MP Govt Crisis: क्या मध्य प्रदेश में बीजेपी अपनाएगी यूपी मॉडल, सिंधिया समर्थकों को मिल सकती है बड़ी जिम्मेदारी?

MP Govt Crisis: सूत्रों के मुताबिक सिंधिया खेमे के 22 विधायकों को सत्ता में भागीदारी देने के लिये राज्य में एक मुख्यमंत्री और दो उप मुख्यमंत्री के फॉर्मूले पर सोचा जा रहा है.

MP Govt Crisis: क्या मध्य प्रदेश में बीजेपी अपनाएगी यूपी मॉडल, सिंधिया समर्थकों को मिल सकती है बड़ी जिम्मेदारी?

21 ज्योतिरादित्य सिंधिया समर्थक बागी कांग्रेस नेता बीजेपी में हुए शामिल

भोपाल:

MP Govt Crisis: क्या मध्य प्रदेश में बीजेपी यूपी मॉडल लागू कर सकती है, सूत्रों की मानें तो जवाब हैं हां. राज्य में बीजेपी ने कमलनाथ की अगुवाई वाली कांग्रेस को सत्ता से हटने पर मजबूर कर दिया है. सूत्रों के मुताबिक सिंधिया खेमे के 22 विधायकों को सत्ता में भागीदारी देने के लिये राज्य में एक मुख्यमंत्री और दो उप मुख्यमंत्री के फॉर्मूले पर सोचा जा रहा है. मध्य प्रदेश बीजेपी के सूत्रों ने कहा कि केंद्रीय नेतृत्व सोमवार को इस बारे में अंतिम फैसला ले सकता है कि राज्य में नई सरकार का नेतृत्व कौन करेगा, 25 मार्च जिस दिन से चैत्र नवरात्र की शुरूआत होगी राज्य में नई सरकार के गठन की प्रक्रिया  शुरू हो सकती है.

MP Govt Crisis: जिन 22 बागी विधायकों के इस्तीफे की वजह से गिरी थी कमलनाथ सरकार, सभी बीजेपी में हुए शामिल

इससे जुड़े घटनाक्रम में शनिवार को दिल्ली में 22 में से 21 ज्योतिरादित्य सिंधिया समर्थक बागी कांग्रेस नेता, बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के घर में पार्टी में शामिल हो गये, इस मौके पर ज्योतिरादित्य सिंधिया, भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और मध्यप्रदेश के पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा शामिल थे. ये सभी 22 विधायक 10 मार्च से बेंगलुरु में थे और शनिवार को दिल्ली लौट आए। दिल्ली में भाजपा में शामिल होने के बाद, 21 विधायक शाम को भोपाल वापस आ गए। इन विधायकों ने दो दिन पहले तक भोपाल आने में सुरक्षा की चिंता जताते हुए लौटने से इंकार कर दिया था.


MP की सियासत में एक बार फिर उठापटक? एमपी कांग्रेस का दावा- 15 अगस्त को CM के रूप में तिरंगा फहराएंगे कमलनाथ

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इस बीच, कार्यवाहक सीएम कमलनाथ ने शनिवार को दिल्ली के लिए उड़ान भरी. दिल्ली में, नाथ कांग्रेस के राष्ट्रीय नेतृत्व को मप्र की स्थिति और भविष्य की रणनीति के बारे में विस्तार से बताएंगे. राज्य में 25 विधानसभा सीटों के लिये उप-चुनाव होंगे ऐसे में कांग्रेस के लिये भी ये दौरा काफी अहम है.