विज्ञापन
Story ProgressBack

गम में डूबे परिवार, नहीं जला चूल्‍हा... कुवैत अग्निकांड में बिहार के 2 लोगों की गई है जान

Kuwait Building Fire: कुवैत में अग्निकांड होने से पहले वीडियो कॉल पर शिव शंकर सिंह कुशवाहा की आखिरी बार बात हुई थी. वीडियो कॉल पर बात करते हुए उन्होंने अपने परिवार में मां और पत्नी के बारे में पूछा. बेटों से बात करते हुए सभी का ठीक से ध्यान रखने को कहा था, लेकिन अगले दिन ही अग्निकांड हो गया और उसमें उनकी मौत हो गयी.

Read Time: 3 mins
गम में डूबे परिवार, नहीं जला चूल्‍हा... कुवैत अग्निकांड में बिहार के 2 लोगों की गई है जान
इस हादसे में 45 भारतीयों की मौत हुई है...
गोपालगंज:

बिहार के गोपालगंज जिले के गोपालपुर थाना के सपहां गांव के 45 वर्षीय शिवशंकर सिंह कुशवाहा पिछले एक दशक से कुवैत में रहकर कंपनी में फोरमेन के पद पर नौकरी कर रहे थे. इसी प्रकार कटेया थाना के बनकटिया पंचायत के कलीछापर गांव के रघुनाथ गिरी के पुत्र 30 वर्षीय अनिल गिरी पिछले चार वर्षों से एक कंपनी में काम कर रहे थे. कुवैत में हुए भीषण अग्निकांड में इन दोनों की दर्दनाक मौत हो गई. हादसे के दिन अल-मंगफ इमारत में गोपालगंज के दोनों लोग काम कर रहे थे. अचानक आग लगी और चाहकर भी शिवशंकर सिंह कुशवाहा और अनिल गिरी अपनी जान नहीं बचा पाये. इस हादसे में 45 भारतीयों की मौत हुई है. 

गम में डूबे परिवार

इस हादसे की सूचना मिलने के बाद शिवशंकर सिंह कुशवाहा और अनिल गिरी के घर में चूल्हा तक नहीं जल पाया है. कुवैत में हुई शिवशंकर सिंह और अनिल गिरी की मौत ने पूरे परिवार को झकझोर दिया है. मृतक शिवशंकर की पत्नी निर्मला देवी और मां गनेशिया देवी बेसुध हो गईं. वहीं, अनिल गिरी के पिता रघुनाथ गिरी और पत्नी प्रियंका देवी मौत की खबर से बेहद आहत हो गए हैं. मृतक शिवशंकर सिंह कुशवाहा के दो बेटे मुकेश कुमार और अभिषेक कुमार भी अपने पिता को खोने के गम में डूब गए हैं. आसपास के लोग पीड़ित परिवार को ढाढ़स बंधाने में जुटे हुए है. ऐसे तो अनिल गिरी की पत्नी प्रियंका देवी अपने एक बेटी और एक बेटा के साथ सास और ससुर के साथ हरियाणा में रहते है.

...वो आखिरी वीडियो कॉल

कुवैत में अग्निकांड होने से पहले वीडियो कॉल पर शिव शंकर सिंह कुशवाहा की आखिरी बार बात हुई थी. वीडियो कॉल पर बात करते हुए उन्होंने अपने परिवार में मां और पत्नी के बारे में पूछा. बेटों से बात करते हुए सभी का ठीक से ध्यान रखने को कहा था, लेकिन अगले दिन ही अग्निकांड हो गया और उसमें उनकी मौत हो गयी. परिवार को क्या पता था कि यह कॉल उनकी आखिरी कॉल होगा. यही हाल मृतक अनिल गिरी ने अपनी पत्नी और पिता से बात की थी. कुवैत और भारत सरकार की पहल से वायुसेना की विशेष विमान से पार्थिव शरीर शुक्रवार को दिल्ली पहुंच गया. शनिवार को पैतृक गांव में पार्थिव शरीर पहुंचने की सूचना है. मृतक शिवशंकर के रिश्‍तेदार अखिलेश कुमार सिंह पार्थिव शरीर को लेकर उनके गांव सपहां आ रहे हैं. वहीं, अनिल गिरी के शव को लेकर उनके भाई राजेश गिरी अपने पैतृक गांव कली छापर लेकर पहुचेंगे. जहां पर पार्थिव शरीर का अंतिम संस्कार किया जाएगा.

ये भी पढ़ें :- कुवैत में खाक सपनों का दर्द: ये कोई जाने की उम्र थी... कलेजा चीर रही केरल की यह तस्वीर

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
कौन हैं मिलिंद नार्वेकर, महाराष्‍ट्र में खेला क्‍या हुआ...? कैसे बिगड़ा विधान परिषद चुनाव में कांग्रेस का गणित
गम में डूबे परिवार, नहीं जला चूल्‍हा... कुवैत अग्निकांड में बिहार के 2 लोगों की गई है जान
Rupauli Assembly by-election: हार के नेताजी घर को आए वाला सीन, क्या बीमा भारती जीत पाएंगी रुपौली?
Next Article
Rupauli Assembly by-election: हार के नेताजी घर को आए वाला सीन, क्या बीमा भारती जीत पाएंगी रुपौली?
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;