CDR लीक मामला : दिल्ली पुलिस ने डिटेक्टिव एजेंसी की मालकिन को दबोचा, सूरत में भी दबिश दे रही टीम

बाहरी उत्तरी दिल्ली पुलिस की टीम को शुरुआती जांच के दौरान इनके पास से 70 CDR का रिकॉर्ड मिला है. आगे की जांच की जा रही है. ये पता लगाया जा रहा है कि ये सीडीआर इस्तेमाल के लिए कहां जानी थीं.

CDR लीक मामला : दिल्ली पुलिस ने डिटेक्टिव एजेंसी की मालकिन को दबोचा, सूरत में भी दबिश दे रही टीम

दिल्ली पुलिस की एक टीम गुजरात के सूरत भी पहुंची हुई है.

नई दिल्ली:

CDR लीक मामले में जारी कार्रवाई के बीच दिल्ली पुलिस ने 38 साल की आकृति नाम की महिला को गिरफ्तार किया है. आरोपी महिला आकृति वीनस डिटेक्टिव एजेंसी चलाती है, जो नोएडा में है. इस केस में पहले ही 2 लोग गिरफ्तार हो चुके हैं. गिरफ्तार लोगों में पवन कुमार जो डिटेक्टिव एजेंसी में कर्मचारी था और पंकज झा जो कम्पनी का एसोसिएट है शामिल हैं.

बाहरी उत्तरी दिल्ली पुलिस की टीम को शुरुआती जांच के दौरान इनके पास से 70 CDR का रिकॉर्ड मिला है. आगे की जांच की जा रही है. ये पता लगाया जा रहा है कि ये सीडीआर इस्तेमाल के लिए कहां जानी थीं. वहीं, दिल्ली पुलिस की एक टीम गुजरात के सूरत भी पहुंची हुई है, जहां से ये CDR मंगवाई जाती थी.

बता दें कि दिल्ली में डिटेक्टिव एजेंसी चलाने वाले कई डिटेक्टिव पुलिस के रडार पर हैं. पूरे मामले में बड़े और नामी डिटेक्टिव भी गिरफ्तार हो सकते हैं. पूछताछ में अब तक जो बात सामने आई है वो ये है कि करीब 25 हज़ार रुपए में CDR मुहैया कराए जाते थे. इन आरोपियों को सूरत में बैठा शख्स CDR मुहैया करवाता है. ऐसे में सूरत वाले शख्स की भी तलाश जारी है. 

दिल्ली पुलिस की आउटर नॉर्थ डिस्ट्रिक्ट की AATS की टीम ये पता लगाने में जुटी है कि ये (आरोपी) अब तक कितनी CDR निकाल चुके हैं. पूछताछ में जानकारी मिली है कि कई सालों से ये धंधा चल रहा है. CDR लीक मामले की जानकारी MHA ने भी दिल्ली पुलिस मांगी है. ये एक बड़ा सवाल है कैसे किसी की पर्सनल जानकारी यानि CDR लीक की जा रही है.

यह भी पढ़ें -
-- "मैं प्रवर्तन निदेशालय को आने और रुकने के लिए आमंत्रित करता हूं" : NDTV से तेजस्‍वी यादव
-- "नौकरी देने का वादा तो CM बनने पर था अभी तो हम डिप्टी हैं" गिरिराज ने तेजस्वी पर कसा तंज

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO:नीतीश के साथ सरकार बनाने को लेकर तेजस्वी ने कही ये बात