विज्ञापन
Story ProgressBack

कुवैत में खाक सपनों का दर्द: ये कोई जाने की उम्र थी... कलेजा चीर रही केरल की यह तस्वीर

कुवैत की इमारत में लगी आग में जितने लोग की मौत हुई है उनमें सबसे ज्यादा संख्या भारतीयों की है. इस आग में जान गंवाने वाले सभी भारतीयों के शव को शुक्रवार को भारतीय वायुसेना के विमान से पहले कोच्चि एयरपोर्ट पर लगाया गया है.

कुवैत में खाक सपनों का दर्द: ये कोई जाने की उम्र थी... कलेजा चीर रही केरल की यह तस्वीर
कुवैत की आग में जान गंवाने वाले भारतीयों के शव को भारत लाया गया
नई दिल्ली:

अभी तो उसे अपने पिता के बुढ़ाते का सहारा बनना था, अपनी एक साल की बच्ची के साथ खूब सारी मस्ती करनी थी, उसके रोने पर रात-रात भर जागना था, उसे अपने हाथों में खिलाना था. लेकिन अब ये मुमकिन नहीं हो पाएगा. ऐसा इसलिए क्योंकि इससे पहले की सिबिन अपना ये सपना मुकम्मल कर पाता, कुवैत की उस इमारत में लगी आग ने उससे उसकी जिंदगी छीन ली. अगर पीछे कुछ बचा है तो वो है बस उसकी यादें. आपको बता दें कि कुवैत की इमारत में लगी आग में जितने लोगों की मौत हुई थी उनसे सबसे ज्यादा भारतीय थे. और उन्हीं भारतीयों में शामिल थे सिबिन और श्रीहरि.

जिन 45 भारतीयों की मौत हुई है उनके शवों को लेकर वायुसेना का विशेष विमान कल यानी शुक्रवार को कोच्चि एयरपोर्ट पहुंचा था. इसके बाद मरने वालों में जो लोग केरल के थे उनके शव को वहां उनके परिजनों को सौंप दिया गया. जबकि अन्य शवों को आज फ्लाइट से दिल्ली लाया जाएगा और उसके बाद बांकी बचे शवों को उनके परिजनों तक पहुंचाया जाएगा. 

Latest and Breaking News on NDTV


इस आग में जान गंवाने वाले लोगों को कोच्चि एयरपोर्ट पर श्रद्धांजलि दी गई. इस दौरान कई अभिभावक अपने परिजनों के शव को कॉफिन में बंद देख बेहद भावुक दिखे. भावुक अभिभावकों और परिजनों की कई तस्वीरें और उनसे जुड़ी की कहानी अब सामने आ रही हैं. कुवैत में जिन लोगों ने उस भयानक आग में अपनी जान गंवाई उनमे से एक थे केरल के रहने वाले सिबिन टी. कोच्चि में जब सिबिन टी के कॉफिन को नीचे उतारा गया तो उनके पिता नम आंखों से अपने बेटे के कॉफिन को काफी देर तक निहारते रहे.

Latest and Breaking News on NDTV

मानों उन्हें यकीन ही नहीं हो रहा हो कि उनका बेटा अब उनके बीच नहीं है. सिबिन टी के पिता को जब बेटे के कॉफिन के पास ले जाया गया तो वो उससे लिपट कर ऐसा रोए मानों अब धरती फट जाएगी. एक पिता का अपने बेटे को याद कर इस तरह भावुक होने का यह दृश्य जिस किसी ने भी देखा वो अपने आंसू नहीं रोक पाया. 

Latest and Breaking News on NDTV

सिबिन की एक बेटी भी है जिसका पहला जन्मदिन अगले ही महीने है. इस मौके पर सिबिन को कुवैत से वापस आना था. सिबिन पिता और घर के अन्य सदस्य अपनी पोती के पहले जन्मदिन की तैयारियां को लेकर भी से लिस्ट तैयार कर रहे थे. बीच में सिबिन से भी बात हुई थी जिसमें उन्हें बताया गया था कि उनकी बेटी का पहला जन्मदिन बहुत धूम-धाम से मनाया जाएगा. लेकिन परिवार की सभी खुशियों को उस एक आग ने जलाकर राख कर दिया है. सिबिन की एक साल की बेटी को अभी अपने पिता के साथ खूब खेलना था. उन्हें रात-रात भर तंग करना, उन्हें रात भर नींद से जगाकर रखना था. अभी तक तो इस नन्हीं सी जान ने अपने पिता को पहचानना शुरू ही किया था. पर अब वह अपने पिता से कभी नहीं मिल पाएगी. उनके साथ खेल नहीं पाएगी. पता नहीं उसका परिवार अब इस नुकसान की भरपाई कैसे कर पाएगी. 

Latest and Breaking News on NDTV


केरल के कोट्टायम के रहने वाले श्रीहरि भी उन लोगों में शामिल हैं जिन्होंने इस आग में अपनी जान गंवाई है. श्रीहरि की तो यह पहली नौकरी थी. अभी करीब महीने भर पहले ही तो कुवैत जाकर नौकरी शुरू की थी. उन्हें तो अभी अपनी पहली सैलरी का इंतजार था. वो अपनी पहली सैलरी से मां को सरप्राइज गिफ्ट देने वाले थे.  लेकिन वो ऐसा कर नहीं पाए. उनके परिवार के लिए तो कुवैत की इमारत में लगी उस आग ने ना सिर्फ उस इमारत को ही जलाया बल्कि उसके साथ-साथ उनके तमाम सपनों को भी खत्म कर दिया है. 

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
संसद का बजट सत्र आज से, 6 बड़े विधेयक होंगे पेश; मुद्दों को लेकर विपक्ष की आक्रामक तैयारी
कुवैत में खाक सपनों का दर्द: ये कोई जाने की उम्र थी... कलेजा चीर रही केरल की यह तस्वीर
निजी कंपनियों में कन्नड़ भाषियों के लिए आरक्षण से जुड़े विधेयक को कर्नाटक सरकार ने ठंडे बस्ते में डाला
Next Article
निजी कंपनियों में कन्नड़ भाषियों के लिए आरक्षण से जुड़े विधेयक को कर्नाटक सरकार ने ठंडे बस्ते में डाला
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;