कैबिनेट में रहेंगे या जाएंगे मोदी सरकार के दो मंत्री? क्या कल की कैबिनेट मीटिंग होगी आखिरी बैठक?

गौरतलब है कि इन दोनों ही मंत्रियों का राज्य सभा कार्यकाल सात जुलाई को समाप्त हो रहा है. बीजेपी ने नकवी जबकि जेडीयू ने आरसीपी सिंह को दोबारा राज्य सभा का टिकट नहीं दिया है. हालांकि बिना सांसद रहे भी दोनों नेता छह महीने तक मंत्री रह सकते हैं लेकिन अमूमन ऐसा होता नहीं है कि सांसद न रहने पर भी मंत्री रखा जाए.

कैबिनेट में रहेंगे या जाएंगे मोदी सरकार के दो मंत्री? क्या कल की कैबिनेट मीटिंग होगी आखिरी बैठक?

बीजेपी ने मुख्तार अब्बास नकवी जबकि जेडीयू ने आरसीपी सिंह को दोबारा राज्य सभा का टिकट नहीं दिया है.

नई दिल्ली:

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार (Narendra Modi Government) के दो मंत्रियों के भविष्य को लेकर कयासों का दौर जारी है. इस बात की अटकलें लगाई जा रही हैं कि क्या उन्हें पद से इस्तीफा देना पड़ेगा? कयास इसके भी लगाए जा रहै हैं कि क्या कल की कैबिनेट बैठक अल्पसंख्यक मामलों के केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी (Mukhtar Abbas Naqvi) और स्टील मंत्री आरसीपी सिंह (RCP Singh) के लिए आखिरी बैठक होगी? कल सुबह ग्यारह बजे कैबिनेट की बैठक होनी है.

गौरतलब है कि इन दोनों ही मंत्रियों का राज्य सभा कार्यकाल सात जुलाई को समाप्त हो रहा है. बीजेपी ने नकवी जबकि जेडीयू ने आरसीपी सिंह को दोबारा राज्य सभा का टिकट नहीं दिया है. हालांकि बिना सांसद रहे भी दोनों नेता छह महीने तक मंत्री रह सकते हैं लेकिन अमूमन ऐसा होता नहीं है कि सांसद न रहने पर भी मंत्री रखा जाए.

हां, ऐसा जरूर हुआ है कि मंत्री बनने के बाद सांसद बनाया गया हो. ऐसे में दोनों के भविष्य को लेकर कई तरह की अटकलें चल रही हैं. जहां नकवी का नाम उपराष्ट्रपति से लेकर कई अन्य राज्यों के गवर्नर या एलजी के तौर पर चल रहा है, वहीं आरसीपी सिंह के बीजेपी में आने की चर्चा है.

भारत में लंबे समय तक सत्ता में रहने वाली पार्टियों की गलती से सीखें: तेलंगाना में PM मोदी

कल ही बीजेपी ने स्पष्ट किया कि आरसीपी सिंह अभी पार्टी में शामिल नहीं हुए हैं. आरसीपी सिंह अगर बीजेपी में शामिल होते हैं तो यह सहयोगी दल जेडीयू को शायद रास नहीं आएगा. हालांकि राज्य सभा में राष्ट्रपति की ओर से मनोनयन की सात सीटें खाली हैं .

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


फिलहाल दोनों ही नेताओं को लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं है कि वे मंत्री बने रहेंगे या नहीं या अगर उन्हें मंत्री बनाए रखना है तो क्या मनोनयन के रास्ते से राज्य सभा में लाया जाएगा. इस बीच, उपराष्ट्रपति चुनाव के लिए नामांकन शुरु हो चुका है. संभावना है कि एनडीए जल्दी ही अपने उम्मीदवार के नाम का ऐलान करेगा, तब नकवी की स्थिति भी स्पष्ट हो सकेगी.