफाइल के अनुसार, उन्‍होंने अपनी स्‍कूलिंगे और उच्‍च शिक्षा पाकिस्‍तान में हासिल की है. उन्‍होंने लाहौर यूनिवर्सिटी से पढ़ाई की है. वर्ष 2008 में उन्‍होंने लाहौर यूनिवर्सिटी से इकोनॉमिक्‍स और 2012 में पॉलिटिकल साइंस की डिग्री हासिल की. वे थिएटर प्रोडक्‍शन कंपनी, ड्रामालाइन में भी प्रेसीडेंट के तौर पर सेवाएं दे चुके हैं.  गौरतलब है कि मलाला, लड़कियों को शिक्षा देने की बढ़-चढ़कर हिमायत करती रही हैं और इसके कारण उन्‍हें तालिबान के हमले का भी सामना करना पड़ा था. स्कूल से घर लौट रही मलाला पर हुआ यह हमला घातक था, लेकिन इसके बावजूद उनका हौसला भी कम न था. ब्रिटेन में लंबे इलाज के बाद वह ठीक हुईं और एक बार फिर अपने अभियान में जुटी हैं.