उत्तर प्रदेश : जारी है तबादलों के खेल में गाज गिरने का सिलसिला, अब स्वास्थ्य विभाग के 3 बड़े अधिकारी सस्पेंड

4 जुलाई को डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक ने पत्र लिखकर तबादलों में गड़बड़ियों की आशंका प्रकट की थी.

लखनऊ:

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में तबादलों के खेल में PWD के बाद अब स्वास्थ्य विभाग में तबादलों कार्रवाई हुई है. योगी आदित्यनाथ सरकार ने स्वास्थ्य विभाग के अपर निदेशक पैरामेडिकल राकेश कुमार गुप्ता को सस्पेंड कर दिया है. उनके अलावा अपर निदेशक स्वास्थ्य प्रशासन अशोक कुमार पांडेय को भी सस्पेंड किया गया है. गुप्ता पर यह कार्रवाई फार्मासिस्ट टेक्नीशियन के तबादलों में हुई अनियमितता पर की गई है, जबकि पांडेय पर कार्रवाई प्रयोगशाला सहायक वर्ग के तबादले में गड़बड़ी पर हुई है.

सरकार ने संयुक्त निदेशक पैरामेडिकल अरविंद कुमार वर्मा को भी सस्पेंड कर दिया है. उन पर फार्मासिस्ट एवं ईसीजी टेक्निशियन के तबादलों में गड़बड़ी पर कार्रवाई की गई है.  4 जुलाई को डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक ने पत्र लिखकर तबादलों में गड़बड़ियों की आशंका प्रकट की थी.

PWD विभाग में इंजीनियरों के तबादले में गड़बड़ी, सीएम योगी ने मंत्री जितिन प्रसाद के OSD को हटाया

बता दें कि पिछले हफ्ते लोक निर्माण विभाग (PWD) में इंजीनियरों के तबादले में हुई धांधली की जांच रिपोर्ट आने का बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने विभागीय मंत्री जितिन प्रसाद के ओएसडी अनिल कुमार पांडेय को हटा दिया था. भारत सरकार से प्रतिनियुक्ति पर आए अपर सचिव अनिल पांडेय के खिलाफ विजिलेंस जांच और विभागीय कार्रवाई के भी आदेश दिये गये थे.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


लोक निर्माण विभाग  में तबादलों के बाद बड़े पैमाने पर गड़बड़ी के आरोप लगे थे और इसकी लगातार शिकायतें मिल रही थीं. आरोप था कि जेई, एई, एक्सईएन, एसई, सीई के समस्त तबादले बैक डेट में किए गए हैं. इसके बाद मामले की जांच शुरू की गई थी. जांच में बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार के संकेत मिले थे. इसके बाद यह कार्रवाई की गई थी.