विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Jan 01, 2023

संसदीय समिति ने जमीन मालिक को भूजल उपयोग में सक्षम बनाने वाले कानून में संशोधन करने को कहा

संसद के हाल में संपन्न शीतकालीन सत्र में पेश जल संसाधन संबंधी स्थायी समिति के पंद्रहवें प्रतिवेदन के लिए मांगों (2022-23) की सिफारिशों पर सरकार द्वारा की गई कार्रवाई संबंधी रिपोर्ट में यह बात कही गई.

Read Time: 21 mins
संसदीय समिति ने जमीन मालिक को भूजल उपयोग में सक्षम बनाने वाले कानून में संशोधन करने को कहा
(प्रतीकात्मक तस्वीर)

संसद की एक समिति ने सरकार से 140 वर्ष पुराने उस कानून में संशोधन करने को कहा है जो जमीन के मालिक को अपनी संपत्ति के नीचे पानी पर पूर्ण नियंत्रण रखने और अपनी इच्छा के अनुसार भूजल का उपयोग करने में सक्षम बनाता है.

संसदीय समिति ने इस विषय पर सरकार के जवाब को अस्वीकार करते हुए कहा कि कोई भी जल संसाधनों का दोहन करने और प्रदूषित करने के लिए स्वतंत्र नहीं है तथा जल संसाधन विभाग को भारतीय सुखाचार अधिनियम 1882 में संशोधन करने के लिए ठोस प्रयास करना चाहिए.

Advertisement

संसद के हाल में संपन्न शीतकालीन सत्र में पेश जल संसाधन संबंधी स्थायी समिति के पंद्रहवें प्रतिवेदन के लिए मांगों (2022-23) की सिफारिशों पर सरकार द्वारा की गई कार्रवाई संबंधी रिपोर्ट में यह बात कही गई.

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसद परबतभाई सवाभाई पटेल की अध्यक्षता वाली समिति की रिपोर्ट के अनुसार, ‘‘यद्यपि भारत सरकार ने भूजल की स्थिति में सुधार के लिए कई कदम उठाए हैं लेकिन संस्थागत ढांचे में अभी भी कुछ अंतर है. इसमें एक अंतर भारतीय सुखाचार अधिनियम 1882 है जो भूजल नियंत्रण में एक रुकावट है.''

इसमें कहा गया है कि यह कानून जमीन के मलिकों को अपनी संपत्ति के नीचे के पानी पर पूर्ण नियंत्रण रखने में सक्षम बनाता है जिससे वे इसका अपनी मर्जी के अनुसार उपयोग कर सकते हैं.

ऐसे में संसदीय समिति ने पूर्व में जल संसाधन विभाग से भारतीय सुखाचार अधिनियम 1882 में संशोधन करने के लिए विधि और न्याय मंत्रालय के सहयोग से प्राथमिकता के आधार पर कदम उठाने का आग्रह किया था.

Advertisement

इस पर विभाग ने अपने उत्तर में समिति को बताया कि सुखाचार अधिनियम में प्रस्तावित संशोधन के संबंध में 25 अप्रैल 2022 को आयोजित बैठक में विधि एवं न्याय मंत्रालय ने सूचित किया कि भारतीय सुखाचार अधिनियम 1882 में संशोधन का विषय जल शक्ति मंत्रालय की जिम्मेदारी है और आवश्यकता होने पर वह संशोधन का प्रस्ताव कर सकता है.

रिपोर्ट के अनुसार, इस बैठक में भूजल प्रवाह के मौजूदा वैज्ञानिक ज्ञान और राष्ट्रीय जलभृत प्रबंधन परियोजना के माध्यम से प्राप्त आंकड़ों पर विचार करते हुए प्रश्न उठाया गया था कि भारतीय सुखाचार अधिनियम 1882 में संशोधन अपेक्षित होगा या नहीं.

Advertisement

इसके मुताबिक, विचार मंथन सत्र के परिणाम से पता चला कि भारतीय सुखाचार अधिनियम 1882 की धारा 7 (बी) (जी) में संशोधन की जरूरत नहीं है और इसकी धारा 7 (बी) (जी) में एक संक्षिप्त स्पष्टीकरण जोड़ा जा सकता है.

इस स्पष्टीकरण में यह कहा जा सकता है कि भूजल एक निश्चित चैनल में बहता है, इसलिए भूमि के मालिक को अपनी जमीन के नीचे बहने वाले पानी का उपयोग जैसा उचित समझे, वैसा करने का कोई अधिकार नहीं है. हालांकि 7 (बी) (जे) में उल्लिखित मालिक का अधिकार वहीं रहता है.

Advertisement

संसदीय समिति ने हालांकि कहा, ‘‘वह इस तर्क से सहमत नहीं है क्योंकि विधायी और संस्थागत ढांचा प्रदान करके भूजल टेबल के घटते स्तर की समस्या दूर करने के लिए प्रस्तावित उपायों के बारे में कुछ नहीं बताया गया.''

समिति का मानना है कि भूजल के उपयोग का अधिकार सृजित करने तथा जल संसाधनों के दोहन और प्रदूषण करने के लिए कोई स्वतंत्र नहीं है, ऐसे में सुखाचार अधिनियम में संशोधन की आवश्यकता है.

Advertisement

गौरतलब है कि भूजल स्तर में दीर्घकालिक उतार-चढ़ाव के आकलन के उद्देश्य से केंद्रीय भूजल बोर्ड (सीजीडब्ल्यू) द्वारा नवंबर 2021 में किए गए विश्लेषण का परिणाम यह दर्शाता है कि 30 प्रतिशत कुओं में जल स्तर में गिरावट दर्ज की गई. जल स्तर के आंकड़ों के विश्लेषण से संकेत प्राप्त होता है कि 15 राज्यों के 41 जिलों में भूजल में प्रति वर्ष औसत गिरावट लगभग एक मीटर है.

केन्द्रीय भूजल बोर्ड के साल 2017 के अध्ययन के मुताबिक, देश में कुल 6,881 ब्लॉक/मंडलों में भूजल स्तर को लेकर कराए गए सर्वेक्षण में पाया गया कि 1,186 ब्लॉक/मंडलों में भूमिगत जल का अत्यधिक दोहन किया गया है जबकि 313 ब्लॉक/मंडल भूजल की दृष्टि से गंभीर स्थिति में हैं.

यह भी पढ़ें -
-- यौन उत्पीड़न का केस दर्ज होने के बाद हरियाणा के खेल मंत्री का इस्तीफा
-- प्राचीन उपकरण में बदलाव ने दिखाई कश्मीरी महिलाओं को उम्मीद की किरण

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
कहर बरपाती हीटवेव के बीच राहतभरी खबर! मानसून को लेकर IMD की भविष्याणी; जानें कब होगी बारिश
संसदीय समिति ने जमीन मालिक को भूजल उपयोग में सक्षम बनाने वाले कानून में संशोधन करने को कहा
पाकिस्तान में प्रचंड गर्मी से मचा हाहाकार, कई पड़े बीमार, तपती भट्टी क्यों बन गया मोहनजोदड़ो!
Next Article
पाकिस्तान में प्रचंड गर्मी से मचा हाहाकार, कई पड़े बीमार, तपती भट्टी क्यों बन गया मोहनजोदड़ो!
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;